सदस्य:Violapires97/एम्लि डिकिन्सन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अमेरिकी कवयित्री एमिली डिकिंसन का चित्र

एम्लि डिकिंसन का जन्म १० दिसंबर १८३० एमहर्स्ट, मैसाचुसेट्स में हुआ था। उनकी शांत जीवन एक रचनात्मक ऊर्जा से प्रभावित थी जिसके कारण उन्होंने लगभग १८०० कविताएँ प्रस्तुत किया और जीवंत पत्र की भी लिखा। उनकी बचपन और युवाकाल शिक्षा, पढ़ना, प्रकृति के अन्वेषणों, धार्मिक गतिविधियों, महत्वपूर्ण दोस्ती, और कविता के साथ कई महत्वपूर्ण मुठभेड़ों से भरा था।उनकी सबसे तीव्र लेखन वर्ष उनकी जवानी था जब उन्होंने लगभग ११०० कविताओं की रचना की।उन्होंने अपने काम को प्रकाशित करने के लिए कुछ प्रयास कि, परंतु फिर उन्होंने अपने परिवार और मित्रोंको के सामने अपना काम दर्शाया।उनके जीवन के अंतिम वर्षों डिकिंसन ने अकेले जनता से दूर बिताई। उनके बगीचे, उनके परिवार (विशेष रूप से एवर्ग्रीन्स में उसके भाई के परिवार) और करीबी दोस्तों, और स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं में उनका मन था। कुछ अपवादों के साथ उनकी मृत्यु तक उनकी कविताएँ अप्रकाशित रहा। उनके देहांत के बाद उनकी परिवर और कुछ रिश्तेदारों ने उनकी कविताएँ और जीवन की कहानी को दुनिया भर प्रचार करना चाहा।

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा[संपादित करें]

होमस्टैड मे एमिली डिकिंसन का घर

अमेरिकी साहित्य एम्लि डिकिंसन एलिजाबेथ का जन्म सन १० दिसंबर १८३० एमहर्स्ट, मैसाचुसेट्स में हुआ था। उनका परिवार न्यू इंग्लैंड से था। उनके पैतृक दादा सामूएल डिकिंसन, एमहर्स्ट कॉलेज के संस्थापक के रूप में जाने जाते थे। उनके पिता एमहर्स्ट में राज्य के विधायक के रूप में कार्य करते थे। सन १८२८ में एम्लि के पिता ने उनके माता एम्लि नौरक्रौस से शादी की और तीन बच्चे पैदा की- विलियम ऑस्टिन, लविनिया नौरक्रौस और एम्लि।डिकिन्सन एक उत्कृष्ट छात्र थी जिंहोने सात साल एमहर्स्ट अकादमी (अब एमहर्स्ट कॉलेज) में शिक्षा की और फिर माओन्ट होल्योक सेमिनरी में एक साल पढ़ाई की। सन १८४८ में उनके अकादमी छोडने के कारण अब तक अनजान हैं।कुछ सिद्धांत यह कहते है कि उनके अकादमी छोडने के कारण उनका नाजुक भावनात्मक स्थिति और अकेलापन था और कुछ और यह कहते है कि उनके पिता ने उन्हे अकादमी से निकालने का फैसला किया था।अंतः में डिकिंसन ने किसी भी धार्मिक संस्था में शामिल हुई और फिर उन दिनों के धार्मिक नियमों के खिलाफ गई।

परिवार की गतिशीलता और लेखन[संपादित करें]

डिकिंसन किशोरवस्था के सालों में लिखना शुरू किया। उनके प्रारंभिक प्रभावों लियोनार्ड हम्फ्रे, एमहर्स्ट अकादमी के प्रधानाचार्य और एक पारिवारिक मित्र, बेंजामिन फ्रेंकलिन न्यूटन, जिंहोने डिकिंसन को राल्फ वाल्डो इमर्सन के कविताओं की एक किताब दी। सन १८५५ में, डिकिंसन ने फिलाडेल्फिया, पेनसिल्वेनिया दूर तक एमहर्स्ट के बाहर गई। वहाँ उन्होंने चार्ल्स वैड्सवर्थ नाम के एक मंत्री से दोस्ती की जो बाद में उनके अभिलषित संवाददाता बन गए।अपने साथियों के बीच, डिकिंसन की सबसे करीब सहेली और सलाहकार का नाम सुसान गिल्बर्ट थी। सन १८५६ में, गिल्बर्ट ने डिकिंसन के भाई विलियम से शादी की। डिकिंसन परिवार के एक बड़े घर में रहा करते थे जिसका नाम 'होमस्टेड' था जो की एमहर्स्ट में था। उनकी शादी के बाद विलियम और सुसान होमस्टेड के बगल के एवर्ग्रीन्स नामक तीर पर बस गए। एम्लि और उनकी बहन लविनिया ने उनकी बीमार माँ का अंतिम क्षण तक देखभाल किया। सन १८८२ में उनकी माँ का देहांत हो गया। इसके बाद एम्लि की बहन न व कभी शादी की और एक दूसरे के साथ अपनी मृत्यु तक होमस्टेड में रहे।अंतिम वर्षों के दौरान डिकिंसन की तनहाई पर काफी विचार किया गया है। विद्वानों की यह सोचा है कि अपने बीमार माँ की देखभाल करने की जिम्मेदारि लेकर उन्हे जनातंक (एगोराफोबिया), निराशा या चिंता रूपी स्थिति का सामना करना पड़ा।डिकिंसन ने भी अपनी आँखों की दर्दनाक बीमारी का इलाज कार्वया । सन १८६० के मध्य के बाद उन्होंने अपने घर के बाहर तक न गई। लगभग १८५० - १८६० के मध्य डिकिंसन एक कवि के रूप में सबसे अधिक उत्पादक थी। इस समय के दौरान उन्होंने पद्य के छोटे अंटी (फासिकल्स) लिखना शुरु किया। यह बात उनके परिवार के सदस्य को भी पता नहीं था।अपने खाली समय में, डिकिंसन ने वनस्पति विज्ञान का अध्ययन किया और एक विशाल वनस्पति संग्रहालय का उत्पादन किया।

मृत्यु और अनवेषण[संपादित करें]

डिकिंसन का देहांत १५ मई ११८६ को एमहर्स्ट, मैसाचुसेट्स में गुर्दे की बीमारी से हुआ। वह तब ५५ वर्ष की थी। उनको अपने परिवार के मज़ार पश्चिम कब्रिस्तान पे लेटा गया। होमस्टेड, जहाँ डिकिंसन पैदा हुई थी अब एक संग्रहालय है। डिकिंसन के देहांत के समय उनके कुच काम प्रकाशित किया गया था परंतु इन कामों को संपादित और समय के पारंपरिक मानकों समान बदला कर प्रकाशित किये गये थे। दुर्भाग्य से, इस बदलाव में उनकी वाक्य रचना और फार्म के असामान्य उपयोग की विशेषता खो गई। अपनी बहन के मौत के बाद, लविनिया डिकिंसन ने उनकी की सैकड़ों कविताओं को खोज निकाला जो उन्होंने कई वर्षों में लिखी। इन कार्यों के प्रथम खंड सन १८९० में प्रकाशित किया गया था और पूरा खंड सन १९५५ में प्रकाशित किया गया था जो 'एम्लि डिकिंसन की कविताएँ' के नाम से प्रसिद्ध है।इच्छित रूप में प्रस्तुत किए गए कविताएँ उनके सबसे प्रसिद्ध कविताएँ थीं। वह अपने मार्मिक और संकुचित कविताएँ के लिए जानी जाती है जो गहराई से २०वीं सदी कविता की दिशा को प्रभावित करती है। उनकी साहित्यिक आवाज, साथ ही उनकी एकांतप्रिय और सनकी जीवन की ताकत उन्हे एक अमिट अमेरिकी चरित्र बनाती है जो वर्तमान काल में भी विचार किया गया है।