सदस्य:Vikramgakhar/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search


सहिष्णुता विरोधाभास कहता है कि यदि किसी समाज में असीमित सहिष्णुता है तो उसकी सहिष्णुता की क्षमता अन्ततः असहिष्णु तत्वों द्वारा ग्रस्त या नष्ट कर दी जाती है।

इसका सबसे पहले 1945 में कार्ल पॉपर ने विवरण किया था - "एक सहिष्णु समाज को चलाने के लिये असहिष्णुता के प्रति असहिष्णु होना आवश्यक है।"