सदस्य:Shubham h deora/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सोफ्ट ड्रिंक्स[संपादित करें]

   सोडा ड्रिन्क्स यानि पानी मे घुली कार्बन डाइ ऑक्साइड वाले कार्बोनेटेड पेय को सोडा वाटर भी कहा जाता है | इसमे, मिनरल वाटर के साथ साथ सोडियम बायकार्बोनेटे भी घुला होता है| इसे क्लब सोडा , सेल्ट्जर ,फिजजी वाटर भी कहा जाता है| इसके अलावा नमक के रुप मे सोडियम क्लोराइड और खाने का सोडा यानि सोडियम कार्बोनेट हमारे सोडा का प्रमुख स्त्रोत है| सोडयुक्त पेय मे चीनी, स्वीटनर ,डाई, केमिकल्स ,और कैफीन घोल कर इन्हे ज़्यादा लज़ीज़ और आकर्शक बनाया जाता है| दर्जनो नामो और ब्रांडो के सोडा पेय हमारी ज़िंदगी का हिस्सा बन गए हैं| विश्व स्वास्थय संघटन से लेकर तमाम विशेषञो की जहरीले रसायनों के घालमेल की चेतावनी के बावजुद पुरी दुनिया इनकी दीवानी है लेकिन, जब अगली बार आप कोइ सोडा युक्त ड्रिंक पि रहे हो तो निचे दिए हुए खतरों को ध्यान में अवश्य रखे | [1] 
 

दुष्परिणाम[संपादित करें]

सोडा युक्त पेय पिने से शरीर पर कौन से गम्भीर दुष्परिणाम होते हैं? [2]
  दांत : सोडा पेय में मौजुद फास्फोरिक और सिट्रिक एसिड मुंह के पि-एच संतुलन को बिगाडकर दांतो को अतिसंवेदनशील बना देता हैं|मस्तिष्क कोषिका: सोडे मैं काम मे आनेवाले फूड डाई या नकली स्वीटनर मस्तिष्क कोशिकाओं पर बुरा असर डालती हैं|बुढापा :सोडा मैं फ़ॉस्फेट और फ़ॉस्फोरिक  एसिड शरीर को जल्द बूढा बना देता हैं|मधुमेह : हफ्ते मैं दो से ज्यादा सोडा पीनेवालों को मधुमेह होने क खतरा ६७% अधिक रहता हैं| <ह्रदय रोग :सोडा पिने से ह्रदय की रक्त धमनी मोटी और संकीर्ण हो जाति है जिससे हार्ट अटैक होने का खतरा दोगुना बढ जाता हैं|ब्लड प्रेशर :नियमित सोडा ड्रिंक्स पिने वालो को बल्ड प्रेशर का रोग घेर लेता हैं| किडनी की पथरी :हर एक मीठा सोडा पेय पिने की आदत आपकी किडनी में पथरी की आशंका को ३३%से बढा देती हैं|प्रोस्टेट का कर्करोग: सोड पिने से प्रोस्टेट का कैंसर होने की संभावना ४०% से बढ जाती हैं|यकृत विकार  :जो व्यक्ति हमेसशा सोड पिने का आदि होता है उनके लिवर मैं फैट सेल्स जमा होने शुरु हो जाते हैं| फैटी लिवर होने से लिवर के कार्यक्षमता पर विपरीत परीणाम पडता हैं|अस्थिक्षय :खासकर ब्च्चों मैं नियमित सोडा ड्रिंक पिने से कैल्शियम का क्षय हो जाता हैं जिस वजह से हड्डिया कमजोर हो जाती हैं |पानी की कमी: सोडा में कैफीन और चीनी की अधिल मात्रा होने से शरीर में पानी की कमी होने के खतरा अधिक रहता हैं|पैंक्रियास विकार : दो बोतल सोडा पेय यानि पैंक्रिएटिक कैंसर होने का खतरा ७८% से अधिक हो जाता हैं|पोषकतत्व :सोडा पेय यह एक जिरो/शुन्य पोषण शीत पेय हैं| इससे केवल आपको पोषणरहित कैलोरीज मिलती हैं जो की केवल आपका वजन बढने का काम करती हैं|


सिधे तौर पर तो नहीं लेकिन रसायनयुक्त मीठे सोडा पेय के कारण दुनियाभर में हर साल हज़ारों काल के मुंह में समा जाते हैं |शरीर के लिए एसे हानिकारक शीत पेय पिने की जगह प्राकृतिक , स्वच्छ और पौष्टिक पेय पिना चाहिए जैसे की निंबु पानी, केरी का पन्ना,फलों क जुस ,वेजिटेबल सुप इत्यादी| सोफ्ट ड्रिन्क्स मनुष्य कि सेहत के लिए हानिकारक साबित होता है|

  1. https://www.britannica.com/topic/soft-drink
  2. https://www.hsph.harvard.edu/nutritionsource/healthy-drinks/soft-drinks-and-disease/