सदस्य:Raghuttam h/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रघुत्तम होंबल[संपादित करें]

मेरा नाम रघुत्तम होबंल है। मैं फिल्हाल तो बेंगलुरु मे रहता हूं लेकिन मेरा मूल गांव लक्ष्मेश्वर, कर्नटक, है। मैं क्राइस्ट युनिवर्सिटि, बेंगलुरु मे बी एस सी (पी एमा ई) कर रहा हु। मेने अपनी प्रुष्ठभूमी, परिवार, रुचियों आदि के बारे मे नीचे वर्णन किया है।

प्रुष्ठभूमी[संपादित करें]

मेरा जन्म ०८/०५/१९९९ मे राणेबेन्नुर, कर्नाटक मे हुआ। पिता श्रीपादराज होबंल और माँ रेवती होबंल। मैं गदग नामक एक छोटे से जिला के लक्षमेश्वर नामक गाँव से हूं जहा पर हमारा सयुंक्त परिवार है। लक्षमेश्वर कर्नाटक के राजधानी बेंगलुरु से तकरीबन ४०० किलोमिटर दूर है। मैने अपने जीवन के शुरुवाती १२ साल उदर ही गुज़ारा है। मेरे पिताश्री बैंक मे होने के कारण उनक वर्गावण होता ही रहता था जिसके वझह से कई सारे शहर मे रहना पडा।

परिवार[संपादित करें]

हमरा परिवार एक संयुक्त परिवार है। मेरे दादाजी के ७ बच्चे थे - ६ बेटे और एक बेटि। अपने माँ-बाप के लिये मे इकलोता बेटा हु पर मेरे २ भाइ और ६ बेहेने है जिनमे ३ बेहेनों से बडा हूँ। कुछ साल पेहेले सब साथ मे रहते थे पर सब की नौकरी के कारण गाँव छोडना पडा। लेकिन आज भी हर रविवार को सब गाँव आजाते है। मेरे पिताश्री गदग जिला मे बैंक अधिकारि है और माँ ग्रुहिणि।

शिक्षा[संपादित करें]

गाँव मे रहने के बावजूद भी मैने अपनी शिक्षा आंग्ल माध्यम शालाओं मे ही करता आया हूँ। दूसरी कक्षा तक लक्षमेश्वर मे, फिर साथवी तक गदग मे और दसवी कक्षा हुब्बली मे करने के बाद मैने अपनी ११ और १२ के लिये मैसुरु मे किया। जिसके बाद मे बेंगलुरु आगय बि एस सी के लिये।

रुचियाँ[संपादित करें]

मेरा सबसे पसंदीदा काम है प्रवास करना। मैं जिंदगी सिर्फ यहि चाहा है की मुझे नईं जगह देखने को मिले और मैं उसे ढूंडू। उसके अलवा मुझे संगीत सुनने का बहुत शोक है चाहे वहे किसि भी किस्म का हो और मस्ती मे नाच भी लेता हूं। क्रीडों मे मुझे वोली-बाल खेलन बहुत पसंद है और कुछ हद तक खेल भी लेता हूं।

उपलब्धियाँ[संपादित करें]

मेरा संगीत मे दिलचस्ती थी और मेने हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत मे राज्य सरकार द्वारा आयोजित जूनियर परीक्षा भी पूर्ण कर लिया है। दो साल तक अपने जिला विभाग के फूट-बाल प्रतियोगिता मे भी भाग लिया था। कन्नड कविता लेखन प्रतियोगिता मे जिला के लिया द्वितिया स्थान मिला था।