सदस्य:Manav2406/sandbox

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Manav2406/sandbox
[[Image:
Leader of opposition,Bihar Assembly
|225px|Manav2406/sandbox]]

निर्वाचन क्षेत्र पटना पूर्व

जन्म 28 अगस्त 1953 (1953-08-28) (आयु 65)
पटना
राष्ट्रीयता भारतीय
राजनैतिक पार्टी भारतीय जनता पार्टी
जीवन संगी स्व किरण देवी
संतान दो पुत्र और दो पुत्री
आवास पटना,बिहार
पेशा राजनीतिज्ञ
समाज सेवा
वेबसाइट http://www.nandkishoreyadav.com
As of 25 Oct, 2014
Source: Government of Bihar

नंद किशोर यादव बिहार विधानसभा में नेता विपक्ष हैं। जून 2013 में राजग से जदयू के विभाजन से पहले वे बिहार सरकार में सड़क निर्माण और पर्यटन के कैबिनेट मंत्री थे। वे भाजपा के वरिष्ठ नेता होने के अलावा आरएसएस के सदस्य भी हैं।

राजनैतिक जीवन[संपादित करें]

श्री यादव के राजनैतिक सफर की शुरुआत छात्र जीवन से आरंभ हो गई थी। ये वो दौर था जब देश जय प्रकाश नारायण आंदोलन से रूबरू हो रहा था। श्री नंद किशोर यादव समाज में हो रहे बदलाव को करीबी से देख रहे थे, समझ रहे थे। 1969 में श्री नंद किशोर य़ादव राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के जुड़ गए। यही से उनके जीवन को मिला नया मार्गदर्शन। 1974 में वो पटना सिटी छात्र संघर्ष समिति के अध्यक्ष बने। एक छात्र नेता के रूप में उनका काम और प्रभाव लगातार बढ़ रहा था। जेपी आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाते हुए श्री नंद किशोर यादव को जेल में भी कुछ दिन गुज़ारने पड़े। लेकिन जो लोग राष्ट्र निर्माण के पथ पर चलने की शपथ लेते हैं, वो किसी भी बाधा के सामने झुकते नहीं। इसी सोच के साथ श्री नंद किशोर यादव निरंतर कर्म करते रहे। 1982 में उन्होंने पटना नगर निगम के उप महापहौर का पदभार संभाला। अगले साल उन्हें भाजपा के पटना महागनर अध्यक्ष की ज़िम्मेदारी संभालने के लिए चुना गया। 1983 और 1990 के बीच, नंद किशोर यादव ने भारतीय जनता युवा मोर्चा में कई महत्वपूर्ण दायित्वों का निर्वाहन किया। उसके बाद साल 1990 - 1995 के बीच उन्होंने युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष के रूप में काम किया। इसे संगठन और आम जनता का श्री नंद किशोर यादव पर अटूट विश्वास ही कहेंगे कि जिस निर्वाचन क्षेत्र से उन्होंने 1995 में पहली बार विधायक पद के लिए चुनाव लड़ा था, उस सीट पर उन्हें हमेशा जीत हासिल हुई है। 1995 में वो पटना पूर्वी क्षेत्र से विधायक चुने गए । अब तक वो लगातार चार बार इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। 2003 में उन्होंने एन.डी.ए के प्रदेश संयोजक के तौर पर ज़िम्मेदारी संभाली, साथ वो भाजपा राष्ट्रीय कार्य समिति और केंद्रीय अनुशासन समिति के सदस्य भी बने। एक वक्त था जब खराब सड़के बिहार की पहचान बन गई थी । लेकिन जैसे ही 2005 में श्री नंद किशोर यादव को पथ निर्माण और पर्यटन विभाग की ज़िम्मेदारियां दी गई, उन्होंने बिहार की इस छवि को बदल दिया और साफ सुधरी बिना गड्ढों की सड़कों ने बिहारवासियों का दिल जीत लिया। 2008 में श्री नंद किशोर यादव को राज्य सरकार में स्वास्थय मंत्रालय का ज़िम्मा सौंपा गया। बिहार में स्वास्थ्य सुविधाएं आम नागरिकों तक पहुंचाना एक चुनौतीपूर्ण काम था, लेकिन उन्होंने प्रदेशवासियों को निराश नहीं किया और जनता की कसौटी पर खरे उतरे। 2010 में एक बार फिर उन्हें पथ निर्माण और पर्यटन विभाग का कार्यभार संभाला । उन्होंने इस बार भी जनता की अपेक्षाओं को पूरा किया। और अब एक बार फिर श्री नंद किशोर यादव एक सच्चे कार्यकर्ता की तरह पार्टी के मिशन 175+ को हकीकत में बदलने के लिए जुट गए हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]


बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]