सदस्य:Chandra1610349/प्रयोगपृष्ठ/बैंक धोखाधड़ी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

बैंक धोखाधडी

परिचय[संपादित करें]

बैंक धोखाधड़ी एक अपराधिक कृत्य है। यह तब होता है जब कोई व्यक्ति किसी बैंक या अन्य वित्तीय संस्थान से धन या संपत्ति प्राप्त करने के लिए अवैध तरीके का उपयोग करता है।[1] बैंक धोखाधड़ी को एक सफेद कॉलर अपराध माना जाता है(वित्तीय लाभ के उद्देश्य के लिए भ्रामक प्रथाओं के माध्यम से किए गए अहिंसात्मक अपराध)। एक व्यक्ति दर्जनो तरिकों से बैंक धोखाधड़ी कर सकता है। इन योजनाओं में से कुछ अधिक जटिल होते हैं, और अधिक लोगों या संस्थानों को प्रभावित करते हैं। बैन्क धोकाधडी तब से हो रहा है जब से बैन्कों का अस्तित्व है। बैंक धोखाधड़ी एक गंभीर समस्या है जो अरबों डॉलरों की नुक्सान का कारण बना है। चीना मे बैंक धोकाधडी के लिए मृत्यु से दंडित किया जाता है। हर वर्ष लाखों लोग बैंक धोखाधड़ी के कारण होने वाले मौद्रिक नुक्सान के शिकार हो जाते हैं।

वेल फार्गो काउंटरफ़िट कैशियर चेक

कुछ प्रकार के बैंक धोखाधड़ी इस प्रकार हैं[संपादित करें]

चेक किटिंग[संपादित करें]

चेक किटिंग एक बैंकिंग प्रणाली का लाभ उठाती है जिसे "फ्लोट" के नाम से जाना जाता है।[2] इसमें धन अस्थायी रूप से दो बार गिना जाता है। उदाहरण के लिए: जब कोई चेक को, बैंक एक्स में किसी खाते में जमा किया जाता है, उस खाते में धन तुरंत उपलब्ध कराया जाता है,भले ही धन की इसी राशि को बैंक वाई में खाते से नही निकाला जाता है, जहा पर चेक को तैयार किया गया। इसके वजह से दोनों बैंक अस्थायी रूप से चेक राशि को परिसंपत्ति के रूप में तब तक गिन्ते हैं जब तक बैंक वाई पर चेक को औपचारिक रूप से हटाया नहीं जाता है।

धोखाधड़ी और आलटर्ड चेक[संपादित करें]

एक असली जांच के साथ छेड़छाड़ करने की बजाय, धोखेबाज वैकल्पिक रूप से एक रिक्त जांच पर जमाकर्ता के हस्ताक्षर को बनाने का प्रयास कर सकते हैं या दूसरों के स्वामित्व वाले खातों, गैर-मौजूद खातों आदि पर अपना स्वयं का चेक मुद्रित कर सक्ते है। वे बाद में एक और बैंक के माध्यम से धोखाधड़ी जांच को नकद करेंगे और बैंको को इस धोखाधडी के बारे मे पता चलने से पेहले पैसे को बैंक से निकाल देते है।

लेखांकन धोखाधड़ी[संपादित करें]

गंभीर वित्तीय समस्याओं को छिपाने के लिए, कुछ व्यवसायों मे बिक्री और आय को अतिरंजित करने के लिए, कंपनी की परिसंपत्तियों के मूल्य में बढ़ोतरी, या कंपनी को नुकसान होने पर काम कर रहे लाभ का विवरण देने के लिए धोखाधड़ी बहीखाता पद्धति की उपयोग किया गया है।[3] इन छेड़छाड़ किए रिकॉर्डों का उपयोग कंपनी के बॉन्ड में निवेश करने के लिए, किसी गैर-लाभकारी या अनुचित प्रबंधन कंपनी के अपरिहार्य पतन में देरी करने के लिए अधिक धन प्राप्त करने के अंतिम प्रयास में सुरक्षा संबंधी मुद्दों या फसलों के ऋण आवेदन करने के लिए उपयोग किया जाता है।

धोखाधड़ी ऋण[संपादित करें]

धोखाधड़ी ऋण मे, उधारकर्ता एक व्यापारिक इकाई है जो बेईमान बैंक अधिकारी या सहयोगी द्वारा नियंत्रित होता है। और बाद मे उधारकर्ता दिवालिएपन की घोषणा करता है या गायब हो जाता है और साथ ही पैसा भी ले जाता है। इस परिस्थिति मे उधारकर्ता एक गैर अस्तित्व इकाई भी हो सकता है।

बूस्टर चेक[संपादित करें]

बूस्टर चेक एक धोखाधड़ी या खराब चेक है जो किसी क्रेडिट कार्ड खाते में भुगतान करने के लिए अन्यथा वैध क्रेडिट कार्डों पर उपलब्ध क्रेडिट की मात्रा बढ़ाने के लिए उपयोग किया जाता है। चेक अभी तक साफ़ नहीं हुआ है तो भी,जैसे ही भुगतान किया जाता है, चेक की राशि बैंक द्वारा कार्ड खाते में जमा की जाती है।

इंटरनेट धोखाधड़ी[संपादित करें]

इंटरनेट धोखाधड़ी एक ऐसी धोखाधड़ी है जिस्मे इंटरनेट का उपयोग किया जाता है। इस प्रकार की धोखाधड़ी कई रूपों में प्रकट होती है। इंटरनेट धोखाधड़ी, जाली ईमेल भेजकर या एक ऑनलाइन बैंक का प्रतिरूपण करने से संचालित होती है।[4] इनके द्वरा मिला हुआ जानकारीयों को अन्य धोखाधड़ी में इस्तमाल किया जाता है जैसे ऑनलाइन नीलामी धोखाधड़ी की चोरी और आदी।

मनी लाँडरिंग[संपादित करें]

मनी लाँडरिंग एक प्रक्रिया है जिसके द्वारा अवैध रूप से प्राप्त धन (मादक पदार्थों की तस्करी, आतंकवादी गतिविधियों या अन्य गंभीर अपराधों) की एक बड़ी मात्रा को एक वैध स्रोत से उत्पन्न होने की उपस्थिति दी गई है। मनी लॉन्ड्रिंग एक एकल प्रक्रिया है और प्लेसमेंट,स्तर,एकता मनी लॉन्ड्रिंग के अन्य चरणे है।

निष्कर्ष[संपादित करें]

बैंक धोखाधड़ी लगभग हमेशा एक संघीय अपराध है। बैंक धोखाधड़ी सभी नागरिकों से संबंधित है। यह एक बहुत ही संवेदनशील मुद्दा है क्योंकि यह सार्वजनिक विश्वास को प्रभावित करता है जिस पर संपूर्ण बैंकिंग प्रणाली पूर्व-प्रमुख रूप से आधारित है। बैंक धोखाधड़ी में सभी तरह के गैर-अनुचित व्यवहार, गड़बड़ी, जांच, बैंक ड्राफ्ट, बिल या खातों के बयान, प्रतिभूतियां आदि जैसे समझौता करने योग्य साधनों के जोड़ तोड़ शामिल हैं। चेक एक प्रमुख क्षेत्र हैं जहां धोखाधड़ी चेक पर नकली हस्ताक्षर डालकर प्रतिबद्ध हैं। बैंक धोखाधड़ी के लिए उसमे शामिल व्यक्ति को एक दंड के रूप मे उसे १०००००० डोलर का जुर्माना देना पडेगा और तीस साल तक कैद भी हो सक्ता है।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. https://legaldictionary.net/bank-fraud/
  2. https://en.wikipedia.org/wiki/Bank_fraud
  3. https://www.investopedia.com/ask/answers/032715/what-accounting-fraud.asp
  4. http://cyberlawsindia.net/internetfraud.html