संबद्ध विपणन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Internet marketing
Display advertising
Email marketing
E-mail marketing software
Interactive advertising
Cloud marketing
Social media optimization
Web analytics
Cost per impression
Affiliate marketing
Cost per action
Contextual advertising
Revenue sharing
Search engine marketing
Search engine optimization
Pay per click advertising
Paid inclusion
Search analytics
Mobile advertising

संबद्ध विपणन (affiliate marketing) एक ऐसा विपणन (मार्केटिंग) तरीका है जिसमें व्यापार द्वारा, एक या एकाधिक संबद्ध सहयोगियों के विपणन प्रयासों के परिणाम स्वरुप आये आंगतुक या ग्राहक हेतु उसे पुरस्कृत किया जाता है।[1] इसके उदाहरण में पुरस्कार स्थान या क्षेत्र शामिल है, जहाँ किसी प्रस्ताव की समाप्ति पर या क्षेत्र में अन्य व्यक्तियों को भेजने हेतु प्रयोक्ताओं को नकद या उपहार द्वारा पुरस्कृत किया जाता है। इस उद्योग में चार प्रमुख खिलाड़ी होते हैं: व्यापारी (जिसे 'रीटेलर' या "ब्रांड" के नाम से भी जाना जाता है), नेटवर्क, प्रकाशक (जिसे 'संबद्ध' के नाम से भी जाना जाता है), एवं ग्राहक. संबद्ध प्रबंधन एजेंसियां, सुपर संबद्ध एवं विशेष तृतीय पक्ष वेंडर सहित माध्यमिक (द्वितीयक) खिलाड़ियों को प्रमाणित करने के लिए बाज़ार ने जटिलता में विकास किया है।

संबद्ध विपणन प्रायः कुछ हद तक अन्य इंटरनेट विपणन तरीकों को ढ़ांकता या आच्छादित करता है क्योंकि संबद्ध प्रायः नियमित विपणन तरीकों का प्रयोग करते हैं। इन तरीकों में आर्गेनिक सर्च इंजन ऑप्टीमाइजेशन, पेड सर्च इंजन मार्केटिंग, इ-मेल मार्केटिंग और कुछ में डिस्प्ले विज्ञापन शामिल हैं। दूसरी ओर, संबद्ध कई बार कम रूढ़िगत तकनीकों का प्रयोग करते हैं जैसे एक सहभागी द्वारा दी गयी सेवाओं या उत्पादों की समीक्षा का प्रकाशन.

संबद्ध विपणन - एक वेबसाइट का प्रयोग करते हुए अन्य की ओर यातायात मोड़ना - ऑनलाइन विपणन का एक रूप है, जिस पर विज्ञापन दाताओं द्वारा अक्सर ध्यान नहीं दिया जाता.[2] जबकि सर्च इंजन, ई-मेल एवं वेबसाइट सिंडीकेशन ऑन लाइन रीटेलरों का ध्यान अधिक आकृष्ट करते हैं, संबद्ध विपणन तुलनात्मक रूप से कम ध्यान आकृष्ट करता है। लेकिन फिर भी, ई-रीटेलरों की विपणन योजनाओं में संबद्ध की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है।[3]

इतिहास[संपादित करें]

मूल[संपादित करें]

निर्दिष्ट व्यवसायों के लिए आय सहभाजन-भुगतान कमीशन का सिद्धांत संबद्ध विपणन तथा इंटरनेट से पहले का है। मुख्यधारा के ई-कॉमर्स में आय सहभाजन के सिद्धांतों का समावेश नवंबर 1994 में वर्ल्ड वाइड वेब के उद्भव के लगभग चार वर्ष बाद हुआ।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

विपणकों (मार्केटर) एवं उद्योग के परिपक्व प्रतिभागियों में यह सर्वसम्मति है कि लागत प्रति क्लिक प्रोग्राम के साथ संबद्ध विपणन में साइबर इरोटिका या तो प्रथम या प्रारंभिक नवोन्मेषकों में है।[4]

नवंबर 1994 के दौरान, सीडीएनओडब्ल्यू (CDNOW) ने अपना बाई वेब (BuyWeb) प्रोग्राम प्रारंभ किया। इस प्रोग्राम के साथ सीडीएनओडब्ल्यू (CDNOW) ऐसी पहली गैर वयस्क वेबसाइट थी जिसने क्लिक-थ्रू परचेसिंग के अपने विचार के साथ संबद्ध या सह प्रोग्राम का सिद्धांत प्रारंभ किया। सीडीएनओडब्ल्यू (CDNOW) का यह विचार था कि संगीत - उन्मुख वेबसाइटें अपने पेजों पर एल्बमों की समीक्षा या सूची प्रकाशित कर सकती हैं जिसे उनके दर्शक क्रय करने के इच्छुक हो सकते हैं। ये वेबसाइटें एक लिंक भी प्रस्तावित कर सकती हैं जो दर्शक को एल्बमों को क्रय करने हेतु सीडीएनओडब्ल्यू (CDNOW) तक ले जाये. दूरस्थ क्रय का विचार मूल रूप से वर्ष 1994 के पतन में संगीत लेबल गिफिन रिकॉर्डस के साथ विचार विमर्श के कारण आया। गिफिन का प्रबंधन अपने कलाकारों की सी डी को सीधे अपनी वेबसाइट के माध्यम से विक्रय करना चाहता था परंतु यह क्षमता स्वयं कार्यान्वित करना नहीं चाहता था। गिफिन ने सीडीएनओडब्ल्यू (CDNOW) से पूछा कि क्या वे ऐसा प्रोग्राम डिजाइन कर सकते हैं जिसके द्वारा सीडीएनओडब्ल्यू (CDNOW) आदेशों की आपूर्ति का कार्य कर सके. गिफिन को यह समझ में आ गया कि सी डी एन ओ डब्ल्यू (CDNOW) अपनी वेबसाइट से गिफिन की वेबसाइट तक सीधे कलाकार से लिंक स्थापित कर सकते हैं, जिसमें सी डी एन ओ डब्ल्यू (CDNOW) होम पेज को बाईपास करते हुये एक कलाकार के संगीत पेज तक जाया जा सकता है।[5]

Amazon.com (अमेज़न) ने अपना सह प्रोग्राम जुलाई 1996 में प्रारंभ किया। अमेज़न के सह प्रतिनिधि व्यक्तिगत पुस्तकों हेतु अपनी वेबसाइट पर बैनर एवं परीक्षण लिंक या सीधे अमेजन होम पेज पर लिंक लगा सके.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

जब दर्शक सह प्रतिनिधि की वेबसाइट के माध्यम से अमेज़न की वेबसाइट पर क्लिक करके पुस्तक खरीदता है, तो सह प्रतिनिधि को उसका कमीशन मिल जाता है। अमेज़न संबद्ध प्रोग्राम प्रस्तावित करने वाला पहला व्यापारी नहीं था लेकिन इसका प्रोग्राम सर्वप्रथम सुपरिचित हुआ एवं बाद के प्रोग्रामों हेतु एक मॉडल के रूप में तैयार हुआ।[6][7]

फरवरी 2000 में, अमेज़न ने यह घोषणा की कि उसे संबद्ध प्रोग्राम के प्रत्येक आवश्यक अवयवों पर पेटेंट[8] प्राप्त हुआ है। पेटेंट का आवेदन जून 1997 में किया गया था जो अन्य ज़्यादातर संबद्ध प्रोग्रामों से पहले था, लेकिन इसके पूर्व पी सी फ्लावर्स एण्ड Gifts.com (अक्टूबर 1994), AutoWeb.com (अक्टूबर 1995), Kbkids.com/BrainPlay.com (जनवरी 1996), ई पेज (अप्रैल 1996) तक कई अन्य आवेदन थे।[4]

ऐतिहासिक विकास[संपादित करें]

अपने उद्भव से अब तक संबद्ध विपणन ने तेजी से विकास किया है। ई-कामर्स वेबसाइटें, जिन्हें इंटरनेट के शुरुआती दिनों में एक विपणन खिलौने की तरह देखा गया, अब संपूर्ण व्यापार योजना का अभिन्न अंग बन गई हैं एवं कुछ मामलों में ये मौजूद ऑफ लाइन व्यापार से भी आगे निकल कर बड़े व्यापार में तब्दील हो गयी हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार अकेले यूनाइटेड किंगडम में वर्ष 2006 में संबद्ध नेटवर्क के द्वारा कुल विक्रय राशि £ 2.16 बिलियन अर्जित की गयी। वर्ष 2005 में विक्रय में आंकलन £ 1.35 बिलियन था।[9] मार्केटिंग शेरपा की अनुसंधान टीम ने यह आंकलन किया कि वर्ष 2006 में विश्वभर में संबद्धों ने रीटेल, व्यक्तिगत वित्त, खेल एवं जुआ, यात्रा, दूरसंचार, शिक्षा, प्रकाशन, संदर्भित विज्ञापन प्रोग्रामों से पृथक लीड उत्पादन के रूपों आदि विभिन्न स्त्रोतों से दान एवं कमीशन के जरिये 6.5 बिलियन अमेरिकी डॉलर की आय अर्जित की.

वर्तमान में वयस्क, जुआ बाजी, एवं रीटेल उद्योग संबद्ध विपणन के सर्वाधिक सक्रिय क्षेत्र हैं।[10] सर्वाधिक वृद्धि प्राप्त करने हेतु संभावित तीन क्षेत्रों में मोबाइल फोन, वित्त एवं यात्रा क्षेत्र शामिल हैं।[10] इन क्षेत्रों के बाद मनोरंजन (विशेषकर खेल) एवं इंटरनेट संबंधित सेवायें (विशेषकर ब्रॉडबैंड) क्षेत्र आते हैं। इसके अलावा कई संबद्ध समाधान प्रदानकर्ताओं (ऐफीलिऐट सॉल्युशन प्रोवाइडर) को व्यापार-से-व्यापार विपणकों एवं विज्ञापन दाताओं से संबद्ध विपणन का प्रयोग करते हुये आय में बढ़ोत्तरी की आशा है।[10]

वेब 2.0[संपादित करें]

वेब 2.0 सिद्धांतों पर आधारित वेबसाइटें एवं सेवायें - उदाहरणतः ब्लागिंग एवं इंटरैक्टिव ऑनलाइन समुदायों का संबद्ध विपणन दुनिया पर भी असर पड़ा है। नये मीडिया ने व्यापारियों को उनके संबद्धों के नजदीक आने की एवं उनके मध्य संप्रेषण में सुधार की सुविधा प्रदान की है।[11][12]

वेतन पद्धति[संपादित करें]

प्रमुख क्षतिपूर्ति तरीके[संपादित करें]

आज अस्सी प्रतिशत संबद्ध प्रोग्राम आय सहभाजन या लागत प्रति विक्रय (सीपीएस (CPS)) का प्रयोग क्षतिपूर्ति तरीके के रूप में करते हैं, उन्नीस प्रतिशत लागत प्रति कार्य (सीपीए (CPA)) एवं शेष अन्य प्रोग्राम अन्य तरीकों जैसे कि लागत प्रति क्लिक (सीपीसी (CPC)) या लागत प्रति माइले (mille) (सीपीएम (CPM)) का प्रयोग करते हैं।[13]

कम प्रचलित क्षतिपूर्ति तरीके[संपादित करें]

अधिक परिपक्व बाज़ारों में, एक प्रतिशत से कम परंपरागत संबद्ध विपणन प्रोग्राम वर्तमान में लागत प्रति क्लिक (सीपीसी (CPC)) एवं लागत प्रति माइले (mille) (सीपीएम (CPM)) का प्रयोग करते हैं। हालांकि, इन क्षतिपूर्ति तरीकों का डिस्प्ले विज्ञापन एवं भुगतान खोज में बड़ी मात्रा में प्रयोग हो रहा है।

लागत प्रति माइले (mille) हेतु केवल यह आवश्यक है कि प्रकाशक अपनी वेबसाइट पर विज्ञापन उपलब्ध कराये एवं इसे आगंतुकों हेतु प्रदर्शित करे ताकि कमीशन प्राप्त हो सके. लागत प्रति क्लिक में एक प्रकाशक के लिए मुनाफा कमाने की रूपान्तर प्रक्रिया में एक अतिरिक्त कदम की आवश्यकता होती है : एक आगंतुक को केवल एक विज्ञापन के प्रति जागरुक बनाने की ही आवश्यकता नहीं है वरन वह प्रकाशक की वेबसाइट पर भ्रमण हेतु विज्ञापन पर क्लिक भी करना ज़रूरी है।

संबद्ध विपणन के प्रारंभिक दिनों में लागत प्रति क्लिक सामान्यतः अधिक प्रचलित था, लेकिन समय के साथ इसका प्रयोग कम होता गया क्योंकि इसमें धोखाधड़ी पूर्ण क्लिक मामले दृष्टिगोचर हुये जैसे कि वर्तमान में आधुनिक सर्च इंजन में क्लिक धोखाधड़ी मामले दिखाई दे रहे हैं। संदर्भित विज्ञापन प्रोग्रामों को लागत प्रति क्लिक के घटते प्रयोग के कारण सांख्यिकी में शामिल नहीं किया गया है, क्योंकि यह अनिश्चित है कि संदर्भित विज्ञापन को संबद्ध विपणन माना जा सकता है।

यद्यपि परिपक्व ई-कॉमर्स एवं ऑनलाइन विज्ञापन बाज़ारों में ये मॉडल कम हो गये हैं, लेकिन ये कुछ नवजात उद्योगों में अभी भी प्रचलित हैं। चीन एक उदाहरण है, जहां संबद्ध विपणन पश्चिम के इसी मॉडल से मेल नहीं खाता. कई संबद्धों को "लागत प्रति दिन" की दर से भुगतान हो रहा है तथा कुछ नेटवर्क लागत प्रति क्लिक या सीपीएम (CPM) प्रदान कर रहे हैं।

कार्य-निष्पादन विपणन[संपादित करें]

लागत प्रति माइले (mille)/ क्लिक के मामले में, श्रोता सदस्य होने के कारण प्रकाशक किसी आगंतुक के बारे में फ्रिकमंद नहीं रहता जिसे कि विज्ञापनदाता आकर्षित करने का प्रयास करता है तथा रूपांतरित करने में सफल होता है, क्योंकि इस समय तक प्रकाशक को अपना कमीशन प्राप्त हो चुका होता है। इससे विज्ञापनदाता को अधिक तथा लागत प्रति माइले (mille) के मामले में पूर्ण जोखिम एवं नुक्सान उठाना पड़ता है (यदि आगंतुक रूपांतरित नहीं किया जा सके).

लागत प्रति कार्य/ विक्रय तरीकों में संबद्ध को कमीशन प्राप्ति हेतु विज्ञापनदाता की वेबसाइट पर आगंतुक को भ्रमण के अतिरिक्त भी कार्य करना होता है। विज्ञापनदाता को सर्वप्रथम आगंतुक को रूपांतरित करना होगा. यह संबद्ध के सर्वाधिक हित में है कि वह विज्ञापनदाता तक सबसे नज़दीकी रूप से लक्षित यातायात को भेजे ताकि रूपांतरण की संभावना में वृद्धि हो सके. इसमें संबद्ध एवं विज्ञापनदाता के मध्य जोखिम और नुक्सान का समान वितरण होता है।

संबद्ध विपणन को "निष्पादन विपणन " भी कहा जाता है, विशेषकर विक्रय कार्मिकों को क्षतिपूर्ति प्रदान करने के संबंध में. इन कार्मिकों को उनके प्रत्येक विक्रय हेतु कमीशन का भुगतान किया जाता है एवं कभी-कभी उन्हें लक्ष्य की पूर्ति कर लेने पर निष्पादन प्रोत्साहन भी प्रदान किया जाता है।[14] संबद्धों को विज्ञापनदाता द्वारा उनके उत्पाद और सेवाओं के प्रोत्साहन हेतु रोज़गार प्रदान नहीं किया जाता, लेकिन संबद्ध विपणन में लागू क्षतिपूर्ति मॉडल विज्ञापनदाता के आंतरिक विक्रय विभाग के व्यक्तियों के प्रयोग से काफी समान है।

यह कहावत कि "संबद्ध व्यक्ति आपके व्यापार हेतु विस्तारित विक्रय शक्ति हैं", जिसे संबद्ध विपणन की व्याख्या हेतु प्रायः प्रयोग किया जाता है, पूर्णतः सटीक नहीं है। इन दोनों के मध्य प्राथमिक अंतर यह है कि विज्ञापनदाता की वेबसाइट पर किसी भी संभावित ग्राहक के निर्देशित होने पर उसकी रूपांतरण प्रक्रिया पर संबद्ध विपणक बहुत कम प्रभाव डालता है। विज्ञापनदाता की विक्रय टीम का, हालांकि, संभावित ग्राहक पर तब तक नियंत्रण एवं प्रभाव होता है, जब तक कि वह ठेके पर हस्ताक्षर या क्रय पूर्ण न कर ले.

बहुचरण (मल्टि टियर प्रोग्राम)[संपादित करें]

कुछ विज्ञापनदाता मल्टि टियर प्रोग्राम प्रस्तावित करते हैं जो कि साइन-अप एवं उप-पार्टनरों के पदानुक्रमानुसार संदर्भित नेटवर्क में कमीशन का वितरण करता है। व्यावहारिक अर्थों में, प्रकाशक "ए" एक विज्ञापनदाता के प्रोग्राम में साइन-अप करता है एवं संदर्भित आगंतुक द्वारा संचालित सहमत गतिविधि हेतु पुरस्कृत होता है। यदि प्रकाशक "ए" अपने साइन-अप कोड का प्रयोग करते हुए उसी प्रोग्राम में प्रकाशक "बी" और "सी" को आकर्षित करता है, तो प्रकाशक "बी" एवं "सी" की भविष्य की समस्त गतिविधियाँ प्रकाशक "ए" को अतिरिक्त कमीशन प्रदान करेंगी.

बहुत कम संबद्ध प्रोग्रामों में द्वि-टियर प्रोग्राम अस्तित्व में होते हैं, ज़्यादातर एक-टियर हैं। द्वि-टियर से परे संदर्भित प्रोग्राम मल्टी लेवल (बहुस्तरीय) विपणन (एमएलएम (MLM)) या नेटवर्क विपणन से मिलते जुलते हैं परंतु इनमें अंतर है। मल्टी लेवल विपणन (एमएलएम (MLM)) या नेटवर्क विपणन में कमीशन का भुगतान प्राप्त करने हेतु अधिक पात्रतायें/ आवश्यकतायें होती हैं। जबकि संबद्ध प्रोग्रामों में नहीं.

विज्ञापनदाता के परिपेक्ष्य से[संपादित करें]

पक्ष एवं विपक्ष में तर्क[संपादित करें]

व्यापारी संबद्ध विपणन का समर्थन करते हैं क्योंकि अधिकतर मामलों में यह "निष्पादन हेतु भुगतान" आदर्श का प्रयोग करते हैं, जिसका अर्थ यह होता है कि व्यापारी, जब तक परिणाम नहीं निकालते (प्रारंभिक सेट- अप कीमत छोड़ कर) विपणन खर्च नहीं करता है।[15] कई व्यापार समूह सफलता का अधिकतम श्रेय इस विपणन तकनीक को देते है, जिसका मशहूर उदाहरण Amazon.com है। प्रदर्शन विज्ञापन कार्य के विपरीत, यद्यपि, संबद्ध विपणन आसानी से मापन योग्य नहीं है।[16]

कार्यान्वयन विकल्प[संपादित करें]

कुछ व्यापारी लोकप्रिय सॉफ्टवेयर का प्रयोग करते हुए स्वयं ही (जैसे कि इन-हाउस) संबद्ध प्रोग्राम संचालित करते हैं जबकि अन्य संबद्धों द्वारा संदर्भित यातायात अथवा विक्रय को ट्रैक करने के लिये बिचौलियों द्वारा प्रदान की गई तीसरे पक्ष की सेवाओं का प्रयोग करते हैं (आउट सोर्स प्रोग्राम प्रबंधन देखें). व्यापारी दो विभिन्न प्रकार के संबद्ध प्रबंधन समाधानों में से चुनाव कर सकते हैं: स्टेन्ड एलोन सॉफ्टवेयर अथवा होस्टेड सेवाएं, जिसे मुख्य रूप से संबद्ध नेटवर्क कहते हैं। संबद्धों अथवा प्रकाशकों को भुगतान या तो व्यापारी की ओर से नेटवर्क द्वारा सभी व्यापारियों को एक साथ किया जाता है, जहां पर कि प्रकाशक के संबंध हो तथा कमीशन कमाया हो, अथवा व्यापारी द्वारा स्वयं ही किया जाता है।

संबद्ध प्रबंधन तथा प्रोग्राम प्रबंधन आउटसोर्सिंग[संपादित करें]

सफल संबद्ध प्रोग्रामों को महत्त्वपूर्ण कार्य तथा अनुरक्षण की आवश्यकता होती है। सफल संबद्ध प्रोग्राम को बनाये रखना अधिक कठिन होता है, बजाए इसके कि जब यह प्रोग्राम बिल्कुल प्रारंभिक स्थिति में होते हैं। कुछ लंबवत बाज़ारों के अपवाद के अलावा, संबद्ध प्रोग्राम के लिये यह शायद ही होगा वह कमजोर प्रबंधन अथवा प्रबंधन के बिना (जैसे कि ऑटो-ड्राइव) पर्याप्त पूंजी का सृजन कर सके.

अनियन्त्रित संबद्ध प्रोग्रामों ने ऐसे कपटी संबद्धों को सहायता दी है तथा आज भी जारी रखे हुए है जो स्पामिंग,[17] ट्रेड मार्क का उल्लंघन, झूठे विज्ञापन, "कूकीज़ कटिंग"[कृपया उद्धरण जोड़ें], टाइपो स्क्वेटिंग[18] का प्रयोग तथा अन्य अनैतिक क्रियाएं करते हैं जो कि संबद्ध विपणन को नकारात्मक प्रतिष्ठा देते हैं।

इंटरनेट व्यापार की बढ़ती संख्या तथा ऑनलाइन व्यापार करने की नवीनतम प्रौद्योगिकी पर विश्वास करने वाले व्यक्तियों की बढ़ती हुई संख्या संबद्ध विपणन को और मज़बूत करने में सहायक होती है। समान गुणवत्ता तथा आकार से भरे व्यस्त बाज़ार में व्यापारी को लाभ कमाने एवं अलग से पहचाने जाने में कठिनाई होती है। इस वातावरण में, हालांकि, पहचाना जाना अधिक लाभप्रद हो सकता है।

हाल ही में, इंटरनेट विपणन उद्योग अधिक आधुनिक हो गया है। कुछ क्षेत्रों में ऑफ लाइन मीडिया की तरह ऑनलाइन मीडिया भी परिष्कृत हो गया है, जिसमें विज्ञापन विस्तृत रूप से व्यावसायिक तथा स्पर्धात्मक हैं। ऐसी कई महत्त्वपूर्ण आवश्यकताऐं है जिन्हें व्यापारियों को सफल होने के लिये पूरा करना ही चाहिये, तथा ये आवश्यकताऐं इन-हाउस पूरा करना व्यापारियों के लिए अत्यधिक बोझिल हो रहा है। बढ़ती संख्या में व्यापारी तुलनात्मक रूप से नयी आउटसोर्स प्रोग्राम प्रबंधन (ओपीएम) कंपनियों में वैकल्पिक विकल्पों को खोज रहे है जिन्हें प्रायः अनुभवी संबद्ध प्रबंधकों तथा नेटवर्क प्रोग्राम प्रबंधकों द्वारा स्थापित किया गया है।[19] ओपीएम (OPM) कंपनियां सेवा के रूप में व्यापारियों के लिये संबद्ध प्रोग्राम प्रबंधन करती हैं, जिस तरह विज्ञापन कंपनियाँ ऑफ लाइन विपणन की तरह किसी ब्रान्ड तथा उत्पाद को प्रोत्साहन देती हैं।

संबद्ध वेब साइट के प्रकार[संपादित करें]

संबंध वेब साइटों को प्रायः व्यापारियों (जैसे कि विज्ञापनदाता) तथा संबद्ध नेटवर्कों द्वारा वर्गीकृत किया जाता है। वर्तमान में वर्गीकरण के लिये कोई उद्योगानुसार स्वीकृत मानक नहीं है। निम्नलिखित प्रकार की वेब साइट सामान्य (जेनरिक) होती है, लेकिन फिर भी संबद्ध व्यापारियों द्वारा साधारण रूप से समझी तथा प्रयोग की जाती हैं।

  • संबद्ध खोज जो विज्ञापन दाता के ऑफर (जैसे सर्च आर्बीट्रेज) को प्रोत्साहित करने के लिये प्रति क्लिक भुगतान सर्च इंजनों का उपयोग करती है
  • तुलनात्मक शॉपिंग वेबसाइट तथा निर्देशिकाऐं
  • लॉयल्टी वेबसाइट, जो क्रय के लिये पॉइन्ट वापिसी, नकद वापिसी के द्वारा पुरस्कार प्रदान करने के लिये विशिष्ट रूप से वर्गीकृत हैं।
  • सी आर एम साइटें, जो धर्मार्थ दान को प्रोत्साहित करती हैं।
  • कूपन तथा छूट वेबसाइटें, जो विक्रय प्रोत्साहन पर ध्यान केंद्रित करती है।
  • उत्पाद समीक्षा साइटों सहित कंटेन्ट तथा बेहतर बाज़ार वेबसाइटें.
  • व्यक्तिगत वेबसाइटें
  • ईमेल मार्केटिंग [20]
  • वेब लॉग्स तथा वेबसाइट सिंडिकेशन फीड्स
  • ई-मेल सूची संबद्ध (जैसे कि बड़े ऑप्ट-इन मेल सूचियों के स्वामी जो प्रमुख रूप से ई-मेल ड्रिप विपणन को नियुक्त करते हैं) तथा न्यूज़लेटर सूची संबद्ध, जो प्रमुख रूप से अत्यधिक सामग्री युक्त होते हैं।
  • पंजीकरण पथ अथवा सह-पंजीकरण संबद्ध जो अन्य व्यापारियों से उनकी अपनी वेबसाइटों पर पंजीकरण प्रक्रिया के दौरान प्रस्ताव सम्मिलित करते हैं।
  • शॉपिंग निर्देशिकायें, जो व्यापारियों को कूपन, मूल्य तुलना या जल्द बदलने वाली सूचना के आधार पर अन्य गुणों को उपलब्ध कराये बिना सूचीबद्ध करती है अतएव लगातार अपडेट की आवश्यकता होती है।
  • लागत प्रति कार्य नेटवर्क (जैसे कि टॉप-टीयर संबद्ध) जो विज्ञापन दाताओं से प्रस्तावों को प्रभावित करते हैं जिनके साथ वे अपने स्वयं के संबद्धों के नेटवर्क से जुड़े हैं।
  • साइट पर उत्पादों के लिये संदर्भ-संवेदनशील, अत्यधिक प्रासंगिक विज्ञापनों के प्रदर्शन हेतु एडबार (जैसे कि एडसेन्स) का प्रयोग करते हुए वेबसाइटें.
  • वास्तविक मुद्राः एक नवीन प्रकार का प्रकाशक जो गेम अथवा असली प्लेट फार्म में "वास्तविक मुद्रा" के हैन्ड-आउट के साथ विज्ञापनदाताओं का प्रस्ताव जोड़ने के लिये सामाजिक मीडिया का प्रयोग करता है।

प्रकाशक की नियुक्ति[संपादित करें]

संबद्ध नेटवर्क, जिसमें पहले से ही कई प्रकाशक होते हैं, में प्रकाशकों का बढ़ा समूह भी होता है। यह प्रकाशक संभाव्य रूप से नियुक्त किये गये हैं, तथा यह भी संभावना है कि नेटवर्क के प्रकाशक विज्ञापन दाताओं के द्वारा नियुक्ति के प्रयास की आवश्यकता के बिना स्वयं ही प्रोग्राम में आवेदन करें.

संबंधित वेबसाइट, जो विज्ञापन दाता के रूप में उसी लक्षित श्रोताओं को आकर्षित करती है, परंतु उसके साथ बगैर प्रतियोगिता के, संभाव्य संबद्ध पार्टनर होते हैं। वैन्डर्स अथवा वर्तमान ग्राहक भी चयनित हो सकते हैं, यदि यह करने से कुछ फायदा हो तथा किसी कानून तथा नियमों का उल्लंघन न होता हो.

प्रायः कोई भी वेब साइट एक संबद्ध प्रकाशक के रूप में चयनित की जा सकती है, यद्यपि इस बात की अधिक संभावना है कि अधिक व्यस्त वेबसाइटें (उनके पक्ष में) कम-जोखिम लागत प्रति माइले (mille) अथवा मध्यम-जोखिम लागत प्रति क्लिक सौदे में अत्यधिक-जोखिम लागत प्रति कार्य अथवा राजस्व हिस्से के सौदे की तुलना में रूचि रख सकती हैं।[21]

संबद्ध प्रोग्रामों का स्थान पता लगाना[संपादित करें]

किसी लक्षित वेब साइट के लिये संबद्ध प्रोग्राम के स्थान का पता लगाने के लिये प्रमुख रूप से तीन मार्ग हैं:

  1. संबद्ध प्रोग्राम निर्देशिकाऐं
  2. बड़े संबद्ध नेटवर्क, जो दर्जनों अथवा सैकड़ों विज्ञापन दाताओं को प्लेट फार्म उपलब्ध कराता है, - एवं
  3. लक्षित वेबसाइटें, स्वयं. (संबद्ध प्रोग्राम को प्रस्तावित करने वाली वेबसाइटें फुटर में या वेबसाइट के "अबाउट" खंड में सामान्यतः "संबद्ध प्रोग्राम", "संबद्ध", "संदर्भित प्रोग्राम", या "वेबमास्टर्स" आदि शीर्षकों से लिंक प्रदान करती हैं।)

यदि उपर्युक्त स्थल संबद्ध के बारे में जानकारी प्रदान नहीं करते तो ऐसा हो सकता है कि यह गैर-जनता संबद्ध प्रोग्राम हो. यह सूचना प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका है कि सीधे वेबसाइट स्वामी से संपर्क किया जाये.

भूतकालिक तथा वर्तमान मामले[संपादित करें]

संबद्ध विपणन की उत्पत्ति के समय से संबद्ध क्रियाओं के ऊपर थोड़ा ही नियंत्रण है। बेईमान संबद्धों द्वारा स्पाम, झूठे विज्ञापन, कृत्रिम क्लिक (प्रयोक्ता कम्प्यूटर पर सेंट ट्रेकिंग कूकीज़ को प्राप्त करने के लिए), एडवेयर तथा अन्य विधियों का प्रयोग उनके प्रायोजकों की ओर बोझ को बढ़ाने के लिए किया गया है। यद्यपि कई संबद्ध प्रोग्रामों की सेवा की शर्तों में स्पाम के विरुद्ध नियम निहित होते है, ऐतिहासिक रूप से यह विपणन विधि स्पामर्स द्वारा गलत गतिविधियों को आकर्षित करने वाली सिद्ध हुई है।

ई-मेल स्पैम[संपादित करें]

संबद्ध विपणन के प्रारंभिक काल में कई इंटरनेट प्रयोक्ताओं की इसके बारे में नकारात्मक राय थी क्योंकि संबद्ध प्रायः अपने नामित प्रोग्राम को प्रोत्साहित करने के लिए स्पाम का प्रयोग करते थे।[22] जैसे - जैसे संबद्ध विपणन मजबूत हुआ है, कई संबद्ध व्यापारियों ने संबद्धों को स्पामिंग से वर्जित करने के लिये अपने नियम एवं शर्तें परिष्कृत की हैं।

सर्च-इंजन स्पाम[संपादित करें]

जैसे ही सर्च इंजन अधिक महत्त्वपूर्ण हुआ, कुछ संबद्ध विपणकों ने ई-मेल स्पाम भेजने के स्थान पर स्वचालित रूप से सृजित वेब पेजेस को बनाने की ओर अपने को स्थानान्तरित कर लिया है जिसमें व्यापारियों द्वारा प्रदत्त उत्पाद डाटा फीड प्रायः निहित होता है। इस प्रकार के वेब पेजेज का लक्ष्य स्पाम डेक्सिंग के नाम से ज्ञात सर्च इंजन द्वारा इन्डेक्स किये गये संसाधनों की प्रासंगिकता अथवा विशिष्टता में फेरबदल करना होता है। प्रत्येक पृष्ठ को विशिष्ट कीवर्ड के प्रयोग के द्वारा विभिन्न बेहतर बाज़ार में लक्षित किया जा सकता है जिसका परिणाम सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का विषम प्रकार होता है।

आर्गेनिक सर्च इंजन, जिसका लक्ष्य उनके प्रयोगकर्ताओं द्वारा प्रविष्ट किये गये कीवर्ड या कथन के लिये गुणवत्तापूर्ण खोज परिणाम प्रदान करना होता है, हेतु स्पाम सबसे बड़ा खतरा है। 2006 में गूगल का पेज रेन्क कलन विधि अपडेट ("बिग डेडी") - गूगल प्रमुख अपडेट का अंतिम चरण ("जेगर") जो मध्य ग्रीष्म 2005 में प्रारंभ हुआ, ने भारी सफलता के साथ विशेष रूप से स्पामडेक्सिंग पर लक्ष्य किया था। इस अपडेट से गूगल अपने इंडेक्स से अधिकतर कम्प्यूटर-सृजित दोहरी सामग्री को हटाने में सक्षम हुआ।[23]

अधिकतर संबद्ध लिंक निहित वेब साइटें गुणवक्ता पूर्ण सामग्री की कम आपूर्ति के लिये पूर्व में नकारात्मक प्रसिद्धि रखती थीं। 2005 में, गूगल ने इसमें प्रभावी परिवर्तन किये, जिसमें कुछ वेब साइटों को "कमजोर-संबद्ध" अंकित किया गया था।[24] इस तरह की वेब साइटों को या तो गूगल के इन्डेक्स से हटा दिया गया अथवा परिणाम पेज में पुनः स्थापित किया गया (जैसे कि सबसे शीर्ष परिणामों से हटाकर नीचे की स्थिति में ला दिया गया). इस वर्गीकरण से बचने के लिये, संबद्ध विपणक वेब मास्टर्स को उनकी वेबसाइट पर गुणवत्तापूर्ण सामग्री सृजित करनी चाहिये जो उनके कार्य एवं स्पामर्स अथवा बैनर फार्म्स के कार्य में अंतर कर सके, जो केवल व्यापारियों की साइटों के लिये संपर्क का माध्यम होती हैं।

कुछ उद्घोषकों ने मूल रूप से सुझाव दिया था कि संबद्धों के लिंक वेब साइट में ही निहित सूचना के संदर्भ में अच्छा कार्य करते हैं। उदाहरण के लिये, यदि किसी वेब साइट में किसी वेबसाइट प्रकाशन की सूचना निहित होती है, तो व्यापारी की वेबसाइट की सामग्री में ही इंटरनेट सेवा प्रदाता (आय एस पी) के लिये संबद्ध लिंक उपयुक्त होगा. यदि किसी वेबसाइट में खेलकूद से संबंधित जानकारी निहित होती है तो खेलकूद के बारे में कोई संबद्ध लिंक, खेलों की वस्तुओं तथा सूचना के संदर्भ में अच्छा कार्य कर सकते है। इस मामले में लक्ष्य वेबसाइट में ही गुणवत्तापूर्ण सूचना को प्रकाशित करना तथा संबंधित व्यापारियों की वेबसाइट को संदर्भोन्मुख लिंक प्रदान करना होता है।

यद्यपि, अधिक नवीनतम उदाहरण कमजोर - संबद्ध साइट का है जो कि सेवा प्रदान करने के द्वारा उपभोक्ताओं हेतु मूल्य सृजित करने के लिये संबद्ध विपणन मॉडल का प्रयोग कर रहे है। ये कमजोर सामग्री सेवा संबद्ध निम्नलिखित तीन श्रेणियों में वर्गीकृत हैं:

  • मूल्य तुलना
  • कारण संबंधी विपणन
  • समय बचत

एडवेअर[संपादित करें]

यद्यपि यह स्पाईवेअर से भिन्न है, परंतु एडवेअर उन्हीं विधियों तथा प्रौद्योगिकियों का प्रयोग करता है। व्यापारी प्रारंभ में एडवेअर से अनजान थे कि उसका क्या प्रभाव होगा तथा यह उनके ब्रान्ड को कितना नुकसान करेगा. संबद्ध विपणक इस मसले को जल्द ही जान गये, विशेष रूप से इस कारण से, कि उन्होंने पाया कि एडवेअर ट्रेकिंग कुकीज पर प्रायः पुनः लेखन (ओवर राइट) करता है जिससे कमीशन में कमी आती है। एडवेअर को लागू नहीं करने वाले संबद्धों ने पाया कि वह उनसे कमीशन की चोरी कर रहा है। प्रायः एडवेअर का कोई महत्त्वपूर्ण उद्देश्य नहीं होता, तथा यह उपभोक्ता को शायद ही उपयोगी सामग्री प्रदान करता है, जो विशेष रूप से अनजान होता है कि इस तरह का सॉफ्टवेयर उनके कम्प्यूटर में स्थापित है।

संबद्धों ने मसलों पर इंटरनेट फोरम में विचार-विमर्श किया तथा प्रयासों को संगठित करना प्रारंभ किया। उन्होंने विश्वास किया कि इस समस्या से मुक्ति पाने का सबसे अच्छा तरीका एडवेअर के माध्यम से व्यापारियों के विज्ञापन करने को निरुत्साहित किया जाये. वे व्यापारी जो एडवेअर के प्रति उदासीन या उसके समर्थक थे, उन्हें संबद्धों ने अनावृत कर दिया, जिससे उन व्यापारियों की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचा तथा उनके संबद्ध विपणन प्रयासों को धक्का लगा. कई संबद्धों ने या तो ऐसे व्यापारियों का उपयोग समाप्त कर दिया अथवा प्रतियोगी के संबद्ध प्रोग्राम से जुड़ गये। अंततोगत्वा, संबद्ध नेटवर्कों पर व्यापारियों एवं संबद्धों द्वारा समुचित कदम उठाने हेतु एवं अपने नेटवर्क से निश्चित एडवेअर प्रकाशकों को प्रतिबंधित करने के लिये दबाव डाला गया। इसका परिणाम कमीशन जंक्शन/ बी फ्री तथा परर्फामिक्स[25] द्वारा आचार संहिता, लिंक शेअर का हिंसा रोधी विज्ञापन परिशिष्ट,[26] तथा शेअर ए सेल्स का विज्ञापन ऑफर को प्रोत्साहन देने के लिये संबद्धों के लिये माध्यम के रूप में सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन्स का पूर्ण प्रतिबंध था। प्रगति के बावजूद भी एडवेअर लगातार एक मसला रहा है, जैसा कि वैल्यु क्लिक तथा उसकी सहयोगी कंपनी कमीशन जंक्शन के विरुद्ध 20 अप्रैल 2007 को दायर क्लास एक्शन मुकदमे द्वारा प्रदर्शित किया गया है।[27]

ट्रेडमार्क बोली[संपादित करें]

संबद्ध, भुगतान प्रति क्लिक विज्ञापन को सबसे पहले अपनाने वालों में से थे जब पहला भुगतान प्रति क्लिक सर्च इंजन 1990 के दशक के अंत में उभर कर सामने आया। 2000 के अंत में गूगल ने अपनी भुगतान प्रति क्लिक सेवा, [[गूगल एडवर्ल्ड्स|गूगल एडवर्ल्ड्स]], प्रारंभ की जो कि विज्ञापन चैनल के रूप में भुगतान प्रति क्लिक के व्यापक प्रयोग तथा स्वीकृति के लिये उत्तरदायी है। प्रत्यक्ष रूप से अथवा सर्च विपणन एजेन्सी के माध्यम से भुगतान प्रति क्लिक विज्ञापन में शामिल व्यापारियों की बढ़ती संख्या ने यह अनुभव किया कि इस स्थान पर पहले से ही उनके संबद्धों का भलीभांति कब्जा है। यद्यपि, इस अकेली स्थिति ने विज्ञापन दाताओं तथा संबद्धों के मध्य विज्ञापन चैनल संघर्ष तथा वाद विवाद पैदा कर दिया है, सबसे बड़ा मसला विज्ञापन दाताओं के नाम, ब्रांड तथा ट्रेडमार्कों की संबद्ध बोली से संबंधित था। कई विज्ञापन दाताओं ने उस प्रकार के कीवर्ड्स पर बोली लगाने से उनके संबद्धों को रोकने के लिये अपनी संबद्ध प्रोग्राम शर्तों को समायोजित करना शुरू कर दिया. कुछ विज्ञापनदाताओं ने, हालांकि, इस व्यवहार को स्वीकृत किया है तथा अभी भी कर रहे हैं, यहाँ तक कि वे संबद्धों को विज्ञापनदाता के ट्रेडमार्कों पर बोली लगाने की अनुमति बल्कि प्रोत्साहन प्रदान कर रहे हैं।

स्व-नियमन तथा सहयोग की कमी[संपादित करें]

संबद्ध विपणन ऐसे उद्यमियों द्वारा चलाये जाते हैं जो इंटरनेट विपणन के युग में कार्य कर रहे हैं। संबद्ध उभरने वाले ट्रेन्ड तथा प्रौद्योगिकियों का लाभ लेने वालों में प्रायः सबसे अग्रणी होते हैं। संबद्ध विपणकों हेतु परिचालन विधियों के वर्णन का सबसे अच्छा मार्ग "ट्रायल एण्ड एरर" तरीका है। यह जोखिम भरा तरीका एक कारण हो सकता है कि क्यों अधिकतर संबद्ध, जो US$ 10,000 अथवा अधिक का कमीशन प्रति माह सृजित करने की क्षमता रखने वाले "सुपर संबद्ध" बनने के पहले ही असफल हो जाते हैं अथवा प्रयास बन्द कर देते हैं। ऐसे समुदायों में पाये जाने वाले व्यवहार के साथ सम्मिश्रित यह सरहदी जीवन ही शायद मुख्य कारण है कि संबद्ध विपणन उद्योग विज्ञापनदाताओं तथा संबद्धों के मध्य व्यक्तिगत ठेकों के परे स्वनियमन में क्यों असमर्थ है। संबद्ध विपणन ने कुछ प्रकार के उद्योग संगठन अथवा संघ को निर्मित करने के लिये कई असफल प्रयासों का अनुभव किया है जो उद्योग के लिये नियमनों, मानकों तथा दिशा निर्देशों का प्रारंभक हो सकता है।[28] संबद्ध यूनियन तथा आईएएफएमए (iAfma) असफल नियमन प्रयासों के कुछ उदाहरण हैं।

प्रदर्शन उद्योग से जुड़े विभिन्न सदस्यों जैसे कि - संबद्ध/ प्रकाशक, व्यापारी/ विज्ञापनदाता, संबद्ध नेटवर्क, तृतीय पक्ष विक्रेता तथा सेवा प्रदाता जैसे कि बाहरी संसाधित प्रोग्राम प्रबंधक, आदि को एक स्थान पर एकत्रित करने के लिये ऑन लाइन फोरम्स तथा उद्योग व्यापार ही एकमात्र जरिया हैं। ऑनलाइन फोरम्स निशुल्क, छोटे संबद्धों को बड़ी आवाज प्रदान करने में समर्थ हैं तथा गुमनामी प्रदान करते हैं। व्यापार प्रदर्शन शो के प्रवेश पत्रों की ऊंची कीमत के कारण ये छोटे संबद्धों के लिये कीमत-निषेधात्मक होते हैं। बड़े संबद्ध उनको प्रोत्साहित करने वाले विज्ञापनदाता द्वारा प्रायोजित हो सकते हैं।

ऑनलाइन फोरम्स की गुमनामी के कारण उद्योग सदस्यों की संख्यात्मक बहुलता कोई भी कानूनी रूप से बाध्य नियम अथवा कानून बनाने में असमर्थ है जिनका पूरे उद्योग जगत में पालन किया जाए. बहुसंख्यक संबद्ध विपणन उद्योग का प्रतिनिधित्व करने के रूप में ऑनलाइन फोरम्स की बहुत ही कम सफलताऐं थीं। ऐसी सफलता का अत्यधिक नवीनतम उदाहरण जून/ जुलाई 2006 में "कमीशन जंक्शन लिंक मैनेजमेन्ट इनिशिएटिव" (सीजे एलएमआई (CJ LMI)) का विराम था जब एकल नेटवर्क ने अपने संबद्धों पर साधारण एचटीएमएल (HTML) के प्रति स्थापन के रूप में जावास्क्रिप्ट ट्रैकिंग कोड के प्रयोग को थोपने का प्रयास किया।[29]

उद्योग मानकों की कमी[संपादित करें]

अभिप्रमाणन तथा प्रशिक्षण[संपादित करें]

वर्तमान में संबद्ध विपणन में प्रशिक्षण तथा अभिप्रमाणन के लिये उद्योग मानकों की कमी है। ऐसे कुछ पाठ्यक्रम तथा सेमिनार है जो परिणामतः अभिप्रमाणन करते हैं; यद्यपि, ऐसे अभिप्रमाणन की स्वीकृति अधिकतर अभिप्रमाणन करने वाले व्यक्ति अथवा कंपनी की प्रतिष्ठा के कारण होती है। संबद्ध विपणन सामान्य रूप से विश्वविद्यालय में पढ़ाया नहीं जाता तथा बहुत ही कम कॉलेज शिक्षक विपणन में पढ़ाई करने वाले छात्रों को विषय का परिचय देने के लिये इंटरनेट मार्केटर्स के साथ कार्य करते हैं।[30]

शिक्षा प्रायः "वास्तविक जीवन" में समय व्यतीत होने के साथ-साथ प्राप्त होती है। यद्यपि इस शीर्षक पर बहुत सारी किताबें है, कुछ तथाकथित किताबें "हाऊ टू" अथवा "सिल्वर बुलेट" गूगल कलन विधि में मौजूद कमियों में हेर-फेर करने के लिये पाठकों को निर्देशित करती हैं, जो जल्दी से अप्रचलित हो सकती है,[30] अथवा विज्ञापनदाताओं के द्वारा आगे समर्थित न की जाने वाली अथवा अनुमति न दी जाने वाली नीतियों का सुझाव देती हैं[31]

आउटसोर्स प्रोग्राम प्रबंधन कंपनियां अपने अधिकतर प्रशिक्षण समूह सहयोग तथा बुद्धिशीलता के माध्यम से औपचारिक तथा अनौपचारिक प्रशिक्षण को जोड़ती है। ऐसी कंपनियाँ प्रत्येक विपणन कर्मचारी को उसके अपने पसंद के उद्योग सम्मेलनों में भेजने का प्रयत्न करती हैं।[32]

अन्य प्रयुक्त प्रशिक्षण संसाधनों में ऑनलाइन फोरम्स, वेबलॉग्स, पोडकॉस्टस, प्रयोग किये गये वीडियो सेमिनार एवं विशेषज्ञ वेबसाइट शामिल हैं।

संबद्ध शीर्ष सम्मेलन उद्योग का सबसे बड़ा सम्मेलन होता है तथा कई अन्य संबद्ध नेटवर्क अपने स्वयं के वार्षिक प्रोग्रामों का आयोजन करते हैं।

आचार संहिता[संपादित करें]

ऑनलाइन विज्ञापन हेतु अभ्यासों को निर्देशित करने तथा नीतिशाष्त्र के मानकों के पालन हेतु दिसंबर 2002 में एफीलिएट नेटवर्क कमीशन जंक्शन/ बी फ्री एवं परफॉर्मिक्स द्वारा आचार संहिता जारी की गयी थी।

पारम्परिक संबद्ध नेटवर्क के लिए खतरा[संपादित करें]

लागत प्रति कार्य कों "क्लासिक" संबद्ध विपणन नेटवर्क के लिए खतरे के रूप में देखा जा सकता है। परम्परागत संबद्ध विपणन संसाधन-गहन होता है तथा उसे निरंतर रख-रखाव की आवश्यकता होती है। अधिकतर रख-रखाव में व्यवस्थापन, निरीक्षण तथा संबद्धों को सहयोग प्रदान करना सम्मिलित है। संबद्ध विपणन का लक्ष्य विज्ञापन दाताओं तथा संबद्धों के मध्य दीर्घाविधि तथा आपसी लाभकारी साझेदारी की ओर निर्देशित है। लागत प्रति कार्य नेटवर्क यद्यपि, संबद्धों के साथ विज्ञापनदाता के संबंध बनाने तथा उसे बनाए रखने की आवश्यकता को समाप्त करता है, क्योंकि वह कार्य विज्ञापनदाता के लिए लागत प्रति कार्य नेटवर्क द्वारा किया जाता है। विज्ञापनदाता एक ऑफर देता है, अधिकतर हमेशा ही सीपीए (CPA)-आधारित तथा लागत प्रति कार्य नेटवर्क उस ऑफर को प्रोत्साहित करने के लिए उसके संबद्धों को संगठित करके शेष प्रक्रिया को संभालता है। लागत प्रति विक्रय तथा राजस्व साझेदारी क्लासिक संबद्ध विपणन के लिए प्रमुख क्षतिपूर्ति मॉडल होते हैं, तथा ये शायद ही लागत प्रति कार्य नेटवर्क में पाए जाते हैं। संबद्ध विपणक लागत प्रति कार्य नेटवर्क के शीर्षक से विशेष रूप से बचते है; यद्यपि, यदि इस पर विचार विमर्श किया जाता है तो वाद-विवाद गर्म तथा विस्फोटक हो सकते हैं।[33][34][35]

विपणन शर्त[संपादित करें]

विपणन उद्योग के सदस्य संस्तुत कर रहे हैं कि "संबद्ध विपणन" को किसी वैकल्पिक नाम से प्रतिस्थापित करना चाहिये।[36] संबद्ध विपणन को प्रायः नेटवर्क विपणन अथवा बहु-स्तरीय विपणन समझा जाता है। निष्पादन विपणन एक सामान्य विकल्प है, परंतु अन्य सिफारिशें भी की गई हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

विक्रय कर भेद्यता[संपादित करें]

अप्रैल 2008 में, न्यूयार्क राज्य ने एमेजॉन के न्यूयार्क आधारित वेबसाइट से संबद्ध लिंकों के अस्तित्व के आधार पर एमेजोनडॉटकॉम द्वारा न्यूयार्क के निवासियों को किये गये विक्रय पर विक्रय कर अधिकार क्षेत्र पर जोर देते हुए एक मद राज्य के बजट में शामिल की.[37] राज्य दावा करता है कि एक भी ऐसा संबद्ध जो राज्य में एमेजान के व्यापार को गठित करता है, राज्य के निवासियों को एमेजॉन की सभी बिक्री पर न्यूयार्क में कर लगाने के लिये पर्याप्त है। एमेजॉन ने संशोधन को चुनौती दी तथा जनवरी 2009 में उसे न्यायालय में हार का सामना करना पड़ा. वर्तमान में मामला न्यूयार्क पुनर्विचार न्यायालय में चल रहा है।

कुकी स्टफिंग[संपादित करें]

कुकी स्टफिंग में आगंतुक के कम्प्यूटर वेबसाइट पर बगैर उसकी जानकारी के एक संबद्ध ट्रेकिंग कुकी को स्थापित करना शामिल है, जो बाद में कुकी स्टफिंग करने वाले व्यक्ति के लिये राजस्व सृजित करता है। यह न केवल धोखाधड़ी पूर्ण संबद्ध विक्रय को सृजित करता है, परंतु अन्य कुकीज नेटवर्क में उनके द्वारा वैद्य तरीके से कमाये गये कमीशन की चोरी करके पुनः लेखन करने की संभावना रखता है।

भेद खोलने हेतु क्लिक[संपादित करें]

कई वाउचर कोड वेबसाइट प्रारुप को प्रकट करने के लिये क्लिक का प्रयोग करते है जिसमें वेबसाइट उपयोगकर्ता को वाउचर कोड को भेदने हेतु क्लिक करने की आवश्यकता होती है। क्लिक करने की क्रिया कुकीज़ को वेबसाइट आगंतुक के कम्प्यूटर पर स्थापित करती है। आयएबी (IAB)[38] ने कहा है कि "संबद्धों को ऐसे किसी तंत्र का प्रयोग नहीं करना चाहिये; जिसमें उपयोगकर्ता ऐसी सामग्री के साथ इन्टरेक्ट करने के लिये क्लिक करने के लिये प्रोत्साहित किया जाये जहां यह अस्पष्ट तथा भ्रमित है कि उसका परिणाम क्या होगा."

संबद्ध सेवाएं[संपादित करें]


इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Dhobale, Jayesh. "Affiliate Marketing क्या है? पूरी जानकारी हिंदी में।". Technical Sanatan (Hindi में). अभिगमन तिथि 2021-07-11.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  2. प्रुसाकोव, एवजेनी (2007). "अ प्रेकटिकल गाइड टू एफिलिएट मार्केटिंग" (पृष्ठ. 16-17), 2007. आईएसबीएन (ISBN) 0-9791927-0-6.
  3. Guide to E-Commerce Technology Archived 2010-05-04 at the Wayback Machine, 2007-08 इंटरनेट विक्रेता द्वारा संस्करण
  4. कोलिन्स, शौन (2000/11/10). संबद्ध विपणन का इतिहास. क्लिकज़ेड नेटवर्क, 10 नवम्बर 2000. http://www.clickz.com/showPage.html?page=832131 Archived 2007-10-12 at the Wayback Machine से 2007/10/15 को पुनः प्राप्त किया गया।
  5. ओलिम, जेसन; ओलिम, मैथ्यू; और कैंट, पीटर (1999-01). "द सीडीनाओ स्टोरी: रैग्ज़ टू रिचिज़ ऑन द इंटरनेट", टॉप फ्लोर पब्लिशिंग, जनवरी 1999. आईएसबीएन (ISBN) 0-9661032-6-2.
  6. फ्रैंक फिओरे और शौन कोलिन्स, "सकसेसफुल एफिलिएट मार्केटिंग फॉर मरचेंट्स", पृष्ठ 12,13 और 14 से. क्यू पब्लिशिंग, अप्रैल 2001 आईएसबीएन (ISBN) 0-7897-2525-8
  7. ग्रे, डैनियल (1999/11/30). "द कंप्लीट गाइड टू असोसिएट एंड एफिलिएट मार्केटिंग प्रोग्रामज़ ऑन द नेट". मक ग्रा-हिल ट्रेड, 30 नवम्बर 1999. आईएसबीएन (ISBN) 0-07-135310-0.
  8. , US 6029141
  9. अक्टूबर 2006, Affiliate Marketing Networks Buyer's Guide (2006) Archived 2006-12-14 at the Wayback Machine, पृष्ठ 6, e-Consultancy.com 25 जून 2007 को पुनः प्राप्त किया गया।
  10. फरवरी 2007, Internet Statistics Compendium 2007 Archived 2008-12-08 at the Wayback Machine, पृष्ठ 149-150, ई-कंसल्टेंसी, 25 जून 2007 को पुनः प्राप्त सन्दर्भ त्रुटि: <ref> अमान्य टैग है; "inetstats07" नाम कई बार विभिन्न सामग्रियों में परिभाषित हो चुका है
  11. डियोन हिंचक्लिफ (15.जुलाई, 2006), Web 2.0's Real Secret Sauce: Network Effects Archived 2010-10-26 at the Wayback Machine, एसओए (SOA) वेब सर्विसिज़ जर्नल, पुनः प्राप्त तिथि: 14.मई, 2007
  12. डियोन हिंचक्लिफ (29.जनवरी, 2007), Social Media Goes Mainstream Archived 2010-11-14 at the Wayback Machine एसओए (SOA) वेब सर्विसिज़ जर्नल, पुनः प्राप्त तिथि: 14.मई, 2007
  13. AffStat Report 2007 Archived 2007-05-24 at the Wayback Machine. उद्योग के अनुप्रस्थ परिच्छेद के लगभग 200 संबद्ध प्रबंधकों की सर्वेक्षण प्रतिक्रियाओं पर आधारित.
  14. सेलरस्टोन इंक. (2006), Sales Commission Archived 2010-09-26 at the Wayback Machine,QCommission.com, 25 जून 2007 को पुनः प्राप्त
  15. टॉम टोली (9 नवम्बर 2005), Creating A Virtual Sales Force, Forbes.com व्यापार . 14 मई 2007 को पुनः प्राप्त.
  16. जेफ मोलांदर (22 जून 2006), Google's Content Referral Network: A Grab for Advertisers Archived 2010-07-30 at the Wayback Machine, थोट शेपरज़ 16 दिसम्बर 2007 को पुनः प्राप्त
  17. डैनी सुलेवान (27 जून 2006), The Daily SearchCast News from June 27, 2006 Archived 2006-08-22 at the Wayback Machine, WebmasterRadio.fm 17 मई 2007 को पुनः प्राप्त
  18. वेन पोर्टर (6 सितंबर 2006), NEW FIRST: LinkShare- Lands' End Versus The Affiliate on Typosquatting Archived 2006-10-17 at the Wayback Machine, ReveNews.com, 17 मई 2007 को पुनः प्राप्त किया गया
  19. जेनिफर डी. मियाचैम (जुलाई/अगस्त 2006), Going Out Is In Archived 2007-01-23 at the Wayback Machine, रेवेन्यू पत्रिका मोंटगोमेरी रिसर्च इंक द्वारा प्रकाशित, अंक 12., पृष्ठ 36
  20. अग्रवाल, स्वाधीन. "ईमेल मार्केटिंग tool छोटे व्यापर के लिए" (अंग्रेज़ी में). DigitalGyd.com. मूल से 20 सितंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 सितम्बर 2016.
  21. मारिओस एलेग्ज़ेनड्रो (4 फ़रवरी 2007), CPM vs. CPC vs. CPA Archived 2007-11-14 at the Wayback Machine, आल थिंग्ज़ एसईएम (SEM), 11 नवम्बर 2007 को पुनः प्राप्त
  22. रयान सिंगेल (2 अक्टूबर 2005), Shady Web of Affiliate Marketing, Wired.com 17 मई 2007 को पुनः प्राप्त
  23. जिम हेजर (6 सितंबर 2006), Being a Bigdaddy Jagger Meister Archived 2007-12-23 at the Wayback Machine, WebProNews.com, 16 दिसम्बर 2007 को पुनः प्राप्त
  24. Spam Recognition Guide for Raters Archived 2007-07-03 at the Wayback Machine (वर्ड दस्तावेज़) कथित रूप से 2005 में leaked out from Google Archived 2011-05-13 at the Wayback Machine. दस्तावेज़ की प्रामाणिकता गूगल द्वारा न तो स्वीकार की गई और न ही उन्होंने उसे चुनौती दी.
  25. 10 दिसम्बर 2002, Online Marketing Service Providers Announce Web Publisher Code of Conduct Archived 2007-08-27 at the Wayback Machine (इसमें मूल सीओसी (CoC) पाठ शामिल है), CJ.com 26 जून 2007, को पुनः प्राप्त
  26. 12 दिसम्बर 2002, LinkShare's Anti-Predatory Advertising Addendum Archived 2007-06-07 at the Wayback Machine LinkShare.com 26 जून 2007 को पुनः प्राप्त
  27. 20 अप्रैल 2007, AdWare Class Action Lawsuit against - ValueClick, Commission Junction and beFree Archived 2007-07-04 at the Wayback Machine, लॉ फर्म्ज़ ऑफ़ नासिरी एंड जंग एलएलपी (LLP) एंड हैगंज़ बर्मन CJClassAction.com से 26 जून 2007 को पुनः प्राप्त
  28. कारस्टन कम्बरोव्सकी (4 नवम्बर 2006), Affiliate Marketing Organization Initiative Vol.2 - We are back to Step 0 Archived 2008-02-16 at the Wayback Machine, रेवे समाचार, 17 मई 2007 को पुनः प्राप्त
  29. मई, 2006 New Javascript Links? Archived 2007-09-26 at the Wayback Machine सीजे (CJ) के एलएमआई (LMI), अबेस्टवेब, के लिए मुख्य चर्चा धागा, 17 मई 2007 को पुनः प्राप्त
  30. एलेग्ज़ेनडर वारटन (मार्च/अप्रैल 2007), Learning Outside the Box Archived 2009-06-27 at the Wayback Machine, रेवेन्यू पत्रिका, अंक: मार्च/अप्रैल 2007 पृष्ठ 58, ऑनलाइन संस्करण के लिए लिंक 26 जून 2007 को पुनः प्राप्त
  31. शौन कोलिन्स (9 जून 2007), Affiliate Millions - Book Report Archived 2007-06-11 at the Wayback Machine, एफिलिएट टिप ब्लॉग, 26 जून 2007 को पुनः प्राप्त
  32. मार्च/अप्रैल 2007, How Do Companies Train Affiliate Managers? Archived 2007-09-29 at the Wayback Machine (वेब अतिरिक्त), RevenueToday.com 26 जून 2007 को पुनः प्राप्त
  33. जेफ मोलांदर (15 नवम्बर 2006), Are CJ and Linkshare Worth Their Salt? Archived 2008-01-02 at the Wayback Machine, CostPerNews.com 17, मई 2007 को पुनः प्राप्त
  34. 17 नवम्बर 2006, Affiliate Networks vs CPA Networks Archived 2008-01-06 at the Wayback Machine - 11/15/2006 से CostPerNews.com पोस्ट के लिए सरकारी बयान और टिप्पणियां, CostPerNews.com, 17 मई 2007 को पुनः प्राप्त
  35. जनवरी 2006, There Must Be a Better Way Archived 2007-09-26 at the Wayback Machine - अबेस्टवेब संबद्ध विपणन फोरम पर थ्रेड, अबेस्टवेब 17 मई 2007 को पुनः प्राप्त
  36. विनी लिंग्हम (11.अक्टूबर, 2005), Profit Sharing - The Performance Marketing Model of the Future Archived 2006-11-19 at the Wayback Machine, विनी लिंग्हम का ब्लॉग, पुनः प्राप्त तिथि 14.मई, 2007
  37. लिंडा रोसेंस्रेंस, 15.अप्रैल, 2008), N.Y. to tax goods bought on Amazon Archived 2008-12-17 at the Wayback Machine, कंप्यूटरवर्ल्ड, पुनः प्राप्त तिथि 16.अप्रैल, 2008
  38. आईएबी (IAB), शुक्रवार, 27 मार्च 2009 IAB affiliate council strengthens voucher code guidelines Archived 2010-01-07 at the Wayback Machine

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]