संपत रामटेके

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

संपत रामटेके (1950 - 17 नवंबर 2017) नागपुर , महाराष्ट्र, भारत के एक इंजीनियर और सामाजिक कार्यकर्ता थे। 2018 में, उन्हें सिकल सेल रोग के बारे में जागरूकता बढ़ाने में उनके योगदान के लिए मरणोपरांत पद्म श्री सम्मान दिया गया था। [1]

व्यवसाय[संपादित करें]

उन्होंने Western Coalfields Limited (WCL) में काम किया और 2010 में एक अधीक्षण अभियंता के रूप में सेवानिवृत्त हुए। [1]

सामाजिक सक्रियता[संपादित करें]

रामटेके को सिकल सेल रोग के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए आंदोलन का मशालदार माना जाता है । यह तब शुरू हुआ जब उनके बेटे को बीमारी का पता चला। 1991 में उन्होंने सिकल सेल सोसाइटी ऑफ इंडिया (SCSI) की स्थापना की और सिकल सेल रोग के बारे में तीन दशकों से जागरूकता बढ़ाने की दिशा में काम किया। उनके प्रयासों के कारण सिकल सेल रोगियों को Rights of Persons with Disabilities Act (2016) में शामिल किया गया। [2] [3]

व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

उनका और उनकी पत्नी का एक बेटा और बेटी है। नवंबर 2017 में कार्डियक अरेस्ट के कारण उनका निधन हो गया। [3]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Padma Shri for Bangs and late Ramteke - Times of India". The Times of India. अभिगमन तिथि 2019-01-17.
  2. "Vidarbha stalwarts Bangs, Pantawane, late Ramteke honoured with 'Padma Shri'". thehitavada.com. अभिगमन तिथि 2019-01-17.
  3. "Sampat Ramteke, torch bearer for sickle cell patients, passes away - Times of India". The Times of India. अभिगमन तिथि 2019-01-17.