व्यवस्थात्मक जोखिम (वित्त)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

व्यवस्थात्मक जोखिम वित्त की अवधारणा है जिसका अर्थ है ऐसा जोखिम जो कि संपूर्ण व्यवस्था में ही व्याप्त हो तथा विशाखन (विभिन्न विकल्पों में निवेश) करने से भी उससे बचा नहीं जा सकता।[1] ब्याज दरें, मंदी, युद्ध आदि एसे जोखिमों के कुछ उदाहरण हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "The Capital Asset Pricing Model: An Overview". अभिगमन तिथि 9 जुलाई 2016.