वैजयन्ती

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बैजन्ती (संस्कृत : वैजयन्ती) फूल के एक पौधे का नाम है। इसके पत्ते हाथ हाथ भर तक के लंबे और चार पाँच अगुल चौडे़ धड़ या मूल काँड से लगे हुए होते हैं। इसमें टहनियाँ नहीं होतीं, केले की तरह कांड सीधा ऊपर की ओर जाता है। यह हलदी ओर कचूर जाति का पौधा है। इसके सिर पर लाल या पीले फूल लगते हैं। फूल लबे और कई दलों के होते हैं और गुच्छों में लगते हैं। फूलों की जड में एक एक छोटी घुंडी होती है जो फूल सूखने पर बढ़कर बोंडी़ हो जाती है। यह बोंडी़ तिकोनी और लंबोतरी होती है जिसपर छोटी छोटी नोक या कँगूरे निकले रहते हैं। बोंडी़ के भीतर तीन कोठे होते हैं जिनमें काले-काले दाने भरे हुए निकलते हैं। ये दाने कडे़ होते हैं और लोग इन्हें छेदकर माला बनाकर पहनते हैं। यह फूलों के कारण शोभा के लिये बगीचे में लगाया जाता है।