"अवोगाद्रो का नियम": अवतरणों में अंतर

नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
387 बाइट्स जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
No edit summary
No edit summary
'''अवोगाद्रो का नियम''' [[गैस]] से सम्बन्धित एक नियम है जिसका नाम [[अमेदिओ अवोगाद्रो]] (Amedeo Avogadro) के नाम पर रखा गया है। इसे "अवोगाद्रो की परिकल्पना" (Avogadro's hypothesis) एवं "अवोगाद्रो का सिद्धान्त" के नाम से भी जाना जाता है। सन् १८११ में अवोगाद्रो ने यह परिकल्पना प्रस्तुत की, जो इस प्रकार है -
 
{{Infobox Useruser
<!-- INFOBOX FORMATTING -------->
[[|चित्र:[[File:Avogadro H2O.png|thumb|Avogadro H2O]]|350px|H2O का उदाहरण-आवोगाद्रो का नियम|]]
| abovecolor =
| color =
| fontcolor =
| abovefontcolor =
| headerfontcolor =
| tablecolor =
<!-- LEAD INFORMATION ---------->
| title = आवोगाद्रो का नियम<!-- optional, defaults to {{BASEPAGENAME}} -->
| status =
| image = [[File:Avogadro H2O.png|thumb|Avogadro H2O]]
[[|चित्र:[[File:Avogadro H2O.png|thumb|Avogadroimage_caption = H2O]]|350px|H2O का उदाहरण-आवोगाद्रो का नियम|]]
| image_width =
| userboxes =
}}
 
"समान [[ताप]] व [[दाब]] पर सभी [[आदर्श गैस|आदर्श गैसों]] के समान [[आयतन]] में कणों या अणों की संख्या समान होती है। "
 
गुमनाम सदस्य

नेविगेशन मेन्यू