"कला (तरंग)" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
40 बैट्स् जोड़े गए ,  10 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (r2.4.6) (robot Adding: ne:कला (तरंग))
{{वार्ता शीर्षक}}{{आधार}}
[[चित्र:Phase shift.svg|300px|right|thumb|दो तरंगों के बीच कलान्तर]]
किसी [[तरंग]] के सन्दर्भ में, '''कला''' (फेज) वह समयावधि या दूरी है जो उस तरंग के किसी सन्दर्भ बिन्दु के सापेक्ष अभिव्यक्त की गयी हो। किसी बिन्दु की कला से पता चलता है कि वह बिन्दु उस तरंग के ग्राफ में कहाँ स्थित होगी। प्रायः कला को उस तरंग के [[आवर्तकाल]] के अनुपात (अनुपात) के रूप में व्यक्त किया जाता है और प्रायः उस तरंग का वह बिन्दु सन्दर्भ के रूप में लिया जाता है जिस पर विस्थापन (या विद्युत क्षेत्र, या चुम्बकीय क्षेत्र या दाब) शून्य हो। तरंग के एक आवर्तकाल को ३६० डिग्री के तुल्य मानते हुए कला को प्रायः अंशों (डिग्री) में भी व्यक्त करते हैं। उदाहरण के लिये तरंग के किसी बिन्दु की कला ३० डिग्री होने का अर्थ है कि वह बिन्दु संदर्भ बिन्दु से ३०/३६० = १/१२ आवर्तकाल की दूरी पर स्थित है।
* ''ω'' – तरंग का कोणीय वेग = 2. Pi. तरंग की आवृत्ति
* ''t'' – [[समय]]
* ''k'' – तरंग सदिश
* ''x'' – x-निर्देशांक
* ''y'' – माध्य स्थिति से विस्थापन
5,01,128

सम्पादन

दिक्चालन सूची