विलियम विलसन हन्टर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

विलियम विलसन हन्टर (जन्म- 15 जुलाई 1840 ई., मृत्यु- 6 फ़रवरी 1900 ई.) उच्च कोटि के शिक्षाविद, ग्रन्थकार, सांख्यिकीविज्ञ थे जो पेशेवर रूप से भारत में अंग्रेज अधिकारी के रूप में कार्यरत थे।

जीवन वृत्त[संपादित करें]

१५ जुलाई १८४० को जन्मे हंटर ने ग्लासगो, पेरिस तथा बान में शिक्षा प्राप्त की। 1862 ई. में उन्होंने भारतीय लोक सेवा (इंडियन सिविल सर्विस) में प्रवेश किया। उनकी नियुक्ति बंगाल में हुई।

लेखन[संपादित करें]

1868 ई. में हन्टर ने ग्रामीण बंगाल का क्रमानुसार इतिहास लिखा। चार साल बाद भारत की अनार्य भाषाओं का तुलनात्मक कोश प्रकाशित किया। उन्होंने भारत के सांख्यिकीय सर्वेक्षण का प्रबन्ध किया और 1875-1877 ई. में बंगाल का सांख्यिकीय विवरण 20 खंडों में प्रकाशित किया। इसके साथ ही उन्होंने 23 खंडों वाली इम्पीरियल गजेटियर ऑफ़ इंडिया भी प्रकाशित कराया। अवकाश ग्रहण करने के बाद 1887 ई. में उन्होंने रूलर्स आफ़ इंडिया (हिन्दी: भारत के शासक) पुस्तक माला का सम्पादन किया और स्वयं डलहौज़ी और मेयो पर पुस्तकें लिखीं।

हन्टर शिक्षा आयोग[संपादित करें]

1882-1883 ई. में हन्टर ने शिक्षा आयोग की अध्यक्षता की। यह आयोग हन्टर शिक्षा आयोग के नाम से जाना गया। आयोग की रिपोर्ट ने तत्कालीन भारत की शिक्षा नीति तय करने में निर्णायक भूमिका अदा की। सहायता और अनुदान प्रणाली प्रचलित की गई। आयोग की जाँच का विषय : 1. इस बात की जाँच करना की सन 1854 के आदेशपत्र के सिध्दाँतोँ को किस प्रकार क्रियान्वित किया गया। 2. ऐसे उपायों की सुझाव देना जिनको आयोग आदेश पत्र में निर्धारित की गई नीति को क्रियान्वित करने को उचित समझता है।

[[चित्र:

personality

|thumb|poster|ह्न्तर्|]]

वृहत् अध्ययन[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

साँचा:Wikisource author-inline

साँचा:University of Calcutta Vice chancellors