वार्ता:यदुवंश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

शुद्र अहिर जाति समुह यावद वंश से संबंधीत नहीं है[संपादित करें]

अहिर असली यादव नहीं हैं, वे सिर्फ खुद को समाज में यादव को दिखाने की कोशिश करते हैं। हरिवंश पुराण में भी शुद्र आभीरो और यादव को अलग-अलग बताया गया है। Hardhrol (वार्ता) 11:44, 22 अगस्त 2018 (UTC)

विकिपीडिया पर व्यक्तिगत सोच या भावना के आधार पर सम्पादन करना नीति विरुद्ध है। यहाँ पर सिर्फ विश्वसनीय स्रोतों द्वारा सिद्ध तथ्यों को ही समावेशित किया जाता है। संदर्भित जानकारियाँ न हटाएँ तथा बिना विश्वसनीय स्रोत का संदर्भ दिये कुछ न लिखें। इतिहासकारों के अनुसार आभीर या अहीरों की एक शाखा का राज्य शूद्र राज्य के निकट या सहयोगी के रूप में वर्णित है परंतु यह स्पष्ट नहीं है कि आभीर शूद्र थे। हरिवंश पुराण में यह वृतांत भी आता है कि भगवान विष्णु यह घोषणा करते हैं कि द्वापर युग में वह आभीर जाति में जन्म लेंगे। परंतु यह सब दन्त कथायेँ हैं। साथ ही यह भी ध्यान रखें कि भारत की किसी भी जाति के दैविक उत्पत्ति के सिद्धान्त पर इतिहासकार एकमत नहीं है। प्रस्तुत लेख में सिर्फ यह तथ्य संदर्भों सहित लिखा है कुछ जातियाँ स्वयं को यदुवंशज मानती है अर्थात दावा करती है। जो कि सच है। दावा करना या होना, दोनों में बहुत अंतर है। कृपया अकारण लेख से संदर्भित जानकारी हटा कर लेख का रूप न बिगाड़ें।--महेन सिंहा (वार्ता) 20:46, 31 अगस्त 2018 (UTC)

महेन सिंहा जी से सहमत - प्रतीक कुमार (वार्ता) 7:22, 30 अक्टूबर 2018 (UTC)