वार्ता:दरगाह-ए-अला हज़रत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

आलाहज़रत अज़ीमुल बरक़त रज़ियल्लाहु तआला अन्हु* से किसी ने सवाल किया कि जब अम्बिया व औलिया अल्लाह के महबूब हैं तो उन्हें ईसाले सवाब की क्या ज़रूरत है तो उसके जवाब में आप फरमाते हैं कि "एक मर्तबा हज़रत अय्यूब अलैहिस्सलाम गुस्ल फरमा रहे थे कि सोने की बारिश होने लगी आप चादर फैलाकर सोना उठाने लगे,ग़ैब से निदा आई कि ऐ अय्यूब क्या हमने तुझको इससे ज़्यादा ग़नी ना किया तो आप फरमाते हैं कि बेशक तूने मुझे ग़नी किया मगर तेरी बरकत से मुझे किसी वक़्त ग़िना नहीं" मतलब ये कि हमारे ईसाले सवाब की बेशक उनको हाजत नहीं है मगर हमारी दुआओं के बदले मौला उनको जो इनामात और दरजात अता फरमाता है वो ज़रूर उसके ख्वाहिश मंद होते हैं,और इसमें ज़र्रा बराबर भी शक नहीं कि जो खुदा हमारे ईसाले सवाब के बदले अम्बिया व औलिया के दरजात को बुलंद करता है क्या वो उनको भेजे गये हमारे तोहफों के सदक़े हमारी मग्फिरत ना फरमायेगा यक़ीनन यक़ीनन फरमायेगा,मगर बख्शा वही जायेगा जो ईसाले सवाब वाला होगा वरना मुनकिर के लिए तो ना यहां राहत है ना वहां राहत होगी 📕 अलमलफूज़,हिस्सा 1,सफह 63

 आलाहज़रत अज़ीमुल बरक़त रज़ियल्लाहु तआला अन्हु* फरमाते हैं कि हज़रते हारून अलैहिस्सलाम नबी हैं और हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के बड़े भाई मगर जलाले मूसा की ताब में वो भी आ गये कि जब आप तूर से वापस आये और अपनी क़ौम को बुतपरस्ती करते देखा तो अपना होश खो बैठे और जलाल में उनकी दाढ़ी पकड़कर खींचने लगे जबकि नबी की ताज़ीम फर्ज़ है खैर चलिये छोड़िये वो तो उनके भाई ही थे शबे मेराज हुज़ूर सल्लललाहु तआला अलैहि वसल्लम ने सुना कि कोई शख्स तेज़ आवाज़ में रब से बातें कर रहा है तो आपने जिब्रील अलैहिस्सलाम से फरमाया कि ये कौन है जो रब पर तेज़ी करता है तो हज़रत जिब्रील अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि ये मूसा अलैहिस्सलाम हैं मौला जानता है कि उनके मिज़ाज में तेज़ी है चलिये इसे भी जाने दीजिये वो जो उम्मुल मोमेनीन सय्यदना आईशा सिद्दीक़ा रज़ियल्लाहु तआला अन्हा अपने रब से फरमाती हैं कि ये सब तेरे ही फितने हैं यहां क्या कहियेगा,जो अलफाज़ ये नुफूसे क़ुदसिया जलाल में कह गये अगर दूसरा कहे तो गर्दन मारी जाये मगर अन्धो ने तो शाने अब्दियत ही देखी शाने महबूबियत देखने से तो उनकी आंखें फूट गई 

📕 अलमलफूज़,हिस्सा 3,सफह 6

  • आलाहज़रत अज़ीमुल बरक़त रज़ियल्लाहु तआला अन्हु* फरमाते हैं कि 1837 हिजरी में शायद कोई इसलामी हुकूमत बाक़ी ना रहे और 1900 हिजरी में इमाम मेंहदी रज़ियल्लाहु तआला अन्हु का ज़हूर हो और फरमाते हैं कि क़यामत की 3 किस्में हैं

1.क़यामते सुग़रा - जो मर गया उसकी क़यामत हो गई 2.क़यामते वुस्ता - किसी कर्न या जगह के पूरे लोग मर जायें तो उनकी क़यामत क़ायम हो गई 3.क़यामते कुबरा - वो जिस दिन आसमानों ज़मीन और इसमें जो कुछ है सब फना हो जायेंगे 📕 अलमलफूज़,हिस्सा 1,पेज 92 📕 अलमलफूज़,हिस्सा 3,


  • Aalahazrat azimul barkat raziyallahu taala anhu* se kisi ne sawal kiya ki jab ambiya wa auliya ALLAH ke mahboob hain to unhein isaale sawab ki kya zarurat hai to uske jawab me aap farmate hain ki "ek martaba hazrat ayyub alaihissalam gusl farma rahe the ki sone ki baarish hone lagi aap chadar phailakar sona uthane lage,gaib se nida aayi ki ai ayyub kya humne tujhko isse zyada gani na kiya to aap farmate hain ki beshak tune mujhe gani kiya magar teri barkat se mujhe kisi waqt gina nahin" matlab ye ki hamare isaae sawab ki beshak unko haajat nahin hai magar hamari duaon ke badle maula unko jo inamaat ata farmata hai wo zaroor uske khwahish mand hote hain,aur isme zarra barabar bhi shaq nahin ki jo khuda hamare isaale sawab ke badle ambiya wa auliya ke darjaat ko buland karta hai kya wo unke sadqe hamari magfirat na farmayega yaqinan yaqinan farmayega,magar bakhsha wahi jayega jo isaale sawab waala hoga warna munkir ke liye to na yahan raahat hai na wahan raahat hogi

📕 Almalfooz,hissa 1,safah 63

  • Aalahazrat azimul barkat raziyallahu taala anhu* farmate hain ki hazrate haroon alaihissalam nabi hain aur hazrat moosa alaihissalam ke bade bhai magar jalale moosa ki taab me wo bhi aa gaye ki jab aap toor se waapas aaye aur apni qaum ko butparasti karte dekha to apna hosh kho baithe aur jalaal me unki daadhi pakadkar kheenchne lage jabki nabi ki tazeem farz hai khair chaliye chhodiye wo to unke bhai hi the shabe meraj huzoor sallallaho taala alaihi wasallam ne suna ko koi shakhs tez aawaz me rub se baatein kar raha hai to aapne jibreel alaihissalam se farmaya ki ye kaun hai jo rub par tezi karta hai to hazrat jibreel alaihissalam farmate hain ki ye moosa alaihissalam hain maula jaanta hai ki unke mizaaj me tezi hai chaliye ise bhi jaane dijiye wo jo ummul momeneen sayyadna aaisha siddiqa raziyallahu taala anha apne rub se farmati hain ki ye sab tere hi fitne hain yahan kya kahiyega,jo alfaaz ye nufuse qudsiya jalaal me kah gaye agar doosra kahe to gardan maari jaaye magar kuchh andho ne to shaane abdiyat hi dekhi shaane mahbubiyat dekhne se to unki aankhen phoot gayi

📕 Almalfooz,hissa 3,safah 6

  • Aalahazrat azimul barkat raziyallahu taala anhu* farmate hain ki 1837 hijri me shayad koi islami hukumat baaki na rahe aur 1900 hijri me imaam menhdi raziyallahu taala anhu ka zahoor ho aur farmate hain ki qayamat ki 3 kismein hain

1. Qayamate sugra-jo mar gaya uski qayamat ho gayi

2. Qayamate wusta-kisi karn ya jagah ke poore log mar jaayein to unki qayamat qaayam ho gayi

3. Qayamate kubra-jis din aasmano zameen aur usme jo kuchh hai sab fana ho jayein 📕 Almalfooz,hissa 1,safah 92 📕 Almalfooz,hissa 3,safa