वायदा बाजार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुनिया का वायदा बाजार का मतलब 'अधि़कारिक जुआ' जिसको सरकारे खिलाती हे जिसमे ९९% जनता नुकसान देती हे हमारा कहना हे आम जनता इससे दूर रहे अगर किसी को धन गवाना हो तो ही शेयरऔर वस्तु-बाजार मे आये उसका स्वागत हे ये शराब-जुआ आदि से ज्यादा खतरनाक हे इसमे आदमी तिल-तिल कर मरता हे परेशान होकर आत्म-हत्या तक कर लेता हे अगर आप जुआरी-शराबी हे तो कोई बात नही खेलिये ?अगर आपको वजन कम करना हो खेलिये आपको बीबी-बच्चो से प्यार नही जरुर खेलिये अगर समय से पहले मरना हे जरुर खेलिये नाते-रिश्तेदारी सम्पर्कवाले क‍रीबी मिलने वालो सबसे दूर रहना हे जरुर खेलिये ??? नही सीख मिली हो तो भी खेलना हे तो इस बाजार की जानकारी कीजिये १ शहर जिन्स शेयर आदि की चाल होती हे चाल को देखना चाहिये २ हमेशा नीचे मे खरीदना चाहिये उपर मे बेचना चाहिये माल ना होने की दशा बेचकर नही खेलना चाहिये |३ शेयरो को हमेशा ऊचे रेट के ५% कीमत मे लेना चाहिए मान लीजिए किसी शेयर की कीमत १००० रुपये तक गई तो उसको ५०रु तक आने का इन्त्तजार करे शेयर को हर हाल मे नीचे आना चाहिये| १साल मे नीचे आयेगा ३साल से ५साल मे बदेगा १साल मे ९५% गिरेगा जब-जब चुनाव होगे चुनावो के बाद बाजार बदना शुरु हो जाता लगभग ३साल१०महीने मे बाजार सबसे ऊचा होगा हर वस्तु महगी होगी | उसके बाद मन्दी शुरु हो जायेगी चुनाव से ४ महिने पहले तक घोर मन्दी होगी | वहा आप खरीद कर सकते हे सरकार बनने के ४महिने बाद बाजार मे धीरे-धीरे तेजी आना शुरु हो जायेगी | लगभग ४साल तेजी के बाद मन्दी शुरु हो जायेगी| ये वायदा बाजार ऐसे ही चलता रहता हे| ये ही हाल जमीनो -मकानो कच्चे माल वस्तु-वायदा बाजार मे भी चलता हे जो वस्तु चुनाव के समय से कितनी भी महगी हो जाये ३३% कीमत पर जरुर वापस आयेगी|आप को अपनी जमा पूजी का १०% इस बाजार मे लगाना चाहिए|इससे ज्यादा नही इसको व्यापार मत समझिये ये सट्टा हे ये सट्टा केसे चलता हे| मे आपको बताता हु कम्प्यूटर पर आपको दोनो तरफ खरीददार और बिकवाल नजर आते ‌‌‌‌हे वो ज्यादातर फर्जी होते हे| और आपस मे खरीद बेच करते रहते हे आपको लगता हे बाजार मे तेजी मन्दी चल रही हे|जबकि वो इन्तजार मे हे| कब आप खरीद या बेच करे जनता बहुतायत मे जिस काम को करेगी वो उसके विपरीत चल देगे यानी जनता ही तेजी मन्दी लाने मे मुख्य भूमिका निभाती हे| उनकी कोशिश होती हे जनता उनके हिसाब से सोचे जनता किधर भी जाये जीत उन्ही की होनी हे |क्योकि जनता एक नही हे वो एक ही थेली के चट्टे- बट्टे हे|बाजार मे बहुतायत मे जो काम हो रहा हो उसके विपरीत चले| जिस रेट मे खरीद की हे उसका ५०% नीचे आने पर ही दूसरी खरीद करे माल दोगुना कर दे जेसे १शेयर भाव५०रुपये =५०रुपये= २शेयरभाव२५रुपये=५०रुपये= ४ शेयर भाव १२रुपये५०पेसे =५०रुपये= ८शेयर भाव ६रुपये २५पेसे=५०रुपये= १६शेयर भाव३रुपये१५पेसे=५० रुपये= ३२शेयर भाव १रुपये६०पेसे=५०रुपये इस तरीके से आपके पास ३०० रुपये मे ६३ शेयर ५०रु कीमत के आ गये|आपका एवरेज ६रुपये लगभग का हुआ कभी मात नही खाओगे नामी कम्पनी अधिक कारोबार वाली मे ही खेले अन्यथा मात खा जाओगे| सोने मे अधिकतम भाव से २३००रुपये नीचे आने पर पहली खरीद करनी चाहिये| जेसे=== अधिकतम भाव्=१६०४० -२३००= १३७४०पर पहली खरीद | भाव १३७४०-२३००= ११४४० पर दूसरी खरीद करे माल दोगुना लेना चाहिये| भाव ११४४०-२३००= ९१४० पर तीसरी खरीद करे माल चोगुना लेना चाहिये|भाव ९१४०-२३००=६८४० पर चोथी खरीद करे माल ८गुना होना चाहिये | भाव ६८४०-२३००=४५४० पर पाचवी खरीद करे माल १६ गुना होना चाहिये|एसे ही चान्दी मे ३००० रुपये के अन्तर से खरीद करनी चाहिये|सोना चादी की चाल ३० साल कि होती हे १० साल बदता हे २०साल नीचे रहेगाताम्बा शीशा जिन्क निकिल आदि की चाल ७से८ साल की होती हे| चुनाव के समय से कितनी भी महगी हो जाये ३३% कीमत पर जरुर वापस आयेगी|किसी के पास जादू की द्दन्द्दा नही हे कभी भी किसी के कहने पर काम नही करे अगर इस बाजार का जानकार नही हे अगर होता तो खुद नही कमा लेता किसी को क्यो बताता सब बताने वाले हारे हुये जुआरी होte hea होने से पहले अपनी पोजीशन बराबर कर दे| मेरा मानना हे इस वायदा बाजार से कम पून्जी वाला कभी नही जीत सकता अगर और जानकारी चाहिये तो सम्पर्क करे |धरमेन्दर गर्ग ५३- मधुवन एन्क्लेव क्रशना नगर मथुरा मोबाइल न० ९८९७१०६१७७

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]