रोंगटे खड़े होना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मानव बांह पर खड़े रोंगटे

रोंगटे खड़े होना, किसी व्यक्ति की त्वचा के रोमों के आधार पर अनायास विकसित होने वाले उभार हैं जो कि ठंड या फिर गहन भावनाओं जैसे कि भय, विषाद, खुशी, उत्साह, प्रशंसा और कामोत्तेजना का अनुभव करने के कारण प्रकट हो सकते हैं। इनके लिए आयुर्वैज्ञानिक शब्द क्यूटिस एंसेरिना (cutis anserina), है। इस वाक्यांश को हिन्दी और उर्दु में एक मुहावरे की तरह भी प्रयोग किया जाता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]