राहुल देव (पत्रकार)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

राहुल देव वरिष्ट पत्रकार, हिन्दीसेवी तथा भारतीय भाषाओं के संवर्धन के पक्षधर हैं। वे 'सम्यक न्यास' के न्यासी हैं।

हिन्दी के बारे में उनका विचार है कि अगर हिंदी के महत्व की बात करें तो आज़ादी के बाद से हिंदी का महत्व बढ़ा है, बढ़ रहा है, बढ़ता रहेगा और बढ़ना भी चाहिए। हिंदी को मजबूत करने के लिए सरकार को बहुत प्रयास करने होंगे। सरकार को चाहिए की वो प्राथमिक शिक्षा में माध्यम के तौर पर मातृभाषाओं को बनाए रखे। अगर प्राथमिक शिक्षा में मातृ भाषाओं को निकाल दिया गया तो केवल हिंदी ही नहीं बल्कि भारत की अन्य क्षेत्रीय भाषाओं को भी अंग्रेजी के हाथों बिकने से कोई नहीं रोक सकता।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]