राष्ट्रीय साक्षरता मिशन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

राष्ट्रीय साक्षरता मिशन की स्थापना ५ मई १९८८ को तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने की थी। इसका उद्देश्य २००७ तक १५ से ३५ आयु वर्ग के उत्पादक और पुनरुत्पादक समूह के निरक्षर लोगों को व्यावहारिक साक्षरता प्रदान करते हुए ७५ प्रतिशत साक्षरता का लक्ष्य हासिल करना था।[कृपया उद्धरण जोड़ें] पुनर्संरचना के बाद इसके स्थान पर नया साक्ष्रर भारत कार्यक्रम सितम्बर से लागू किया गया है।तथा 1990 तक में 3 करोड़ लोगो को शिक्षीत किया गया व 1995 तक में 5 करोर को शिक्षा प्रदान की गयी। [1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

राष्ट्रीय ज्ञान आयोग-साक्षरता

National Literacy Mission

National Literacy Mission Authority