राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारत में राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग स्वायत्त संस्था है।[1] [2] इसकी स्थापना १९७८ में हुई थी। यह एक संवैधानिक निकाय है। 89 वाँ संविधान संशोधन अधिनियम 2003 में हुआ जिसमे राष्ट्रीय अनुसूचित जाति एवं जनजाति आयोग का दो भागो में विभाजन हुआ। राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग (अनुच्छेद-338) तथा अनुसूचित जनजाति आयोग (अनुच्छेद-338क) के रुप में।

राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग
आयोग अवलोकन
गठन 19 फ़रवरी 2004; 16 वर्ष पहले (2004-02-19)
पूर्ववर्ती आयोग राष्ट्रीय अनुसूचित जाति एवं जनजाति आयोग 1978
अधिकारक्षेत्रा भारत सरकार
मुख्यालय नई दिल्ली
आयोग कार्यपालक राम शंकर कठेरिया, अध्यक्ष
एल. मुरुगन, उपाध्यक्ष
केशपा रामलु, सदस्य
योगेन्द्र पासवान, सदस्य
स्वराज विद्वान, सदस्य
वेबसाइट
https://ncsc.nic.in

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 31 अगस्त 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 दिसंबर 2015.
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 6 जनवरी 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 दिसंबर 2015.

इस आयोग में एक अध्यक्ष,उपाध्यक्ष एवं तीन सदस्य होते हैं ꫰