रामराय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रामराय एक विद्वान भक्त थे। ये ऐसे विद्वान् भक्त हो गए हैं कि जीव गोस्वामी तथा विश्वनाथ चक्रवर्ती ने अपनी रचनाओं में इनकी वंदना की है।

ये अपना वंश गीतगोविन्द के रचयिता श्री जयदेव से चला हुआ मानते हैं। रामराय, जयदेव से चौदहवीं पीढ़ी में हुए। इनका जन्म लाहौर में हुआ पर ये छोटी अवस्था में ही विरक्त होकर वृन्दावन चले आए। इनकी 'गीतगोविंद भाषा' की रचना संवत् १६२२ में हुई जिससे इनका काल सं. १५६० से १६४० तक मान्य है। इनके पिता का नाम गौरगोपाल तथा भाई का चंद्रगोपाल था। इनकी संस्कृत रचनाएँ गौर-विनोदिनी-वृत्ति, गौरगीता आदि हैं तथा व्रजभाषा में 'आदि वाणी' और 'गीतगोविन्द भाषा' है।