मुंडन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मुंडन हिन्दू तथा मुस्लिम सम्प्रदायों दोनों में प्रचलित नवजात शिशुओं के बाल काटने की प्रथा है; जिसे मुस्लिम अक़ीक़ा के नाम से जानते हैं और जिसके बारे में एक आम धारणा ये है कि बच्चे के मुंडन से बल, बुद्धि और आयु बढ़ती है[1]

वैदिक काल में 5 वर्ष पूर्ण करने के बाद गुरुकुल में प्रवेश के समय चूड़ाकर्म संस्कार(मुंडन संस्कार) किया जाता था

सन्दर्भ[संपादित करें]