मार्गा फॉलस्टिच

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मार्गा फॉलस्टिच
जन्म 16 जून 1915
वीमर, थुरिंगिया, जर्मन साम्राज्य
मृत्यु 1 फ़रवरी 1998(1998-02-01) (उम्र 82)
मेनज़, जर्मनी
आवास जर्मनी
नागरिकता जर्मन
राष्ट्रीयता जर्मन
क्षेत्र रसायनशास्त्र, कांच, ऑप्टिक्स
संस्थान स्कॉट एजी

मार्गा फॉलस्टिच (१६ जून १९१५ - १ फरवरी १९९८) जर्मन काँच रसायनज्ञ थी। उन्होंने ४४ साल तक स्कॉट एजी के लिए काम किया। वे स्कॉट एजी में पहली महिला कार्यकारी थीं। इस दौरान उन्होंने ३०० से अधिक प्रकार के दृश्य (ऑप्टिकल) चश्मों पर काम किया। ४० पेटेंट उनके नाम पंजीकृत थे।

जीवन और कार्य[संपादित करें]

फॉलस्टिच का जन्म १९१५ में जर्मनी के वीमर के एक कैथोलिक परिवार में हुआ था। उनके दो-भाई बहन थे। १९२२ में उनका परिवार जेना चला आया, जहां फॉलस्टिच ने अपनी माध्यमिक विद्यालय की पढ़ाई की। १९३५ में हाई स्कूल से स्नातक होने के बाद उन्होंने यूरोप की ओप्टिकल और तकनीकी विशेषता वाले चश्मे बनाने वाले अग्रणी निर्माताओं में से एक स्कॉट एजी में स्नातक सहायक के रूप में प्रशिक्षण देना शुरू किया। अपने प्रारंभिक वर्षों में, उन्होंने पतली फिल्मों के विकास पर काम किया। तब किए गए मूल शोध के निष्कर्ष आज भी धूप के चश्में, विरोधी प्रतिबिंबित लेंस, और ग्लास फेकेड्स के निर्माण में उपयोग किए जाते है।

इस प्रतिभाशाली युवा महिला का करियर स्नातक सहायक से तकनीकी विशेषज्ञ, फिर सहायक वैज्ञानिक और अंततः वैज्ञानिक के रूप में तेजी से बढ़ा. द्वितीय विश्व युद्ध में उनके मंगेतर की मृत्यु हो गई और तब से उन्होंने केवल अपने करियर पर ध्यान केंद्रित कर दिया। १९४२ में उन्होंने स्कॉट में काम करते हुए रसायन शास्त्र का अध्ययन किया। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद बदली परिस्थितियों में वे अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर पायी। जेना सोवियत व्यवसाय क्षेत्र से संबंधित थी; हालांकि, दुनिया में सबसे उन्नत काँच बनाने की सुविधा जेना में थी और पश्चिमी सहयोगी इन जानकारियों को प्राप्त करना और उपयोग करना चाहते थे। इसलिए, स्कॉट एजी के ४१ विशेषज्ञों और प्रबंधकों को पश्चिमी क्षेत्र में लाया गया, जिसमें फॉलस्टिच भी शामिल थी।

स्कॉट एजी के लोग अपना काम जारी रख सके इसलिए १९४९ में लैंडशॉट में एक नई शोध प्रयोगशाला का निर्माण किया गया था। हालांकि, १९४८ में जेना से निर्माण स्थल हटाने के बाद और जर्मनी के विभाजन के बाद यह निर्णय लिया गया था कि शॉट एजी के

४१ कांच बनाने वालों के लिए मेनज़ में एक नया संयंत्र बनाया जाएगा। १९५२ में मेनज़ नियस्ताद ("नया शहर") के बाहरी क्षेत्र में नया संयंत्र खोला गया। यहां मार्गा फॉलस्टिच ने माइक्रोस्कोप और दूरबीन के लिए लेंस पर विशेष ध्यान देने के साथ नए ऑप्टिकल चश्मे के अनुसंधान और विकास पर काम करना जारी रखा।

फाउलस्टिच को हलके लेंस एसएफ ६४ के आविष्कार के लिए अंतरराष्ट्रीय मान्यता मिली, जिसके लिए उन्हें १९७३ में सम्मानित किया गया। ४४ साल तक स्कॉट एजी में काम करने के बाद १९७९ में वे सेवानिवृत्त हुईं। उन्होंने अगले वर्षों में दूरदराज के देशों की यात्रा की, लेकिन वे ग्लास सम्मेलनों में व्याख्यान और प्रस्तुतियां देती रही। १ फरवरी १९९८ में ८२ वर्ष की आयु में उनकी मृत्यु हुई।

उनकी १०३ वीं जयंती पर, खोज इंजन गूगल द्वारा एक विशेष डूडल के साथ उन्हें सम्मानित किया गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  • "Von Jena nach Mainz – und zurück. Schott-Geschichte zwischen Kaltem Krieg und deutscher Wiedervereinigung" [From Jena to Mainz and back: The story of Schott between the Cold War and German reunification] (PDF) (जर्मन में). Mainz: Schott Glaswerke [Schott Glassworks]. 1995. अभिगमन तिथि 19 January 2014.
  • "Germany's Female Inventors". Deutsche Welle. अभिगमन तिथि 19 January 2014.