मातंगी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मातंगी
संबंध महाविद्या, देवी

मतंग शिव का नाम है। इनकी शक्ति मातंगी है। यह श्याम वर्ण और चन्द्रमा को मस्तक पर धारण करती हैं। यह पूर्णतया वाग्देवी की ही पूर्ति हैं। चार भुजाएं चार वेद हैं। मां मातंगी वैदिकों की सरस्वती हैं। पलास और मल्लिका पुष्पों से युक्त बेलपत्रों की पूजा करने से व्यक्ति के अंदर आकर्षण और स्तम्भन शक्ति का विकास होता है। ऐसा व्यक्ति जो मातंगी महाविद्या की सिद्धि प्राप्त करेगा, वह अपने क्रीड़ा कौशल से या कला संगीत से दुनिया को अपने वश में कर लेता है। वशीकरण में भी यह महाविद्या कारगर होती है। हिन्दू धर्म के अनुसार मातंगी ही एक ऐसी देवी है जिन्हें जूठन का बुक लगा लगाया जाता है ऐसा कहते हैं कि मातंगी देवी को झूठा किये बिना भूख नहीं लगता है । मातंगी देवी समता का सूचक है ।


यह देवी संसार के बनाए प्रपंचो का अंत करने वाली देवी है, सृष्टि में जो भी परिवर्तन आता है वो इनके द्वारा होता है।

ऐसा कहते हैं,जब माता पार्वती को चंडालिया द्वारा अपने झूठन का भोग लगाया तब सभी देवगण और शिव जी के भूतादिकगण इसका विरोध करने लग गए लेकिन माता पार्वती ने चंडालिया की श्रद्धा को देख कर मातंगी का रूप लेकर उनके द्वारा चढ़ाए गए जूठन को ग्रहण किया ।

सन्दर्भ[संपादित करें]