मध्यमा प्रतिपद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

महात्मा बुद्ध ने आर्य अष्टांगिक मार्ग को मध्यमाप्रतिपद (पालि: मझ्झिमापतिपदा ; तिब्बती: དབུ་མའི་ལམ། Umélam; वियतनामी : Trung đạo; थाई: มัชฌิมา) के रूप में अभिव्यक्त किया था।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]