भीमपलासी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यह राग काफी थाट से निकलता है। आरोह में रे और ध"' नहीं लगता और अवरोह में सब स्वर लगते हैं, इसलिये इस की जाति औडव-सम्पूर्ण मानी जाती है। इसमें ग"' और नी"' कोमल लगते हैं। वादी स्वर म"' और सम्वादी स्वर स"' माना जाता है।

गाने-बजाने का समय दिन का तीसरा प्रहर है।

आरोह-नी_ स, ग_, म प नी_ सं।

अवरोह--सं, नी_, ध प, म ग_ रे स।

पकड़-नी_सं म, म ग_, प म, ग_ म ग_ रे स।

सन्दर्भ[संपादित करें]

संगीत श्री- एन। सी। इ। आर। टी d Is Ni, And unknow writing is Ga, Filmi songs; Badashah; Aa Nil Gagan Tale Pyar Hum Kare, NavBahar; Ae Ri Main To Prem Diwani mera Darad Na Jane Koi, Mera Say; Naino Mein Badra Chhaye,