भाप आसवन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भाप आसवन के लिए प्रयोगशाला मे व्यवस्था[कृपया उद्धरण जोड़ें]

भाप आसवन, एक विशेष प्रकार की आसवन प्रकिया है जिसके द्वारा ताप संवेदी पदार्थों जैसे कि प्राकृतिक एरोमैटिक यौगिकों को पृथक किया जाता है।

बहुत से कार्बनिक यौगिक निरंतर उच्च तापमान पर विघटित हो जाते हैं, इनका पृथक्करण सामान्य आसवन द्वारा नहीं हो सकता है, इसलिए आसवन उपकरण मे पानी या भाप भेजी जाती है। पानी या भाप को मिलाने से, यौगिकों का क्वथनांक नीचे गिर जाता है, जिसके फलस्वरूप यह कम तापमान पर वाष्पीकृत होते है, अधिमानतः जिस तापमान से नीचे पदार्थ का ह्रास बहुत अधिक हो जाता है। यदि वो पदार्थ जिनका आसवन होना है उष्मा के प्रति बहुत अधिक संवेदनशील होते हैं तो, भाप आसवन को निर्वात आसवन के साथ संयुक्त रूप से किया जा सकता है। आसवन के पश्चात वाष्प को सामान्य रूप से संघनित किया जाता है।

= सिद्धान्त[संपादित करें]

अनुप्रयोग[संपादित करें]

तारपीन के तेल को भाप आसवन विधि द्वारा शुद्ध किया जाता है।

इतिहास[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]