बेबे नानकी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बेबे नानकी
Bebe Nanaki - elder sister of Guru Nanak Dev.jpg
बेबे नानकी और गुरु नानक
जन्म लाहौर (वर्तमान कसूर जिले)

बेबे नानकी (पंजाबी: ਬੇਬੇ ਨਾਨਕੀ) (जन्म 1464-1518) सिख धर्म के संस्थापक और पहले गुरु (शिक्षक) गुरु नानक देव की बड़ी बहन थीं। बेबे नानकी सिख धर्म की एक महत्वपूर्ण धार्मिक शख्सियत हैं, और पहले गुरसिख के रूप में जानी जाती हैं। वह अपने भाई की "आध्यात्मिक प्रतिभा" का एहसास करने वाली पहली शख्सियत थी।[1]

प्रारंभिक जीवन और पृष्ठभूमि[संपादित करें]

बेबे नानकी के पिता मेहता कालू और माता तृप्ता थी। लाहौर (वर्तमान कसूर जिले) के पास चहल शहर में जन्मी, बेबे नानकी का नाम उनके दादा-दादी द्वारा रखा गया था, जिन्होंने नानकियन शब्द के नाम पर उनका नाम नानकी रखा था, जिसका अर्थ आपके नाना-नानी का घर होता है। बेबे और जी को सम्मान के संकेत के रूप में उनके नाम के साथ जोड़ा जाता है। बेबे का उपयोग एक बड़ी बहन और जी का प्रयोग सम्मान दिखाने के लिए किया जाता है। बेबे नानकी की 11 साल की उम्र में शादी हो गई थी। उन दिनों इतनी कम उम्र में शादी करने का रिवाज था।[2]

परिवार[संपादित करें]

बेबे नानकी को अपने भाई के साथ बहुत लगाव था और वह उनके "प्रबुद्ध आत्मा" को सबसे पहिले पहचानने वावालों में से थी। वह उनसे 5 साल बड़ी थी, लेकिन उनके लिए एक माँ की भूमिका निभाई। उन्होंने न केवल अपने पिता से गुरु नानक की रक्षा की, बल्कि वह उन्हें बिना शर्त प्यार करती थी। गुरु नानक देव को बेबे नानकी के साथ रहने के लिए भेजा गया था जब वह केवल 15 वर्ष के थे। उनकी स्वतंत्रता को स्थापित करने के लिए, बेब ननकी ने उनके लिए एक पत्नी की तलाश की। बेबे नानकी ने अपने पति के साथ गुरु नानक देव से शादी करने के लिए माता सुलखनी को ढूँढा। चूंकि बेबे नानकी की खुद की कोई संतान नहीं थी, इसलिए वह अपने भाई के बच्चों, श्री चंद और लखमी चंद को पालने में मदद करती थी। बेबे नानकी को गुरु नानक देव के पहले अनुयायी के रूप में जाना जाता है। वह सदा उनके लिए समर्पित थी। साथ ही वह भगवान की भक्ति के एक साधन के रूप में संगीत का उपयोग करने में गुरु नानक देव को प्रेरित करने के लिए जाने जाती हैं। यह जानकर कि उनके पास संगीत प्रतिभा है, उन्होंने उन्हें अपने संगीत को आगे बढ़ाने में मदद करने के लिए एक रीबब खरीदा।[3]

मौत[संपादित करें]

बेबे नानकी की मृत्यु 1518 में हुई थी। उनकी अंतिम इच्छा थी कि उनके भाई गुरु नानक देव उनके अंतिम दिनों में उनके साथ रहे। उनकी अंतिम सांसें जपुजी साहिब को सुनते हुए बीती।[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Bebe Nanaki Gurdwara". मूल से 17 September 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 November 2011.
  2. "Sikh Women Now". मूल से 25 April 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 November 2011.
  3. "Sikh Women Now". मूल से 25 April 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 November 2011.
  4. "Sikh Women Now". मूल से 25 April 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 November 2011.