सामग्री पर जाएँ

बीरेंद्र नारायण चक्रवर्ती

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

बीरेंद्र नारायण चक्रवर्त, (20 दिसंबर, 1904 - 26 मार्च, 1976) एक भारतीय सिविल सेवक, राजनीतिज्ञ और हरियाणा के दूसरे राज्यपाल थे।[1] हरियाणा के राज्यपाल के रूप में इनका कार्यकाल सबसे लंबा रहा है।

उन्होंने कोलकाता के स्कॉटिश चर्च कॉलेज से शिक्षा ग्रहण की,[2] स्कूल ऑफ ओरिएंटल स्टडीज, लंदन के भारतीय सिविल सेवा परीक्षाओं के लिए आगे के अध्ययन के बाद, उन्होंने 1928 में परीक्षा उत्तीर्ण की और आईसीएस में अक्टूबर 1929 में बंगाल प्रेसीडेंसी में सहायक कलेक्टर और मजिस्ट्रेट के रूप में शामिल हो गए।[3]

सन्दर्भ

[संपादित करें]
  1. De, Jatindra Ranjan (1991). The Growth of parliamentary government in India. Bijan Publishers. पपृ॰ 228, 231.
  2. [1] Archived 2017-08-19 at the वेबैक मशीन/> और कलकत्ता विश्वविद्यालय में अपनी शिक्षा जारी रखी। वे 1926 में रसायन विज्ञान में बी एस सी के लिए यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में शामिल हुए। <ref name="chakravarty"
  3. The India Office and Burma Office List: 1945. Harrison & Sons, Ltd. 1945. पृ॰ 156.