फोर्जिंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
फोर्जिंग क्रिया का एनीमेशन
फोर्जिंग प्रक्रिया के पहले और बाद में

उचित स्थान पर दबाव का उपयोग करते हुए धातु की प्‍लास्टिक अवस्‍था को मनचाहा आकृति देने को गढ़त या फोर्जन या फोर्जिंग (forging) कहते हैं। धातु को आकृति देना आधुनिक प्रविधि के द्वारा ग्रेन-ढांचे को परिष्‍कृत करता है; इसकी अंतनिर्हित क्षमता का विकास करता है; यांत्रिक-विशेषता को सुधारता है और ढांचागत समानता का उत्‍पादन करता है जो छिपे हुए आंतरिक दोषों से मुक्‍त करता है। फोर्जिंग विभिन्‍न प्रविधियों के द्वारा की जाती है जैसे खुले सांचे की गढ़त ओपन डाई फोर्जिंग, बंद सांचे की गढ़त क्‍लोज्‍ड डाई फोर्जिंग और सटीक गढ़त नीयर नेट आकृति/प्रीसीजन फोर्जिंग शामिल हैं।

फोर्जिंग की क्रिया सामान्य ताप पर (room temperature), मामूली गर्म अवस्था में (warm) या खूब गर्म करके (hot) की जाती है। फोर्ज करके बनाये गये अवयव (हिस्से) एक किलो से भी छोटे से लेकर सैकड़ों मीट्रिक टन के हो सकते हैं। फोर्ज करके बनाये हुए अवयवों को अन्तिम रूप देने के लिये प्राय: कुछ और प्रक्रियाओं से गुजारना पड़ता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]