फलन का प्रभावक्षेत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

बीजगणित में फलन का प्रभावक्षेत्र (domain of a function) किसी फलन (फ़न्क्शन) में प्रयोग होने वाले कोणांकों (argument) के वह मान होने हैं जिनके लिए फलन परिभाषित हो, यानि आर्थपूर्ण हो।[1][2]

उदाहरण[संपादित करें]

लोलक (पेंडुलम) का आवर्तकाल इस फलन के अनुसार अनुमानित करा जाता है:

जहाँ T लोलक का एक आवर्तकाल है, L लोलक की लम्बाई है, तथा g गुरुत्वजनित त्वरण है। इस फलन में L कोणांक है और इसका प्रभावक्षेत्र है (लोलक की लम्बाई शून्य से कम होना भौतिक रूप से असम्भव है)।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Paley, Hiram; Weichsel, Paul M. (1966). A First Course in Abstract Algebra. New York: Holt, Rinehart and Winston. p. 16.
  2. Rosenbaum, Robert A.; Johnson, G. Philip (1984). Calculus: basic concepts and applications. Cambridge University Press. p. 60. ISBN 0-521-25012-9.