प्राथमिक क्षेत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्राथमिक क्षेत्र अर्थव्य्वस्था का वह क्षेत्र है जो प्राकृतिक संसाधनों का सीधा उपयोग करता है। इसमें कृषि, वानिकी, मछली पकड़ना और खनन भी शामल हैं। इसके विपरीत, द्वितीयक क्षेत्र वस्तुओं का विनिर्माण करता है और तृतीयक  सेवाएं प्रदान करता है। प्राथमिक क्षेत्र आमतौर पर कम विकसत देशों में सबसे महवपूर्ण होता है जबकि औद्योगिक देशों में प्रायः कम महवपूर्ण है।

विनिर्माण उद्योग जो क कचे माल को पैक या शुधकरण करते ह उह प्राथमिक े के करब ह माना जाता है , खासकर अगर कचा माल ब के लए या लंबी दूर के परवहन के लए अनुपयुत है।   

प्राथमिक उद्योग विकासशील देश म एक बड़ा े है; उदाहरण के लए, पशुपालन जापान क तुलना म अका म आम है।19 वीं सद के साउथ वेस म खनन कैसे एक अथयवथा गतवध के एक फाम पर भरोसा करने के लए आ सकता है के एक मामले का अययन दान करता है।   .[1]

कनाडा वेश और पेोलयम उद्योग कनाडा के सबसे महवपूण म से दो थमक है, इसके कारण थमक के महव म कनाडा , वकसत देश के बीच असामाय है। हालांक, हाल के वष म, भार संया म टमनल एसचज के कारण कनाडा के थमक उद्योग को कम कर दया है,जससे कनाडाई चतुधातुक उद्योग पर अधक भरोसा करते ह। .

कृषि[संपादित करें]

विकसित देश म प्राथमिक उद्योग तकनीक प से अधक उनत बन गया है , उदाहरण के लए, खेती म हाथ उठा और रोपण क जगह मशीनीकरण का उपयोग। अधक वकसत अथयवथाओं म प्राथमिक उपादन के साधन के लए अतरत पूंजी का नवेश कया गया है। एक उदाहरण के प म संयुत राय अमेरका म मकई बेट म गठबंधन लवनेवाल , मका क खेती करते ह और े णाल से बड़ी माा म कटनाशक को वतरत करते ह िजसके फलवप कम पूंजी गहन तकनीक के बावजूद एक उच उपज पाई जा सकती है। तकनीक विकास व नवेश क वजह से प्राथमिक े म कम कमचारय क आवयकता होती है और इसी के कारण वकसत देश म प्राथमिक े म काम कर रहे कमचारय क संया कम होती है। इन देश म वतीयक और तृतीयक े म काम करने वाले कमचारय क संया यादा होती है।    [2]

वकसत देश को अतरत धन के कारण उनके प्राथमिक उद्योग को बनाए रखने और आगे भी वकसत करने के लए अनुमत द जाती है। उदाहरण के लए, यूरोपीय संघ के कृष सिसडी, अिथर मुाफत दर और कृष उपाद के मूय के लए बफ़स दान करते ह। यह वकसत देश को असाधारण कम कमत पर अपने कृष उपाद का नयात करने म सम करता है। यह उह बेहद गरब या अवकसत देश है के खलाफ तपध बनाता है जो क मुत बाजार क नीतय और कम या न के बराबर टैरफ रखते हैं मुकाबला करने के लए। इस तरह के मतभेद, वकसत अथयवथाओं म अधक कुशल उपादन, कृष मशीनर, कसान को बेहतर जानकार उपलध है, (और असर बड़े पैमाने पर) , के कारण आते ह। 

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Mining: it's only a word
  2. H Dwight H. Perkins: Proceedings of the Academy of Political Science, Vol. 31, No. 1, China's Developmental Experience (Mar., 1973)