प्रतिगामी स्खलन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
प्रतिगामी स्खलन
विशिष्टता (चिकित्सा)मूत्रविज्ञान

प्रतिगामी स्खलन (अंग्रेजी: Retrograde ejaculation) उस स्थिति को कहते हैं जब संभोग के दौरान वीर्य लिंग के माध्यम से निकलने के बजाय मूत्राशय में प्रवेश कर जाता है, यद्यपि पुरुष फिर भी यौन चरमोत्कर्ष तक पहुँचते हैं। प्रतिगामी स्खलन की स्थिति में पुरुष या तो बहुत कम या फिर बिल्कुल भी वीर्य स्खलित नहीं करते हैं, इसलिए इसे कभी-कभी सूखा संभोग भी कहा जाता है।

हालांकि प्रतिगामी स्खलन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं है, लेकिन यह पुरुषों में बांझपन का कारण बन सकता है। आमतौर पर प्रजनन क्षमता को बहाल करने के लिए प्रतिगामी स्खलन का उपचार आवश्यक होता है।

लक्षण[संपादित करें]

प्रतिगामी स्खलन किसी पुरुष की स्तंभन या यौन चरमोत्कर्ष प्राप्त करने की क्षमता को प्रभावित नहीं करता है लेकिन चरमोत्कर्ष प्राप्त करने पर वीर्य लिंग के रास्ते बाहर आने के बजाय आपके मूत्राशय में चला जाता है।

प्रतिगामी स्खलन की स्थिति में पुरुष या तो बहुत कम या फिर बिल्कुल भी वीर्य स्खलित नहीं करते हैं। (शुष्क संभोग)

संभोग के बाद मूत्र गन्दला हो जाता है क्योंकि इसमें वीर्य शामिल होता है।

पुरुष किसी महिला को गर्भवती करने में असमर्थ रहते है (पुरुष बांझपन)

सन्दर्भ[संपादित करें]