पेत्रा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(पेट्रा से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
पेत्रा
पेत्रा के अल-ख़ज़नेह (ख़ज़ाना घर) का मुख्य द्वार
पेत्रा के अल-ख़ज़नेह (ख़ज़ाना घर) का मुख्य द्वार
स्थान: म'आन प्रान्त, जॉर्डन
निर्देशांक: 30°19′43″N 35°26′31″E / 30.32861°N 35.44194°E / 30.32861; 35.44194निर्देशांक: 30°19′43″N 35°26′31″E / 30.32861°N 35.44194°E / 30.32861; 35.44194
समुद्र सतह से ऊंचाई: 810 मी॰ (2,657 फीट)
निर्माण: संभवतः 309 ई.पू.?
पर्यटक: 580,000 (2007)
प्रशासी संस्था: पेत्रा क्षेत्र प्राधिकरण
यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल
प्रकार: सांस्कृतिक
मापदंड: i, iii, iv
निर्दिष्ट: 1985 (9वां सत्र)
संदर्भ सं: 326
राष्ट्र पार्टी: जॉर्डन
क्षेत्र: अरब राष्ट्र
जालस्थल: www.visitpetra.jo
पेत्रा की जॉर्डन के मानचित्र पर अवस्थिति
पेत्रा
Jordan में पेत्रा की अवस्थिति

पेत्रा (अरबी: البتراء‎, अल-बत्रा; यूनानी: πέτρα; अंग्रेजी: Petra, पेट्रा) जॉर्डन के म'आन प्रान्त में स्थित एक ऐतिहासिक नगरी है जो अपने पत्थर से तराशी गई इमारतों और जलवाहन प्रणाली के लिए प्रसिद्ध है। इसे छठी शताब्दी ईसापूर्व में नबातियों ने अपनी राजधानी के तौर पर स्थापित किया था। माना जाता है कि इसका निर्माण कार्य १२०० ईसा पूर्व के आसपास शुरू हुआ।[1] आधुनिक युग में यह एक मशहूर पर्यटक स्थल है। पेत्रा एक "होर" नामक पहाड़ की ढलान पर बना हुई है और पहाड़ों से घिरी हुई एक द्रोणी में स्थित है। यह पहाड़ मृत सागर से अक़ाबा की खाड़ी तक चलने वाली "वादी अरबा" (وادي عربة‎) नामक घाटी की पूर्वी सीमा हैं। पेत्रा को युनेस्को द्वारा एक विश्व धरोहर होने का दर्जा मिला हुआ है। बीबीसी ने अपनी "मरने से पहले ४० देखने योग्य स्थान" में पेत्रा को भी शामिल किया हुआ है।

इतिहास[संपादित करें]

6 वीं शताब्दी ईसा पूर्व से पेत्रा नाबातियन साम्राज्य की प्रभावशाली राजधानी थी। जिसके बाद इस साम्राज्य का 106 ई° में रोमन साम्राज्य में विलय हो गया था और रोमनों ने शहर का विस्तार जारी रखा। व्यापार और वाणिज्य के लिए एक महत्वपूर्ण केंद्र, पेत्रा ने तब तक विकास जारी रखा जब तक कि एक विनाशकारी भूकंप ने इमारतों को नष्ट नहीं कर दिया और छठी शताब्दी में मुस्लिमों ने पेत्रा को जीत लिया लेकिन यह ज्यादा समय तक मुसलमानों के अधीन नहीं रहा। इसके बाद 1189 ई° में मध्य पूर्व के मुस्लिम सुल्तान सलादिन की विजय के बाद पेत्रा को ईसाइयों ने त्याग दिया।

ट्रांस-जॉर्डन के गठन के बाद इस स्थल की पहली वास्तविक पुरातात्विक खुदाई 1929 ईस्वी में गयी थीं। 1989 में स्टीवन स्पीलबर्ग ने फिल्म इंडियाना जोन्स और लास्ट क्रूसेड का फिल्मांकन इस स्थान पर किया था जिसके कारण यह जॉर्डन के सबसे बड़े पर्यटक आकर्षण बन गया। पेत्रा की शानदार इंजीनियरिंग उपलब्धियों और अच्छी तरह से संरक्षित आयाम के कारण पेत्रा, को पुरातात्विक स्थल जुलाई 2007 में दुनिया के नए सात आश्चर्यों में से एक के रूप में चुना गया।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Petra". मूल से 13 मई 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 अगस्त 2011.