पेगन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
१८८७ में बना गया रूमानीकरण चित्रण जिस में दिखाये हुए हैं दो रोमन महिलाएं जो कि एक बुतपरस्त देवी को बलि चढ़ा रहीं हैं। प्राचीम काल के यूनानी-रोमन धर्म में अनुष्ठान बलिदान एक महत्वपूर्ण हिस्सा था।[1]

पेगन (Pagan यानी नास्तिक या बुतपरस्ती) एक शब्द है जिसका उपयोग पहली बार चौथी सदी में पूर्वकालीन ईसाई लोगों ने रोमन साम्राज्य के बहुदेववादी धर्म को मानने वालों के लिये किया था। [2][3] 

पेगन एक निन्दात्मक शब्द हुआ करता था जिसका उपयोग बहुदेववादी धर्म को ईसाई धर्म से नीचा दिखाने के निमित्त किया जाता था। [4]  पेगन धर्मों को अक्सर "देहाती के धर्म" के प्रसंग में काम में लिया करते थे। पेगन शब्द के इतिहास में अधिकतर समय उसे निन्दात्मक तरह से काम में लिया गया है। [5] मध्य युग के समय आर उसके पश्चात पेगन एक अपमानजनक शब्द था जिसे कोइ भी गैर-इब्राहीमी या अपरिचित धर्म के लिये उप्योग करते थे, और इस शब्द में यह निहितार्थ था कि पेगन लोग झूठी भगवान या भगवानों में विश्वास करते थे।[6][7]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Jones, Christopher P. (2014). Between Pagan and Christian. Cambridge, Massachusetts: Harvard University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-674-72520-1.
  2. J. J. O'Donnell (1977), Paganus: Evolution and Use Archived 29 मार्च 2019 at the वेबैक मशीन., Classical Folia, 31: 163–69.
  3. Augustine, Divers. Quaest. 83.
  4. Peter Brown (1999). "Pagan". प्रकाशित Glen Warren Bowersock; Peter Brown; Oleg Grabar (संपा॰). Late Antiquity: A Guide to the Postclassical World. Harvard University Press. पपृ॰ 625–626 p=625. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-674-51173-6. मूल से 18 अक्तूबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2018.
  5. Owen Davies (2011). Paganism: A Very Short Introduction. Oxford University Press. पपृ॰ 1–2. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-162001-0. मूल से 4 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2018.
  6. Kaarina Aitamurto (2016). Paganism, Traditionalism, Nationalism: Narratives of Russian Rodnoverie. Routledge. पपृ॰ 12–15. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-317-08443-3. मूल से 5 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2018.
  7. Owen Davies (2011). Paganism: A Very Short Introduction. Oxford University Press. पपृ॰ 1–6, 70–83. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-162001-0. मूल से 4 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2018.