पेगन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
१८८७ में बना गया रूमानीकरण चित्रण जिस में दिखाये हुए हैं दो रोमन महिलाएं जो कि एक बुतपरस्त देवी को बलि चढ़ा रहीं हैं। प्राचीम काल के यूनानी-रोमन धर्म में अनुष्ठान बलिदान एक महत्वपूर्ण हिस्सा था।[1]

बुतपरस्ती (शास्त्रीय लैटिन पैगानस, मूर्तिपूजक) एक शब्द है जिसका उपयोग पहली बार चौथी सदी में पूर्वकालीन ईसाई लोगों ने रोमन साम्राज्य के बहुदेववादी धर्म को मानने वालों के लिये किया था। [2][3] 

पेगन एक निन्दात्मक शब्द हुआ करता था जिसका उपयोग बहुदेववादी धर्म को ईसाई धर्म से नीचा दिखाने के निमित्त किया जाता था। [4]  पेगन धर्मों को अक्सर "देहाती के धर्म" के प्रसंग में काम में लिया करते थे। पेगन शब्द के इतिहास में अधिकतर समय उसे निन्दात्मक तरह से काम में लिया गया है। [5] मध्य युग के समय आर उसके पश्चात पेगन एक अपमानजनक शब्द था जिसे कोइ भी गैर-इब्राहीमी या अपरिचित धर्म के लिये उप्योग करते थे, और इस शब्द में यह निहितार्थ था कि पेगन लोग झूठी भगवान या भगवानों में विश्वास करते थे।[6][7] बहुदेववाद के लिए मूर्तिपूजक शब्द के प्रयोग की उत्पत्ति पर बहस होती है।[8] 19वीं शताब्दी में, प्राचीन दुनिया से प्रेरित विभिन्न कलात्मक समूहों के सदस्यों द्वारा बुतपरस्ती को स्व-वर्णनकर्ता के रूप में अपनाया गया था। 20 वीं शताब्दी में, इसे आधुनिक बुतपरस्ती, नवपाषाण आंदोलनों और बहुदेववादी पुनर्निर्माणवादियों के चिकित्सकों द्वारा स्व-वर्णनकर्ता के रूप में लागू किया जाने लगा। आधुनिक मूर्तिपूजक परंपराओं में अक्सर प्रकृति पूजा जैसे विश्वास या प्रथाएं शामिल होती हैं, जो विश्व के सबसे बड़े धर्मों से भिन्न होती हैं।[9][10]

पुराने बुतपरस्त धर्मों और विश्वासों का समकालीन ज्ञान कई स्रोतों से आता है, जिसमें मानवशास्त्रीय क्षेत्र अनुसंधान रिकॉर्ड, पुरातात्विक कलाकृतियों के प्रमाण और प्राचीन लेखकों के ऐतिहासिक खाते शामिल हैं जो शास्त्रीय पुरातनता के लिए जाने जाते हैं। आज मौजूद अधिकांश आधुनिक बुतपरस्त धर्म (आधुनिक या नवपाषाणवाद[11][12]]) एक विश्व दृष्टिकोण को व्यक्त करते हैं जो सर्वेश्वरवादी, सर्वेश्वरवादी, बहुदेववादी या जीववादी है, लेकिन कुछ एकेश्वरवादी हैं।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Jones, Christopher P. (2014). Between Pagan and Christian. Cambridge, Massachusetts: Harvard University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-674-72520-1.
  2. J. J. O'Donnell (1977), Paganus: Evolution and Use Archived 2019-03-29 at the Wayback Machine, Classical Folia, 31: 163–69.
  3. Augustine, Divers. Quaest. 83.
  4. Peter Brown (1999). "Pagan". प्रकाशित Glen Warren Bowersock; Peter Brown; Oleg Grabar (संपा॰). Late Antiquity: A Guide to the Postclassical World. Harvard University Press. पपृ॰ 625–626 p=625. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-674-51173-6. मूल से 18 अक्तूबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2018.
  5. Owen Davies (2011). Paganism: A Very Short Introduction. Oxford University Press. पपृ॰ 1–2. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-162001-0. मूल से 4 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2018.
  6. Kaarina Aitamurto (2016). Paganism, Traditionalism, Nationalism: Narratives of Russian Rodnoverie. Routledge. पपृ॰ 12–15. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-317-08443-3. मूल से 5 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2018.
  7. Owen Davies (2011). Paganism: A Very Short Introduction. Oxford University Press. पपृ॰ 1–6, 70–83. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-162001-0. मूल से 4 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2018.
  8. Davies, Owen (2011). Paganism: A Very Short Introduction. New York: Oxford University Press. ISBN 978-0191620010.
  9. Paganism Archived 2018-06-25 at the Wayback Machine, Oxford Dictionary (2014)
  10. Paganism, The Encyclopedia of Religion and Nature, Bron Taylor (2010), Oxford University Press, ISBN 978-0199754670
  11. Lewis, James R. (2004). The Oxford Handbook of New Religious Movements. Oxford University Press. पृ॰ 13. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-514986-6.
  12. Hanegraff, Wouter J. (1006). New Age Religion and Western Culture: Esotericism in the Mirror of Secular Thought. Brill Academic Publishers. पृ॰ 84. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 90-04-10696-0.