पुठिया राजपरिवार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पुराने राजमहल के अवशेष

पुठिया राजपरिवार, बंगाल के सबसे पुराने सामन्ती राजपरिवारों में से एक है। इसका निर्माण १७वीं शताब्दी में मुगल शासकों द्वारा किया गया था। जहाँगीर ने 'नीलाम्बर' नामक एक सामन्त को 'राजा' की उपाधि दी। सन १७४४ में नीलाम्बर के पुत्रों के बीच राज्य का विभाजन हो गया और इस प्रकार पुठिया राजपरिवार का जन्म हुआ। यह राजपरिवार अत्यन्त जनहितैषी परिवार था। इस राजपरिवार ने भव्य राजमहल और मन्दिर (जैसे, पुठिया मंदिर परिसर) बनवाए।