पानजनाद नदी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पंजनद नदी[संपादित करें]

'पंजनद' (ਪੰਜਨਦ) अर्थात पांच नदियाँ का संगम | पंजाबी भाषा में पंज का मतलब है पांच नदियों का संगम | वेदों में पुरातन पंजाब का नाम पंचनद के नाम से जिक्र मिलता है | ये पांच नदियाँ है जेहलम, चेनाब, रावी, व्यास और सतलुज|

पांच नदियों का संगम[संपादित करें]

पहिली नदी, जेहलम नदी (Jhelum) वेरी नाग चश्में से उद्गम होती हुई कश्मीर से निकल के वुल्लर झील से गुजरती हुई पाकिस्तान में दाखिल हो जाती है | 724 किलोमीटर की कुल दुरी तय करती हुई ‘त्रिमू’ नाम की जगह पर चेनाब में मिल जाती है|  

दूसरी नदी चेनाब (Chenab), ‘बारा-लाचा’ श्रोत से निकल के चन्द्र-भागा नामक दो और नदिओं के साथ किस्तवाड़, अखनूर (जम्मू-कश्मीर) होती हुई पाकिस्तान पंजाब में जाकर सतलुज में गिर जाती है |

तीसरी नदी रावी (Ravi), रोहतांग दर्रे से निकलके पाकिस्तानी पंजाब में रंगपुर के पास चेनाब में शामिल हो जाती है |

चौथी नदी, व्यास (Beas), रोहतांग दर्रे से निकलके कुल्लू मनाली होती हुई हरिके-पत्तन नाम के स्थल पर सतलुज दरिया में लीन हो जाती है |

पांचवी नदी, सतलुज (Sutlej), मानसरोवर झील से उद्गम होके स्पीती घाटी के कुछ नदियों से होती हुई रोपड़ पार करती हुई फिरोजपुर फाजिल्का के पास से पाकिस्तान-पंजाब में दाखिल हो जाती है | सतलुज चेनाब नदी में लीन होने के बाद और सिंध दरिया में शामिल होने से पहले उच्च-शरीफ़(Uch Sharif) के पास करीब 45 किलोमीटर का फासला तय करती है | इस 45 किलोमीटर के फासले की नदी ‘पंजनद’ कहलाती है | इसके बाद ये नदी सिंध(Sindh) दरिया में शामिल होके गुजरात होती हुई अरब सागर में खपत हो जाती है |