पवित्र रोम साम्राज्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पवित्र रोमन साम्राज्य[1]
Sacrum Romanum Imperium
Heiliges Römisches Reich
साम्राज्य

962 ईसवी–1806
पवित्र रोमन सम्राट का पताका मैक्सिमिलियन द्वितीय का सेना-चिन्ह
962 से 1806 तक पवित्र रोमन साम्राज्य की सीमाएँ
राजधानी कोई भी विधित राजधानी नहीं (वास्तविक राजधानियाँ समय के साथ विविध)
भाषाएँ लेटिन, जर्मनिक, रोमन और स्लावी बोलियाँ
धर्म रोमन कैथोलिकवाद (सम्राट और अन्य शाही राजकुमार)
लूथरवाद[2] और कैल्विनवाद[3] (कई शाही राजकुमार और कई स्वतंत्र शाही शहर)
शासन निर्वाचित राजतंत्र
सम्राट पवित्र रोमन सम्राटों की पूरी सूची के लिए, देखें पवित्र रोमन सम्राट
विधानमंडल रीचस्टैग
ऐतिहासिक युग मध्यकाल युग
 -  ओट्टो प्रथम राज्याभिषेक
    रोम के सम्राट
2 फ़रवरी 962 ईसवी
 -  कॉनराड द्वितीय का
    बर्गुंडी का मुकुट धारण
1034
 -  ऑग्सबर्ग की शांति 1555
 -  वेस्टफेलिया की शांति 24 अक्टूबर 1648
 -  अंत 1806
पूर्ववर्ती
अनुगामी
पूर्वी फ्रांसिया
प्राचिन स्विस संघ
डच गणराज्य
राइन के परिसंघ
ऑस्ट्रियाई साम्राज्य
प्रथम फ्रांसीसी साम्राज्य
प्रशिया का राज्य
संयुक्त राज्य बेल्जियम
लिचेंस्टीन की रियासत
Warning: Value specified for "continent" does not comply

पवित्र रोम साम्राज्य (Holy Roman Empire ; लैटिन : Imperium Romanum Sacrum) केन्द्रीय यूरोप का एक बहुजातीय जटिल राजनैतिक संघ था जो ९६२ से १८०६ तक अस्तित्व में रहा।

पवित्र रोम साम्राज्य न ही पवित्र था और ना ही रोमन। मध्ययुग में यह मध्य यूरोप का हिस्सा था और आरंभिक आधुनिक काल में यह पवित्र रोमन सम्राट के अंदर आ गया। पवित्र रोम साम्राज्य के पहले सम्राट का राज्याभिषेक 962 में हुआ।[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Names of the Holy Roman Empire in other languages: By 1450 the Holy Roman Empire was known as the Holy Roman Empire of the German Nation (जर्मन : Heiliges Römisches Reich Deutscher Nationen, लातिन : Sacrum Romanum Imperium). Google Books
  2. आधिकारिक तौर पर ऑग्सबर्ग के शांति के बाद मान्यता प्राप्त 1555
  3. आधिकारिक तौर पर वेस्टफेलिया की शांति के बाद मान्यता प्राप्त 1648
  4. Martin Arbage, "Otto I," in Medieval Italy: An Encyclopedia (Routledge, 2004), p. 810 online: ओटो पवित्र रोमन साम्राज्य का पहला शासक माना जा सकता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

पठनीय[संपादित करें]

  • Heinz Angermeier, Das Alte Reich in der deutschen Geschichte. Studien über Kontinuitäten und Zäsuren, München 1991
  • Karl Otmar Freiherr von Aretin, Das Alte Reich 1648–1806. 4 vols. Stuttgart, 1993–2000
  • Peter Claus Hartmann, Kulturgeschichte des Heiligen Römischen Reiches 1648 bis 1806. Wien, 2001
  • Georg Schmidt, Geschichte des Alten Reiches. München, 1999
  • James Bryce, The Holy Roman Empire. ISBN 0-333-03609-3
  • Jonathan W. Zophy (ed.), The Holy Roman Empire: A Dictionary Handbook. Greenwood Press, 1980
  • Deutsche Reichstagsakten
  • George Donaldson, Germany: A Complete History. Gotham Books, New York 1985

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

मानचित्र[संपादित करें]