पब्लिक लिमिटेड कंपनी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी (कानूनी तौर पर इसका संक्षिप्त रूप फुल स्टॉप के साथ या बैगर फुल स्टॉप के पीएलसी (plc) है) एक सीमित देयता कंपनी है, जो यूनाइटेड किंगडम के कंपनी कानून के तहत अपना शेयर सार्वजनिक तौर पर आयरलैंड गणराज्य और अन्य राष्ट्रमंडल देशों के न्यायाधिकार क्षेत्र में बेच सकती है। यह स्टॉक एक्सचेंज में असूचीबद्ध या सूचीबद्ध कंपनी हो सकती है। यूनाइटेड किंगडम में, एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी को आमतौर पर "पब्लिक लिमिटेड कंपनी" जैसी शब्दावली या कंपनी के कानूनी नाम के अंत में इसका संक्षिप्त नाम "पीएलसी (plc)" लगाना जरूरी है। हालांकि, कुछ पब्लिक लिमिटेड कंपनियों (ज्यादातर राष्ट्रीयकृत कंपनियां) को विशेष कानून के तहत पहचान के लिए बाद में कोई भी प्रत्यय जोड़ने की छूट होती है।

पंजीकरण[संपादित करें]

इंग्लैंड और वेल्स या स्कॉटलैंड में जब किसी नई कंपनी को शामिल किया जाता है तो उसे व्यापार, नवप्रवर्तन और दक्षता विभाग में कार्यकारी एजेंसी के कंपनी हाउस में अवश्य पंजीकृत होना चाहिए. उत्तरी आयरलैंड के लिए कंपनियों का अलग रजिस्ट्रार है। आयरलैंड गणराज्य में इसके समतुल्य कार्यकारी एजेंसी आयरलैंड में कंपनियों का पंजीकरण कार्यालय है। माल्टा में कोई कंपनी माल्टा फिनांनसियल सर्विस ऑथरिटी (MFSA (एमएफएसए)) में पंजीकृत होगा.

हालांकि किसी पब्लिक लिमिटेड कंपनी के लिए अनिवार्य नहीं है कि वह अपने शेयर के लिए सार्वजनिक रूप से पेशकश करे, (कुछ पीएलसी निजी मालिकानावाली होती हैं और अतिरिक्त वित्तीय स्थिति के लिए पीएलसी पदवी बरकरार रखती है), बहुत सारी कंपनियां ऐसा करती हैं और उनके शेयर लंदन स्टॉक एक्सचेंज या वैकल्पिक निवेश बाजार में व्यापार करती हैं। आयरिश पब्लिक लिमिटेड कंपनियां आमतौर पर आयरिश स्टॉक एक्सचेंज में व्यापार करती हैं, हालांकि बहुत सारी ऐसी भी हैं जो लंदन स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हैं या कुछ वैकल्पिक निवेश बाजार में.

कंपनी के निदेशक[संपादित करें]

एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी के गठन में कम से कम दो निदेशक होना जरूरी है (विभिन्न देशों में यह भिन्न है, भारत में सात निदेशक जरूरी हैं). सामान्य नियम में कोई भी किसी एक कंपनी का निदेशक हो सकता है, बशर्ते कि वह निम्न में से एक आधार पर अयोग्य न ठहरा दिया जाए.

  • "पीएलसी" या उनकी सहायक कंपनियों के मामले में, किन्हीं व्यक्ति की आयु 70 साल से अधिक है या कार्यालय में कार्यरत रहते हुए 70 साल का हो जाता है, जब तक कंपनी की आम बैठक के स्वीकृत प्रस्ताव के द्वारा, जिसके लिए विशेष नोटिस दया गया हो, द्वारा नियुक्त या फिर से नियुक्त नहीं किया जाता हो.
  • व्यक्ति का एक अभुक्त दिवालिया होना, या अदालत द्वारा निदेशक के पद के लिए अयोग्य करार दिया जाना, किसी कंपनी विशेष या कंपनियों के लिए काम करने की इजाजत जब तक न दे दी गयी हो.
  • इंग्लैंड और वेल्स में (जैसा कि अक्टूबर 2008 के कंपनियों के अधिनियम 2006 में है) और स्कॉटलैंड में (उम्र की कानूनी क्षमता (स्कॉटलैंड) अधिनियम 1991), के अनुसार व्यक्ति 16 साल से कम उम्र का है।

कुछ लोग जो ब्रिटिश या यूरोपीय संघ के नागरिक नहीं है, उन पर इसलिए प्रतिबंध है कि यू॰के॰ में रहने के दौरान जो भी करते हैं वह निदेशक होने के दायरे से उन्हें बाहर कर सकता है।

कंपनी के सचिव[संपादित करें]

एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी का सचिव (या हरेक संयुक्त सचिव) होनेवाले व्यक्ति, जिसे निर्देशक के सामने ळपस्थित होना ही होता है उसे कामकाज की जरूरी जानकारी और योग्यता होनी चाहिए और जो:

  1. 22 दिसम्बर 1980 को सचिव या सहायक या उप सचिव के पद पर आसीन हो, या
  2. अपनी नियुक्ति के कम से कम पांच में से तीन साल तक किसी गैर-निजी कंपनी में सचिव के पद पर हो, या
  3. एक बैरिस्टर वकील, या वकील या सॉलीसिटर कहालाता हो या यूनाइटेड किंगडम के किसी विभाग में हो, या
  4. एक व्यक्ति, जो उसके पिछले या उसकी किसी अन्य निकाय की सदस्यता के अनुभव के आधार पर, निर्देशकों के लिए प्रतीत होता है कि सचिव के कार्यों के निर्वहन में सक्षम हो रहा है, या नहीं.
  5. निम्नलिखित किसी एक का सदस्य हो:
    • इंग्लैंड और वेल्स में किसी चार्टर्ड एकाउंटेंट्स इंस्टीट्यूट,
    • स्कॉटलैंड के चार्टर्ड एकाउंटेंट्स इंस्टीट्यूट,
    • आयरलैंड में चार्टर्ड एकाउंटेंट्स इंस्टीट्यूट,
    • चार्टर्ड सेक्रेटरी एंड एडमिनिस्ट्रेटर इंस्टीट्यूट,
    • एसोसिएशन ऑफ चार्टर्ड सर्टिफाइड एकाउंटेंट्स,
    • प्रबंध लेखाकारों के चार्टर्ड इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एकाउंटेंट्स (पहले इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट एंड मैनेजमेंट एकाउंटेट्स के नाम से जाना जाता था), या
    • चार्टर्ड इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक फाइनांस एंड एकाउंटेंसी.

शेयर पूंजी[संपादित करें]

जब कंपनी पंजीकृत हो जाती है तो इसके सदस्यों को कुछ या सभी शेयर लेने के लिए सहमत होना चाहिए. संस्था के बहिर्नियम में उनलोगों के नाम, जो कंपनी का शेयर लेने के लिए सहमत होंगे और उन्होंने कितना शेयर लिया दिखाना जरूरी होगा.‍ ऐसे लोग ग्राहक कहलाते हैं।

पब्लिक लिमिटेड कंपनियों के लिए न्यूनतम शेयर पूंजी होती है: इन्हें कम से कम 50,000 पाउंड मूल्य के शेयरों का आवंटन जरूर करना होगा, इससे पहले ये व्यवसाय शुरू कर सकें. उनका एक चौथाई, 12,500 पाउंड तक भुगतान किया जाना चाहिए. प्रत्येक आवंटित शेयर के लिए इसके अंकित मूल्य का कम से कम एक चौथाई मूल्य पूरे प्रीमियम के साथ भुगतान किया जाना चाहिए.

एक कंपनी एक सामान्य प्रस्ताव पारित कर अपनी अधिकृत शेयर पूंजी में वृद्धि कर सकती है (जब तक कि इसके अंतर्नियम के लिए विशेष या अतिरिक्त प्रस्ताव जरूरी न हों). प्रस्ताव की एक प्रति - और फॉर्म 123 पर वृद्धि की नोटिस - कंपनियों के प्रतिष्ठानों तक इसके पारित होने 15 दिनों के भीतर जरूर पहुंचनी चाहिए. कोई शुल्क कंपनियों के प्रतिष्ठानों को देय नहीं है।

एक कंपनी ऐसे शयरों को रद्द करने के लिए, जो किसी व्यक्ति द्वारा न लेने पर या लिये जाने से सहमत न होने पर, एक साधारण प्रस्ताव पारित कर अपने अधिकृत शेयर पूंजी को घटा सकती है। फॉर्म 122 पर रद्द करने की सूचना, एक महीने के अंदर कंपनियों के प्रतिष्ठानों तक पहुंच जानी चाहिए. कोई शुल्क कंपनियों के प्रतिष्ठानों को देय नहीं है।

शेयर के प्रकार[संपादित करें]

एक कंपनी अपनी इच्छानुसार अलग अलग प्रकार के शेयरों हो सकते हैं, उन सभी की अलग-अलग तरह की शर्ते हो सकती हैं। आमतौर पर शेयर को निम्नलिखित श्रेणियों में विभाजित किया जाता हैं:

  • वाहक शेयर - यह एक कानूनी उपकरण है, जो कंपनी के स्वामित्व को दर्शाता है और आमतौर पर शेयर वारंट के रूप में होते हैं। शेयर वारंट एक दस्तावेज होता है, जो यह बताता है कि वारंट का वाहक शेयर में बताए गए हिस्से का हकदार है। अगर अपने अनुच्छेदों द्वारा अधिकृत है तो कंपनी पूरी तरह से भुगतान किए गए शेयरों को "शेयर वारंट" में तब्दील कर सकती है। ये वारंट बगैर किसी हस्तारण दस्तावेज के आसानी से हस्तांतरित होने योग्य होते हैं; ताकि ये सीधे एक हाथ से दूसरे हाथ में चले जा सकें. जब शेयर वारंट जारी किए जाते हैं, कंपनी को अपने सदस्यों के रेजिस्टर से शेयरधारक का नाम जरूर काट देना चाहिए और वारंट जारी करने की तारीख तथा उससे संबंधित शेयरों की संख्या दर्ज कर देनी चाहिए. अनुच्छेद का तात्पर्य यह है कि रद्द करने के लिए शेयर वारंट का परित्याग किया जा सकता है। अगर ऐसा हो तो धारक फिर से सदस्यों के रजिस्टर में नाम दर्ज कराने का हकदार होता है। वाउचर आमतौर शेयर वारंट के साथ इसलिए जारी किया जाता है ताकि किसी भी लाभांश के लिए दावा किया जा सके.
  • संचयी अधिमान - इन शेयरों को अधिकार होता है कि अगर लाभांश का भुगतान एक साल में नहीं किया जा सकता है तो यह अनुक्रमिक साल में ले जाया जाएगा.लो
  • सामान्य - जैसा कि नाम पता चलता है ये कंपनी के सामान्य शेयर हैं, जिसमें विशेष अधिकार या प्रतिबंध नहीं होते हैं। उन्हें अलग-अलग मूल्य के वर्गों में विभाजित किया जा सकता है।
  • वरीयता - सामान्य रूप से इन शेयरों का अधिकार होता है कि वितरण के लिए कोई सालाना लाभांश उपलब्ध हो तो वरीयता के तौर पर अन्य श्रेणी से पहले इन शेयरों पर भुगतान किया जाए.
  • प्रतिदेय - ये शेयर इस समझौता के साथ जारी किए जाते हैं कि कंपनी या शेयरधारक के पास यह विकल्प होता है कि किसी अवधि के बाद या किसी तय तारीख में उन्हें वापस खरीद ले. एक कंपनी के पास केवल प्रतिदेय शेयर ही नहीं हो सकते.

एक "पीएलसी (plc)" पूंजी बाजार में जाती है और किसी मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से अपने शेयरों की सार्वजनिक बिक्री की पेशकश कर सकती है। अपनी प्रतिभूतियों की सार्वजनिक बिक्री की पेशकश करते हुए यह विज्ञापन भी जारी कर सकती है। इसके विपरीत, कोई निजी कंपनी सार्वजनिक रूप से शेयर बिक्री की पेशकश नहीं कर सकती है।

कंपनी का गठन[संपादित करें]

ब्रिटेन की ज्यादातर कंपनियां अब कंपनी फॉर्मेशन एजेंटों के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक तरीके से गठित होती है।

कागजाती प्रक्रिया[संपादित करें]

निम्नलिखित दस्तावेज, पंजीकरण शुल्क के साथ कंपनियों के रजिस्ट्रार को भेजे जाते है:

  • संस्था के बहिर्नियम - यह कंपनी का नाम, पंजीकृत कार्यालय का पता और कंपनी के उद्देश्यों का ब्यौरा होता है। एक सामान्य व्यावसायिक कंपनी के रूप में किसी कंपनी का उद्देश्य केवल व्यापार चलाना हो सकता है। रजिस्ट्रार को हस्तांतरित किया गया कंपनी का ज्ञापन साक्ष्य के सामने जो अपने हस्ताक्षर से सत्यापित करता है प्रत्येक ग्राहक के द्वारा हस्ताक्षरित होना चाहिए. अक्सर इसे 'कंपनी के चार्टर' या 'कंपनी के संविधान' के रूप में जाना जाता है। संस्था के बर्हिनियम पर हस्ताक्षर करनेवालों के कंपनी के निदेशक होने पर विचार किया जा सकता है। ज्ञापन सदस्यों के साथ बाकी दुनिया के संबंध को परिभाषित करता है।
  • संस्था के अंतर्नियम - यह वह दस्तावेज़ है जिसमे कंपनी के अंदरुनी मामलों को चलाने के लिए नियम निर्धारित होते हैं। रजिस्ट्रार को वितरित किए गए कंपनी के अनुच्छेद प्रत्येक ग्राहक के द्वारा साक्ष्य के सामने, जो हस्ताक्षर कर उसे सत्यापित करता है, हस्ताक्षरित होना चाहिए. अनुच्छेद अंतर-प्रबंधन, अंतर-सदस्य और अंतर-कर्मचारी के संबंधों को परिभाषित करता है।
  • प्रपत्र 10 - यह पहले निदेशक (निदेशकों), सचिव का विवरण देता है और पंजीकृत दफ्तर का पता बताता है। साथ ही साथ, उनके नाम और पते, कंपनी के निदेशक की जन्म तिथि, व्यवसाय और उनके पिछले पांच सालों मेंउनके अन्य निदेशक पदों पर बने रहने का ब्योरा भी होता है। फॉर्म पर प्रत्येक नियुक्त अधिकारी और प्रत्येक ग्राहक (या उनके एजेंट) का हस्ताक्षर और तारीख होना चाहिए.
  • प्रपत्र 12 - यह कंपनी के निगमन से संबंधित सभी कानूनी अनुपालन के साथ एक वैधानिक घोषणा है। इसे एक ऐसे वकील द्वारा हस्ताक्षर किया जाना चाहिए, जो कंपनी का गठन करता है, या ऐसे किसी व्यक्ति द्वारा जिसका नाम फॉर्म 10 पर निदेशक या कंपनी का सचिव के रूप में है। इस पर हस्ताक्षर शपथ के लिए आयुक्त, एक नोटरी पब्लिक, समझौता करानेवाले या कानूनी सलाह देनेवाले वकील की उपस्थिति में हस्ताक्षर किया जाना चाहिए. आमतौर पर इसमें 5 पाउंड शुल्क दिए जाने योग्य एक व्यक्ति होता हैं जो वैधानिक घोषणा का साक्ष्य होता हैं।
इलेक्ट्रॉनिक प्रक्रिया[संपादित करें]

कागजी प्रक्रिया के साथ इसका मुख्य अंतर यह है कि इसमें फॉर्म 12 और वैधानिक घोषणा की जरूरत नहीं होती है। यह उल्लेखनीय रूप से प्रक्रिया को गति प्रदान करती है और इलेक्ट्रॉनिक कंपनी के गठन के लिए कंपनियों के प्रतिष्ठान का 100 साल का रिकॉर्ड है।

क्योंकि इलेक्ट्रॉनिक प्रक्रिया को संगत सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है, जो कंपनियों के प्रतिष्ठानों के साथ ई-फाइलिंग सेवा का काम करता है,[1]कंपनियों का गठन आमतौर पर कंपनी फॉर्मेशन एजेंट के माध्यम से होता है।[2]

कंपनी का लेखा[संपादित करें]

एक कंपनी का पहला लेखा निगमन के दिन से शुरू होना चाहिए. पहला वित्तीय वर्ष 'लेखा-विधि संदर्भ तारीख' को या दोनों पक्षों की ओर की इस तारीख के सात दिनों तक पूरा होना चाहिए. पिछले लेखा की साल की अंतिम तारीख के बाद आनेवाले दिन को अगले लेखा की शुरूआत होती है। अगले 'लेखा-विधि संदर्भ तारीख' या दोनों में किसी एक पक्ष के सात दिनों तक किसी तारीख को वे इसे खत्म करते हैं।

फाइलिंग की इस आवश्यकता को पूरा करने में मदद के लिए, कंपनियों के प्रतिष्ठान एक पूर्व-मुद्रण 'शटल' फॉर्म आपके पंजीकृत दफ्तर में निगमन की सालगिरह के कुछ हफ्ते पहले भेजते हैं। यह वह सूचना दिखाएगा जो आप पहले से ही कंपनियों के प्रतिष्ठान को दे चुके हैं। यदि आपका लेखा देर से वितरित होता हैं, तो एक स्वचालित जुर्माना हो जाता है। जो एक पीएलसी (plc) के लिए 500 पाउंड और 5,000 पाउंड के बीच होता है। एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी (पीएलसी (plc)) का पहला लेखा निम्न अवधि तक जरूर दिया जाना चाहिए:

  • अगर निगमन की तारीख के 19 महीनों के भीतर लेखा-विधि संदर्भ अवधि 12 महीने से अधिक है या लेखा-विधि संदर्ग अवधि के अंत से तीन महीने तक है, इनमें जो भी लंबी अवधि का हो या
  • लेखां-विधि संदर्भ अवधि के अंत के सात महीने के भीतर.

रेजिस्ट्रार को फॉर्म 225 भेज कर आप लेखा-विधि संदर्भ दिन में परिवर्तन कर सकते हैं। परिवर्तन के द्वारा लेखा अवधि के लागू होने के दौरान या कंपनियों के प्रतिष्ठान से जुड़े लेखा सौंपे जाने की अनुमति की अवधि के दौरान ही आपको यह कर लेना चाहिए. अधिक जानकारी के लिए, पुस्तिका देखें, 'एकाउंट्स एंड एकाउंटिंग रेफरन्स डेट्स'.

वार्षिक प्रतिलाभ[संपादित करें]

हर कंपनी को कम से कम हर 12 महीने में एक बार कंपनियों के प्रतिष्ठान को वार्षिक प्रतिलाभ देना ही चाहिए. उस तारीख से, जिसमें प्रतिलाभ मिला, यह करने के लिए उसके पास 28 दिन होता है।

इस नत्थीकरण की जरूरत को पूरा करने में कंपनियों की मदद के लिए, कंपनियों के प्रतिष्ठान एक पूर्व-मुद्रित 'शटल' फॉर्म निगमन की सालगिरह से कुछ हफ्ते पहले उनके पंजीकृत दफ्तर में भेज देते हैं।

सभी कंपनी को यह करना पड़ता है:

  • तमाम विवरण की जांच करें कि वे बिल्कुल सही हैं,
  • जो सही नहीं हैं, उसमें संशोधन करें,
  • सामने फॉर्म जो तारीख दर्शायी गयी है उसके 28 दिनों के भीतर, उस पर हस्ताक्षर कर और तरीख डालकर फॉर्म को वापस भेजें.

दस्तावेज़ प्रसंस्करण शुल्क 30 पाउंड (इलेक्ट्रॉनिक फाइलिंग या वेब फाइलिंग सेवाओं के लिए 15 पाउंड) का होता है, जो कंपनियों के प्रतिष्ठान को सालाना प्रतिलाभ के साथ भेजना जरूरी है।

रूपांतरण[संपादित करें]

एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी का एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में रूपांतरण[संपादित करें]

दोनों ही एक प्राइवेट लिमिटेड शेयर के द्वारा और एक अनलिमिटेड कंपनी शेयर पूंजी के द्वारा पीएलसी. के रूप में पुन: पंजीकृत हो सकती है, लेकिन कोई कंपनी बगैर शेयर पूंजी के ऐसा नहीं कर सकती है।

एक निजी कंपनी को विशेष प्रस्ताव जरूर पारित करना चाहिए ताकि पुन: पंजीकृत हो सके और प्रस्ताव की प्रति देने के साथ रेजिस्ट्रार को आवेदन किया जा सके. प्रस्ताव में निम्न बातों का भी उल्लेख हो:

  • कंपनी का ज्ञापन बदला जाए, जिसमें यह कहा गया हो कि कंपनी पब्लिक लिमिटेड कंपनी हो गयी है,
  • न्यूनतम वैधानिक 50,000 पाउंड की इसकी शेयर पूंजी में बढ़ोत्तरी की जाए,
  • ज्ञापन में कुछ अन्य बदलाव भी करे, जो एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी को समनुरूप करने के लिए आवश्यक है,
  • कंपनी से जुड़े अनुच्छेदों में कुछ आवश्यक परिवर्तन लाए.

निजी कंपनी अगर पहले से पर्याप्त शेयर पूंजी जारी नहीं करती है तो उसे 25% हिस्सा का भुगतान कर न्यूनतम 50,000 पाउंड का शेयर जारी करनी होगी.

एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी का एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में रूपांतरण[संपादित करें]

कुछ अधिकार-क्षेत्र में एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी कभी भी कुछ औपचारिकताओं के साथ कभी भी प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या प्राइवेट अनलिमिटेड कंपनी के रूप में पुन: पंजीकृत हो सकती है।

अदालत पूंजी शेयर की कटौती के मिनट पर अनुमोदन के साथ किसी सार्वजनिक कंपनी को फिर से निजी कंपनी के रूप में पंजीकरण का आदेश दे सकती है, जिससे जारी शेयर की पूंजी न्यूनतम वैधानिक स्तर से नीचे चली जाती है। ऐसे मामले में अदालत कंपनी के ज्ञापन और अनुच्छेदों में प्रत्यावर्तन निर्दिष्ट करेगी. पुन:पंजीकरण के लिए एक विशेष प्रस्ताव की आवश्यकता नहीं है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप (सीमित देयता साझेदारी)
  • प्राइवेट लिमिटेड कंपनी
  • सोसाइटस यूरोपीय
  • यूनाइटेड किंगडम कंपनी कानून
  • अनलिमिटेड कंपनी (असीमित कंपनी)

टिप्पणियां[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]