नबकलेबर २०१५

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Nabakalebara
Nabakalebara2015logo.jpeg
Festival logo
प्रारंभ 29 March 2015
अंत 17 July 2015
आवृत्ति 19/18/12 years
स्थान Puri Jagannath Temple, Puri, Odiya
उद्घाटन 1733
संस्थापक Gajapati Ramachandra Deba (Abhinav Indradyumna)
पिछला 1996
अगला 2035
प्रतिभागी Pilgrims
उपस्थिति 5 million (approx.)
शैली Religious
संरक्षक(गण) Gajapati Maharaj Puri

नबकलेबर २०१५, नवकलेवर (ओडिया : ନବକଳେବର, संस्कृत : नवकलेवर) के प्राचीन अनुष्ठान का उत्सव है  यह अधिकांश जगन्नाथ मंदिर के  साथ जुड़ा हुआ है।  भगवान जगन्नाथ , बलभद्र , सुभद्रा और सुदर्शन की पुराने मूर्तियों की प्रतिमाओं का एक नया सेट द्वारा प्रतिस्थापित किया जाता है ; ऐसे अंतिम  त्योहार 1996 में आयोजित किया गया था।  यह त्योहार  की अवधि ज्योतिष ग्रहों की स्थिति के अनुरूप हिंदू कैलेंडर के अनुसार चुना जाता है। [1]  त्योहार के दौरान क्ई अनुसूचियां शामिल है, और यह बनजाग यात्रा के साथ २३ मार्च से शुरू होता है (नीम के पेड़ को चुनने के लिए खोज की एक प्रक्रिया) और रथयात्रा के साथ समाप्त होगा। [2] ५० लाख से अधिक श्रद्धालुओं जगन्नाथ मंदिर , पुरी,[[उड़ीसा]] के मंदिर परिसर के आसपास आयोजित इन अनुष्ठानों में भाग लेने की उम्मीद।

कार्यक्रम सूची[संपादित करें]

  • २९ मार्च २०१५ , रविवार: बनजाग यात्रा।
  •   ३० मार्च २०१५, सोमवार : देऊली मठ को यात्रा।[2]
  •  २ अप्रील २०१५, गुरुबार देऊली मठ में रहने का कर्यक्रम।
  • ३ अप्रील २०१५, शुक्रवार: मंगला मंदिर में पूजा [2]
  • ४ अप्रील से १७ मई २०१५: दारू अन्वेषण [2]
  • २ जुन २०१५, मंगलवार: देबस्नान पूर्णिमा। [2]
  • 5 June 2015, Friday: Carving of images.[2]
  • 15 June 2015, Monday : Transfer of Brahma at midnight.[2]
  • 17 जुलाई 2015, Friday: Naba jaubana darshan.[2]
  • 18 July 2015, Saturday: Rath Yatra.[2]
  • 22 July 2015, Wednesday:Hera Panchami.[2]
  • 26 July 2015, Sunday:Bahuda Yatra.[2]
  • 27 July, Monday: Sunabesa.[2]
  • 28 July 2015, Tuesday:Adhara Niti.[2]
  • 30 July 2015, Thursday: नीलाद्रीबिजे[2]

नेत्रउत्सव[संपादित करें]

मूर्तियों चित्रित करने के बाद देवी-देवताओं की पलकें औपचारिक रूप से "नेत्रउत्सव" अर्थ " आँखों के उद्घाटन " के रूप में जाना जाता है। यह  मंदिर के ब्राह्मण पुजारियों द्वारा विशेष रूप से "अंतिम जीवन - प्रदान अनुष्ठान" किया जाता है। [3] इस शाल यह १६ जुलाई २०१५ पर किया जाना निर्धारित है।[2] जीवन - प्रदान अनुष्ठान के बाद जनता के द्वारा, देखने के लिए एक जुलूस के रूप में लिया जाता है जिसे "नव जोबन वेश" कहा जाता है।[3]

सुना-बेश[संपादित करें]

Suna Besha or golden attire of Lord Jagannath.

सुनाबेश (हिन्दी, सोना वेश) देवताओं को स्वर्ण आभूषणों के साथ सजाया देखा जाएगा। सिंहद्वार तक पहुँच जाने रथ यात्रा के तीसरे दिन आयोजित किया जाता है।  यह २७ जुलाई को आयोजित होने वाली है। सोने के गहने राजा कपिलेन्द्र देव द्वारा जगन्नाथ मन्दिर में दान किया हुआ है, कहा गया है। प्रारंभ में, गहनों के २०८ किलो वजन १३५ डिजाइन के शामिल थे, लेकिन अब केवल २०-३० डिजाइन देवताओं को सजाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

[4][5]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Navakalevara:Information About The Ritual". Official web site of temple administration. अभिगमन तिथि 25 June 2015.
  2. "Rituals of Nabakalebara". Official Website of Shree Jagannath Temple Administration: National Informatics Center. अभिगमन तिथि 25 June 2015.
  3. Das, Prafulla (6 March 2015). "The Rebirth in Puri". The Frontline. पपृ॰ 1–4. अभिगमन तिथि 25 June 2015.
  4. "Odisha for not allowing helicopters during Nabakalebara". Zee News. 10 June 2015. अभिगमन तिथि 26 June 2015.
  5. "Lakhs throng to see Lord's Golden Avatar". India News Diary. अभिगमन तिथि 26 June 2015.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]