धूलि फुफ्फुसार्ति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

#सिलिकोसी😊

सिसिकोसिस क्रिस्टलीय सिलिका धूल के साँस लेना के कारण व्यावसायिक फेफड़े की बीमारी का एक रूप है, और फेफड़ों के ऊपरी भागों में नोडलर घावों के रूप में सूजन और जलन से चिह्नित होता है। यह एक प्रकार का न्यूमोकोनियोजन है

  1. लक्षण:-

1. सांस लेने में कठनाई।

2.खासी आना।

3.बुखार।

4.असामान्य रूप से तेजी से श्वास लेना।

5.भूख मैं कमी और वजन घटना (अनोरेसिक)

6.सीने में दर्द होना।

7.थकान।

8.स्किन का डार्क होना।

9. नाखूनों के बीच में तंतुओं को नष्ट कर दिया जाता है।नाखूनों में प्रोटीन फाइबर के रूप में नाखूनों में उथले पंजों की दरारें बढ़ जाती हैं,

  1. #उन्नत मामलों में निम्नलिखित भी हो सकता है:-

1.रक्त परिसंचरण या रक्त के अपर्याप्त ऑक्सीजनकरण से उत्पन्न त्वचा का एक नीच रंग का मलिनकिरण।

2.फेफड़े या फुफ्फुसीय रक्त वाहिकाओं की बीमारी के परिणामस्वरूप दिल की दाईं ओर असामान्य वृद्धि

3.श्वसन अपर्याप्तता मिलना।

सिलिकोसिस वाले रोगियों को विशेष रूप से क्षयरोग (टीबी) के संक्रमण के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं- जिसे सिलिकोटिब्युलोसिस कहा जाता है।

  1. बीमारियों या चोटों से जुड़ी अनियंत्रित शारीरिक प्रक्रियाएं |

जब छोटे सिलिका धूल के कणों को साँस लेते हैं तो वे फेफड़ों में छोटे पुष्पकोशिकाओं और नलिकाओं में गहराई से खुद को एम्बेड कर सकते हैं। जहां ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड गैसों का आदान-प्रदान होता है वहां फेफड़े श्लेष्म या खाँसी से धूल को बाहर नहीं निकाल सकते हैं, जब फेफड़ों में जमा क्रिस्टलीय सिलिका की धूल के ठीक कण, धूल कणों को मिलाकर मैक्रोप्लैज ट्यूमर नेकोसिस कारकों को रिहा कर एक सूजन प्रतिक्रिया बंद कर देगा इंटरलेयलीन-एल.लेलोतोरीन बी 4 और अन्य साइटोकॉकिन्स। बदले में, ये फाइब्रोब्लास्ट को सिलिका कण के चारों ओर कोलिगेन पैदा करने और उत्पन्न करने के लिए उत्तेजित करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप फाइब्रोसिस और नोडलर घावों के प्रकोप होते हैं। क्रिस्टलीय सिलिका के भड़काऊ प्रभाव जाहिरा तौर पर नालपॉईज इन्फ्लमासाम द्वारा मध्यस्थता कर रहे हैं। नोड्यूलर सिलिकॉसिस में फेफड़े के ऊतक रोग विज्ञान के लक्षणों में फाइब्रोटिक मॉड्यूल होते हैं

  1. निदान,:-

सिलिकोसिस के निदान के लिए तीन प्रमुख तत्व हैं। सबसे पहले,

1.रोगी के इतिहास में इस बीमारी का कारण होने के लिए पर्याप्त सिलिका धूल का पता लगाना चाहिए। 

2.दूसरा, छाती इमेजिंग (आमतौर पर छाती एक्स-रे) जो कि सिलिकॉसिस के अनुरूप निष्कर्ष प्रकट करता है। 3.तीसरा, कोई अंतर्निहित बीमारियां नहीं हैं जो असामान्यताएं पैदा करने की अधिक संभावनाएं हैं। पल्मोनरी फंक्शन परीक्षण से वायु प्रवाह सीमा, प्रतिबंधात्मक दोष, कम प्रसार क्षमता, मिश्रित दोष, या सामान्य हो सकता है (विशेषकर जटिल रोग के साथ)

  1. निवारण:-

सिलिकोसिस को रोकने का सबसे अच्छा तरीका सांस की क्रिस्टलीय सिलिका धूल उत्पन्न करने वाली कार्य-स्थान की गतिविधियों की पहचान करना है और फिर धूल को खत्म करने या नियंत्रित करने के लिए ("प्राथमिक रोकथाम")। जल स्प्रे अक्सर उपयोग किया जाता है जहां धूल उत्पन्न होता है सूखी हवा छानने के माध्यम से धूल को भी नियंत्रित किया जा सकता है।

  1. उपचार :-

सिलिकोस्सिस कोई इलाज नहीं होने वाली एक स्थायी बीमारी है। कुछ उपायों में उपचार के कुछ उपाय शामिल हैं। 1.पाउडर एल्यूमीनियम, डी-पेनिसिलमिन और पॉलीविनाइल पाइरीडिन-एन-ऑक्साइड का शमन। 2.कोर्टिकोस्टोराइड थेरेपी 3.चीनी हर्बल कांबुचा। 4.हर्बल निकालने के टेट्रैंड्रिन सिलिकोसिस की प्रगति धीमी हो सकती है। ✍Harshit tailor

विभिन्न रूप[संपादित करें]

रोग के निम्नलिखित रूप माने जाते हैं :

1. ऐंथ्राकॉसिस (Anthracosis) - यह कोयले की धूल से उत्पन्न होता है। इसको कोयले की खानों में काम करनेवालों की थाइसिस भी कहा जाता है।

2. साइडेरोसिस - इसको सिलिको-साइडेरोसिस (Silico-Siderosis) भी कहा जाता है। टीन, ताँबा, जस्ता और लोहे की खानों में तथा इस्पात के कारखानों में काम करनेवालों को इन धातुओं के कणों के श्वास के साथ बराबर जाते रहने से यह होता है।

3. सिलिकोसिस (Silicosis) - यह भयंकर रोग धूल में सूक्ष्म कणों के अत्यधिक मात्रा में रहने से उत्पन्न होता है। स्फटिक के कारखानों में काम करनेवालों में यह रोग अधिक होता है। ऐल्यूमिना, कार्बन, जिप्सम तथा हैमाटाइट के कण यदि धूल में सिलिका के साथ मिले रहते हैं, तो प्रतिक्रिया में अनिष्टकर प्रभाव कम होते हैं।

4. बिसिनोसिस (Byssinosis) - यह रूई और नमदे के कारखानों में काम करनेवालों को होता है।

5. ऐस्बेसटोसिस (Asbestosis) - यह रोग ऐस्बेस्टस की सामग्री बनानेवालों में होता है।

6. बागासोसिस (Bagassosis) - यह रोग चीनी के कारखानों में खोई (bagasse) की धूल के कणों के फुफ्फुसों में प्रवेश से होता है। खोई में छह प्रतिशत सिलिका होता है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]