द्विध्रुव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पृथ्वी का चुम्बकीय क्षेत्र लगभग एक चुम्बकीय द्विध्रुव जैसा समझा जा सकता है।

भौतिकी में कई प्रकार के द्विध्रुव (डाइपोल / dipole) आते हैं:

वैद्युत द्विध्रुव[संपादित करें]

अनेक अणु जैसे HCl, HBr, H2O, CO2, NH3, CH4 आदि वैद्युत द्विध्रुव होते है।

  • नियत दूरी पर रखे दो समान एवं विपरीत आवेशों के निकाय को विद्युत द्विध्रुव कहते हैं। विद्युत द्विध्रुव पर आवेश तो होते हैं परंतु कुल आवेश का मान 0 होता है।

चुम्बकीय द्विध्रुव[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]