द्विध्रुव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पृथ्वी का चुम्बकीय क्षेत्र लगभग एक चुम्बकीय द्विध्रुव जैसा समझा जा सकता है।

भौतिकी में कई प्रकार के द्विध्रुव (डाइपोल / dipole) आते हैं:

वैद्युत द्विध्रुव[संपादित करें]

यदि दो बराबर परन्तु विपरीत प्रकृति के बिन्दु आवेश एक-दुसरे से अल्प दूरी पर स्थित हों तो वे वैद्युत द्विध्रुव (एलेक्ट्रिक डाइपोल) की रचना करते है। अनेक अणु जैसे HCl, HBr, H2O, CO2, NH3, CH4 आदि वैद्दुत द्विध्रुव होते हैं।

चुम्बकीय द्विध्रुव[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]