दीवान (शायरी)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(दीवान से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
अब्दुर रहमान चुग़तई द्वारा 1927 में संकलित दीवान-ए-ग़ालिब का एक पृष्ठ

दीवान कविताओं के संग्रह को कहते हैं। अक्सर यह शब्द उर्दू, फ़ारसी, पश्तो, पंजाबी और उज़बेक भाषाओं के कविता संग्रह के लिए इस्तेमाल होता है। उदाहरण के लिए ग़ालिब की शायरी के संग्रह को दीवान-ए ग़ालिब कहा जाता है। 'दीवान' मूल रूप से फ़ारसी का शब्द है और इसका मतलब सूची, बही या रजिस्टर होता है। इसी वजह से भारतीय उपमहाद्वीप में किसी प्रशासन या व्यापार में हिसाब या बही-खाते रखने वाले व्यक्ति को भी 'दीवान जी' कहा जाता था।



Shayari Dosti | Bhaiya ji Dhamaka Dosti Shayari

Shayari Dosti ki Yaad


Har Pal Ki Dosti Ka Iraada Hai Aapse,

Apnapan Hi Kuchh Jyada Hai Aapse,

Saath Rahenge Aapke Umr Bhar Ke Liye,

Hamesha Dosti Nibhayenge Vaada Hai Aapse.


Beautiful Dosti Shayari


हर पल की दोस्ती का इरादा है आपसे,

अपनापन ही कुछ ज्यादा है आपसे,

साथ रहेंगे आपके उम्र भर के लिए,

हमेशा दोस्ती निभाएंगे वादा है आपसे।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]