दिष्टधारा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

Sotr दिष्ट धारा वह धारा हैं जो सदैव एक ही दिशा में बहती हैं व जिसकी ध्रुवीयता नियत रहती हैं। इस प्रकार की धारा में +ve और -ve दोनों ध्रुव होते हैं। इसकी तुलना हम डिजिटल सर्किट से कर सकते हैं। कोई भी इलेक्ट्रोनिक कॉम्पोनेन्ट केवल दिष्ट धारा से ही चल सकती है। चूँकि इसमें सिर्फ दो परिमाण होते हैं इसलिए सारे डिजिटल सर्किट केवल इसी धारा पर चलते हैं न की प्रत्यावर्ती धारा पर.