दिल्ली के बाजार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तिरछे अक्षर

यह दिल्ली के बाजारों की सूची है:

चांदनी चौक[संपादित करें]

दिल्ली। आने वाले किसी भी व्यक्ति की यात्रा तब तक पूरी नहीं हो सकती जब तक वह चांदनी चौक न जाए। यह दिल्ली के थोक व्यापार का प्रमुख केंद्र है। पुराने समय में तुर्की, चीन और हॉलैंड के व्यापारी यहां व्यापार करने आते थे। यह मुगल काल में प्रमुख व्यवसायिक केंद्र था। इसका डिजाइन शाहजहां की पुत्री जहांआरा बेगम ने बनाया था। यहां की गलियां संकरी हैं। इसलिए यहां गा‍ड़ी लेकर न आने की सलाह दी जाती है।

कनॉट प्लेस[संपादित करें]

कनॉट प्लेनस दिल्ली का प्रमुख व्यवसायिक केंद्र है। इसका नाम ब्रिटेन के शाही परिवार के सदस्यप ड्यूक ऑफ कनॉट के नाम पर रखा गया था। इस मार्केट का डिजाइन डब्यू एच निकोल और टॉर रसेल ने बनाया था। यह मार्केट अपने समय की भारत की सबसे बड़ी मार्केट थी। अपनी स्थापना के 65 साल बाद भी यह दिल्ली में खरीदारी का प्रमुख केंद्र है। यहां के इनर सर्किल में लगभग सभी अंतर्राष्ट्रीय ब्रैंड के कपड़ों के शोरूम, रेस्टोररेंट और बार हैं। यहां किताबों की दुकानें भी हैं जहां आपको भारत के बारे में जानकारी देने वाली बहुत अच्छी किताबें मिल जाएंगी।

जनपथ और पालिका बाजार[संपादित करें]

बंटवारे के बाद यहां आए शरणार्थियों और तिब्बंती शरणार्थियों ने यहां अपनी दुकानें बनाकर इस मार्केट को बसाया। यहां आपको सस्ते कपड़े मिल जाएंगे लेकिन इसके लिए मोल भाव करना आना चाहिए। जनपथ में सेंट्रल कॉटेज इंडस्ट्रीज एंपोरियम है। इसके पास ही जवाहर व्यापार भवन है जहां भारतीय हस्तशिल्प का सामान देखा और खरीदा जा सकता है। पालिका बाजार भूमिगत बाजार है। यहां करीब 400 दुकानें हैं जहां कम कीमत पर कपड़े और बिजली का सामान मिल जाता है लेकिन यहां भी बहुत मोल भाव करना पड़ता है।

दिल्ली हाट[संपादित करें]

दिल्ली हाट एम्स से थोड़ी ही दूरी पर स्थित है। यहां पर आकर संपूर्ण भारत के एक साथ दर्शन हो जाते हैं। यहां पर भारत के विभिन्न प्रांतों के हस्तपशिल्प को प्रदर्शित करती दुकानें हैं। दक्षिण भारतीय व्यंजन से लेकर सुदूर उत्तर पूर्व के खाने के स्टॉल भी यहां मिल जाते हैं। यहां समय समय पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है। यहां आप नृत्य और संगीत का भी आनंद उठा सकते हैं।

अन्य बाजार[संपादित करें]