त्वरक भौतिकी सम्बन्धी सॉफ्टवेयर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कण त्वरक एक जटिल मशीन है जो कम ऊर्जा के मूलभूत आवेशित कणों की ऊर्जा को बढ़ाने के लिए प्रयुक्त होती है। त्वरक भौतिकी, भौतिकी की वह शाखा है जिसमें कण त्वरकों की के डिजाइन और उनके परिचालन से सम्बन्धित सभी भौतिक पहलुओं का अध्ययन किया जाता है। कण त्वरकों के डिजाइन और उनके परिचालन में सॉफ्टवेयरों की महती भूमिका है।

एक कण की गति वाले सॉफ्टवेयर[संपादित करें]

बहुत से कामों में कण त्वरक में केवल एक कण की गति का अध्ययन कर पाना भी बहुत सूचनाएँ प्रदान करता है। इस प्रकार के कुछ कोड निम्नलिखित हैं-

एकल कण गतिकी स्पिन ट्रैकिंग टेलर मैप सामूहिक प्रभाव
(Collective Effects)
परिवर्धनीय टिप्पणी
एक्सलरेटर टूलबॉक्स (AT),[1] हाँ हाँ[2] नहीं हाँ हाँ
ASTRA[3] हाँ नहीं नहीं हाँ हाँ For space-charge effects evaluation
BDSIM[4] हाँ नहीं नहीं नहीं हाँ For particle-matter interaction studies.
Beta [5] हाँ नहीं नहीं नहीं नहीं No longer maintained.
Bmad (contains PTC) [6] हाँ हाँ हाँ हाँ हाँ Reproduces PTC's unique beam line structures
COSY INFINITY [7] हाँ हाँ हाँ नहीं हाँ
Elegant [8] हाँ नहीं नहीं हाँ नहीं
MAD and MAD-X (includes PTC) [9] हाँ नहीं नहीं नहीं नहीं
OCELOT [10] हाँ नहीं नहीं हाँ हाँ
OPA [11] हाँ नहीं नहीं नहीं नहीं
Propaga[12] हाँ नहीं नहीं नहीं हाँ
PTC[13] हाँ हाँ हाँ नहीं हाँ
SAD [14] हाँ नहीं नहीं नहीं नहीं
SAMM [15] हाँ हाँ नहीं नहीं नहीं
SixTrack [16] हाँ नहीं नहीं नहीं नहीं Can run on BOINC
TRACY and variants[17] हाँ नहीं नहीं नहीं नहीं
Zgoubi [18] हाँ हाँ नहीं नहीं नहीं

उपरोक्त स्तम्भों का परिचय[संपादित करें]

स्पिन ट्रैकिंग
Tracking of a particle's spin.
टेलर मैप्स (Taylor Maps)
Construction of Taylor series maps that can be used for simulating particle motion and also can be used for such things as extracting single particle resonance strengths.
सामूहिक प्रभाव (Collective effects)
The interactions between the particles in the beam can have important effects on the behavior, control and dynamics. Collective effects take different forms from Intrabeam Scattering (IBS) which is a direct particle-particle interaction to wakefields which are mediated by the vacuum chamber wall of the machine the particles are traveling in. In general, the effect of direct particle-particle interactions is less with higher energy particle beams. At very low energies, space charge has a large effect on a particle beam and thus becomes hard to calculate. The above simulation codes do not handle low energy space charge effects. See below for a list of programs that can handle low energy space charge forces.
परिवर्धनीयता (Extensible)
क्या इस सॉफ्टवेयर की क्षमता को आसानी से बढ़ाया जा सकता है?

स्पेस चार्ज कोड[संपादित करें]

ऊपर एकल आवेश की गतिकी वाले सॉफ्टवेयरों की चर्चा की गयी है। किन्तु वास्तविकता यह है कि त्वरक में कणों का समूह या गुच्छा चलता है, न कि एकल कण। जब कण समूह में होते हैं तो उनका आपस में अन्तःक्रिया (interaction) होती है जिसके कारण कण-पुंज का आकार बढ़ सकता है और गुच्छ की लम्बाई बढ़ सकती है या अन्तःपुंज स्कैटरिंग (intrabeam scattering) होती है। इसके अतिरिक्त स्पेस चार्ज के कारण बीम में अस्थायित्व (instabilities) आ सकता है और उसके कारण बीम-ह्रास भी हो सकता है। स्पेस चार्ज के प्रभाव को भी सम्मिलित करने के लिए प्रायः प्वासों समीकरण (Poisson equation) को ट्रैकिंग के दौरान कुछ-कुछ दूरी पर हल किया जाता है जिसके लिए पार्टिकल-इन-सेल (Particle-in-cell) तकनीक का प्रयोग किया जाता है। स्मरणीय है कि कण की ऊर्जा जब अधिक होती है तब स्पेस-चार्ज के कारण बीम के आकार और अस्थायित्व पर प्रभाव कम होता है। अतः अधिक ऊर्जा के आवेशित कणों की गति को मॉडल करने के लिए स्पेस-चार्ज प्रभाव की गणना सरल अल्गोरिद्मों की सहायता से की जा सकती है (जो अधिक तेज होते हैं)।

कम ऊर्जा वाले गुच्छों की गति से सम्बन्धित कुछ प्रमुख कोड निम्नलिखित हैं-

उच्च ऊर्जा पर स्पेस चार्ज प्रभाव के कारण अन्य बातों के अलावा ताउसेक प्रकीर्णन (Touschek scattering) तथा कोहेरेन्ट सिन्क्रोट्रॉन रेडिएशन (CSR) प्रभाव देखने को मिलते हैं। उच्च ऊर्जा वाले कण-चुच्छों में स्पेस चार्ज प्रभाव की गणना करने वाले कुछ कोड निम्नलिखित हैं-

  • ELEGANT
  • MaryLie
  • SAD

प्रतिबाधा की गणना करने वाले कोड[संपादित करें]

समूहिक प्रभाव को प्रतिबाधा के रूप में भी अभिव्यक्त किया जाता है। अतः त्वरक के लिए इस प्रतिबाधा की गणना करना एक महत्वपूर्न कार्य है। इस कार्य के लिए प्रमुख कोड ये हैं-

चुम्बक एवं अन्य वस्तुओं को मॉडल करने वाले कोड[संपादित करें]

कण त्वरक में अनेकों प्रकार के चुम्बक प्रयुक्त होते हैं। इन चुम्बकों, रेडियो आवृत्ति कैविटी आदि की डिजाइन करने और इन्हें समझने के लिए भी अनेकों सॉफ्ट्वेयर प्रयुक्त होते हैं। इनके लिए प्रयुक्त कुछ कोद-

लैटिस की फाइल का स्वरूप तथा आंकडों का आदान-प्रदान[संपादित करें]

Given the variety of modelling tasks, there is not one common data format that has developed. For describing the layout of an accelerator and the corresponding elements, one uses a so-called "lattice file". There have been numerous attempts at unifying the lattice file formats used in different codes. One unification attempt is the Accelerator Markup Language, and the Universal Accelerator Parser.[41] Another attempt at a unified approach to accelerator codes is the UAL or Universal Accelerator Library.[42]

The file formats used in MAD may be the most common, with translation routines available to convert to an input form needed for a different code. Associated with the Elegant code is a data format called SDDS, with an associated suite of tools. If one uses a Matlab-based code, such as Accelerator Toolbox, one has available all the tools within Matlab.

त्वरकों के उपयोग में काम आने वाले सॉफ्टवेयर[संपादित करें]

कन त्वरकों का अनेक कार्यों के लिए उपयोग किया जाता है। उदाहरण के लिए, कण भौतिकी और सिन्क्रोट्रॉन विकिरण का उत्पादन। When performing a modeling task for any accelerator operation, the results of charged particle beam dynamics simulations must feed into the associated application. Thus, for a full simulation, one must include the codes in associated applications. For particle physics, the simulation may be continued in a detector with a code such as Geant4.

For a synchrotron radiation facility, for example, the electron beam produces an x-ray beam that then travels down a beamline before reaching the experiment. Thus, the electron beam modeling software must interface with the x-ray optics modelling software such as SRW,[43] Shadow,[44] McXTrace,[45] or Spectra.[46] Bmad[6] can model both X-rays and charged particle beams. The x-rays are used in an experiment which may be modeled and analyzed with various software, such as the DAWN science platform.[47] OCELOT [48] also includes both synchrotron radiation calculation and x-ray propagation models.

कुछ प्रमुख सॉफ्टवेयरों की अधिक विस्तृत जानकारी[संपादित करें]

कोड का नाम वर्णन प्रोग्रामन भाषा युगपत कलनविधि स्पेस-चार्ज गणित्र उपयोग उपलब्ध दस्तावेज विकासकर्ता
MADX Single/Multi-particle tracking Frozen Space Charge Ring Manual, tutorial
MICROMAP LIBRARY Single/Multi-particle tracking Fortran yes
PATRICK Particle In Cell C++ yes 2D, 2.5D Ring No
pyORBIT Particle In Cell Python/C++ yes 1D, 2D, 2.5D Linac and Ring Wiki and examples
MIRKO FAIR & GSI

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. ATcollab website
  2. See https://github.com/carmignani/festa
  3. ASTRA Homepage
  4. [1]
  5. user's guide
  6. Bmad home page at cornell.edu
  7. [2]
  8. ELEGANT,a Flexible SDDS Compliant Code for Accelerator Simulation software
  9. MAD/MAD-X homepage at cern.ch
  10. [3]
  11. OPA website
  12. Propaga GitHub repository
  13. [4]
  14. SAD home page at kek.jp
  15. SAMM, another Matlab based tracking code, at liv.ac.uk
  16. SixTrack home page at cern.ch
  17. libtracy at sourceforge.net
  18. Zgoubi home page at sourceforge.net
  19. ASTRA Homepage
  20. TRANFT user's manual, BNL--77074-2006-IR http://www.osti.gov/scitech/biblio/896444
  21. THE MULTIPARTICLE TRACKING CODES SBTRACK AND MBTRACK. R. Nagaoka, PAC '09 paper here
  22. ORBIT home page at ornl.gov
  23. PyORBIT repository
  24. Synergia home page at fnal.gov
  25. IMPACT homepage at Berkeley Lab
  26. OPAL homepage
  27. GPT, General Particle Tracer, at pulsar.nl Archived अक्टूबर 28, 2013 at the वेबैक मशीन.
  28. VSim at Tech-X
  29. TraceWin at CEA Saclay
  30. [5]
  31. ABCI home page at kek.jp
  32. ACE3P at slac.stanford.gov
  33. CST, Computer Simulation Technology at cst.com
  34. GdfidL, Gitter drueber, fertig ist die Laube at gdfidl.de
  35. T. Weiland, DESY
  36. VSim at Tech-X
  37. COMSOL home page at comsol.com
  38. CST Electromagnetic Studio at cst.com
  39. OPERA at magnet-design-software.com
  40. VSim at Tech-X
  41. Description of AML and UAP at cornell.edu
  42. See references by N. Malitsky and Talman such as this manual from 2002.
  43. SRW home page at esrf.eu
  44. Shadow home page at esrf.eu
  45. McXTrace home page at mcxtrace.org
  46. Spectra home page at riken.go.jp
  47. DAWN science platform website
  48. [6]