तुम्बाड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
तुम्बाड
Tumbbad poster.jpg
Theatrical release poster
निर्देशक

Rahi Anil Barve [1]

Anand Gandhi
(Creative Director)[2]

Adesh Prasad
(Co-Director)[2]
निर्माता Sohum Shah
Aanand L. Rai
Anand Gandhi[3]
Mukesh Shah
Amita Shah
पटकथा Mitesh Shah[1]
Adesh Prasad[1]
Rahi Anil Barve[1]
Anand Gandhi[1]
अभिनेता सोहम शाह
संगीतकार अजय-अतुल
Jesper Kyd (Score)
छायाकार Pankaj Kumar
संपादक Sanyukta Kaza
स्टूडियो Eros International
Sohum Shah Films
Colour Yellow Productions
Film i Väst
Filmgate Films
वितरक इरोस इंटरनेशनल
प्रदर्शन तिथि(याँ)
  • 12 अक्टूबर 2018 (2018-10-12)
(Theatrical release)
समय सीमा 104 मिनट
देश India
भाषा हिन्दी
लागत ₹5 crores[4]
कुल कारोबार ₹13.57 करोड़[1]

तुम्बाड एक 2018 भारतीय हिंदी - भाषी पीरियड हॉरर फिल्म है, जो राही अनिल बर्वे द्वारा निर्देशित है [1] । इसके अतिरिक्त, आनंद गांधी ने रचनात्मक निर्देशक के रूप में कार्य किया, और आदेश प्रसाद ने सह-निर्देशक रूप में कार्य किया। मितेश शाह, प्रसाद, बर्वे, और गांधी द्वारा लिखित, फिल्म का निर्माण सोहम शाह, आनंद एल राय, मुकेश शाह और अमिता शाह ने किया था। विनायक राव के रूप में मुख्य भूमिका में सोहम शाह अभिनीत, यह फिल्म 20 वीं सदी के ब्रिटिश भारत के गांव तुम्बाड में छिपे खजाने की खोज की कहानी है।

बर्वे ने एक कहानी के आधार पर स्क्रिप्ट लिखना शुरू किया, जिसे एक दोस्त ने 1993 में मराठी लेखक नारायण धराप द्वारा बताया था। उन्होंने पहला मसौदा 1997 में लिखा था, जब वह 18 साल के थे। 2009 से 2010 तक, उन्होंने फिल्म के लिए 700-पृष्ठ का स्टोरीबोर्ड बनाया। इसे सात उत्पादन कंपनियों द्वारा विकल्प दिया गया था, जिन्होंने तीन बार समर्थन किया और मंजिल पर गए (उत्पादन में गए)। इसे पहली बार 2012 में शूट किया गया था लेकिन एडिटिंग के बाद बर्वे और शाह संतुष्ट नहीं थे। फिल्म को फिर से लिखा गया और मई 2015 में फिल्मांकन पूरा होने के साथ फिर से शूट किया गया। पंकज कुमार ने फोटोग्राफी के निदेशक के रूप में काम किया, जबकि संयुक्ता काजा इसके संपादक थे। जेसपर कीड ने मूल अंक की रचना की जबकि अजय-अतुल ने एक गीत की रचना की।

कथानक[संपादित करें]

1947 में, विनायक राव अपने 14 वर्षीय बेटे पांडुरंग को समृद्धि की देवी के बारे में बताते हैं। ये देवी असीमित सोना (धन) और अनाज (भोजन) का प्रतीक है और पृथ्वी उसका गर्भ है। जब ब्रह्मांड का निर्माण हुआ तो उसने 16 करोड़ देवताओं को जन्म दिया। उनकी पहली और सबसे प्यारी संतान हस्तर देवी के सोने और भोजन के लिए लालची था । हस्तर देवी से सोना हासिल करने में कामयाब रहा लेकिन जैसे ही वह देवी के भोजन के पात्र को हथियाने आगे बढ़ा अन्य देवताओं ने उस पर हमला कर दिया, लेकिन देवी ने उसे इस शर्त पर बचा लिया कि वह कभी भी पूजा नहीं जायेगा और इतिहास से उसे भुला दिया जायेगा। सालों से हस्तर अपनी माँ के गर्भ में सो रहा है।

1918 में , महाराष्ट्र के तुम्बाड में, विनायक की माँ स्थानीय जमींदार सरकार की सेवा उनकी हवेली जा कर करती हैं। इन सेवाओं में यौन सेवा जो इस उम्मीद में विनायक की माँ द्वारा दी जाती है की हवेली में हस्तर की मूर्ती के साथ रखा सोने का सिक्का उन्हें मिल जाए | इस बीच, उनके घर पर, विनायक और उनके छोटे भाई सदाशिव इस बात की चिंता करते है की माँ अभी तक घर नहीं आई और अब घर के एक कमरे में बंद भयानक सी दिखने वाली बूढी (जो सरकार की परदादी थी) को खाना कौन खिलायेगा | सरकार की मृत्यु हो जाती है और विनायक की माँ तुम्बाड को छोड़कर पुणे जाने का निश्चय करती है लेकिन विनायक अपनी माँ को रोकना चाहता है इस आशा से की सरकार की हवेली में शायद कोई छुपा खजाना उन्हें मिल जाए जिसके बारे में काफी अफवाहे फ़ैली हुई थी | सदाशिव पेड़ से गिर कर बुरी तरह से घायल हो जाता है, जिस कारण माँ को उसे लेकर वैध के पास जाना पड़ता है | अब उस बूढी को उस रात खिलाने की जिम्मेदारी विनायक की हो जाती है | माँ उसे कहती है की उस बूढी को सुलाने के लिए तुझे "हस्तर" का नाम लेना है | रास्ते में सदाशिव के मृत्यु हो जाती है |

माँ बैलगाड़ी वाले को सीधे सरकार के हवेली ले जाने के लिए कहती है जहाँ से वह सोने का सिका उठा के ले आती है | दूसरी तरफ जब विनायक उस भयानक बूढी महिला को खिलाने का प्रयास करता है तब भूखी महिला उसे जंजीरों से बाँध कर उसको ही खा जाने के उद्देश्य से उस पर हमला कर देती है लेकिन विनायक उसको हस्तर का नाम लेकर सुला देता है | माँ के लौटने पर अगले दिन दोनों पुणे के लिए निकल जाते है| विनायक की माँ उससे वादा लेती है की वह लौट कर तुम्बाड नहीं आएगा लेकिन वह बार-बार माँ को यही रुक कर खजाने को ढूँढ़ने के लिए आग्रह करता है |

14 साल बीत गए, और विनायक बड़ा हुआ।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Tumbbad". Bollywood Hungama. मूल से 8 January 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 January 2019.
  2. "Tumbbad is visually mesmerising gibberish". Deccan Herald (अंग्रेज़ी में). 19 October 2018.
  3. "Hope films I make become mainstream, says Anand Gandhi". The Week (Indian magazine) (अंग्रेज़ी में). 18 October 2018. मूल से 5 नवंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 जुलाई 2020.
  4. Farooqui, Maryam (22 October 2018). "Success of horror flicks like Stree and Tumbbad an indication of the genre's commercial viability". Moneycontrol.com. मूल से 6 November 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 January 2019.