तुक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कविताओं में अथवा छंद में ये आवश्यक होता है कि दो पंक्तियों के अन्तिम वर्णों का मिलान हो। उसी के आधार पर इसे कविता कहते हैं अन्यथा ये कविता न होती। इन अन्तिम वर्णों को जो आपस में मेल खाते हैं "तुक" कहते हैं।