डोपिगं

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

जैसा की हम जानते हैं कि सेमीकंडक्टर को हम चालक या अर्धचालक किसी भी रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन शुद्ध रूप में एक सेमीकंडक्टर एक कुचालक के तरह काम करता है। शुद्ध रूप का मतलब है कि उसके बाहरी ऑर्बिट में पुरे चार एलेक्ट्रोंस रहते है जैसा कि आप यहाँ देख सकते हैं। इस तरह के सेमीकंडक्टर को हम इंट्रीसिक सेमीकंडक्टर कहते हैं। एक इंट्रीसिक सेमीकंडक्टर को हम दोनों तरह से इस्तेमाल नहीं कर सकते. इसे चालक और कुचालक दोनों तरह से इस्तेमाल करने के लिए हमें इसमें कुछ अशुद्धता मिलानी पड़ती हैं। इस तरकीब को हम डोपिंग कहते हैं। हम इसमें दो तरह कि इम्पुरिटी मिला सकते हैं ट्राईवलेंट या पेंटावलेंट. जिस इम्पुरिटी के बाहरी ऑर्बिट में तीन एलेक्ट्रोंस रहते है उसे हम ट्राईवलेंट इम्पुरिटी कहते हैं और जिसके बाहरी ऑर्बिट में पांच एलेक्ट्रोंस रहते है उसे हम पेंटावलेंट इम्पुरिटी कहते है। जब हम किसी इंट्रीसिक सेमीकंडक्टर में इम्पुरिटी मिला देते हैं तो वो एक्सट्रीसिक सेमीकंडक्टर कहलाता है।