डोड्डा वीरा राजेंद्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
डोड्डा वीरा राजेंद्र
कुर्ग का राजा
कूर्ग साम्राज्य का राजा
शासनावधि१७८० - १८०९
पूर्ववर्तीलिंग राजा - I
उत्तरवर्तीलिंग राजा - II
निधन१८०९
समाधि
मरकारा (मदिकेरी)
जीवनसंगीमहादेवम्मा
पितालिंग राजा - I
धर्महिंदू धर्म

डोड्डा वीरा राजेंद्र १७८० से १८०९ तक कूर्ग साम्राज्य के शासक थे। उन्हें टीपू सुल्तान, मैसूर के राजा के कब्जे से राज्य को मुक्त करने के लिए कूर्ग इतिहास का नायक माना जाता है। बाद में उन्होंने टीपू सुल्तान के खिलाफ लड़ाई में अंग्रेजों की सहायता की।[1]

प्रारंभिक जीवन और निर्वासन[संपादित करें]

डोड्डा वीरा राजेंद्र के बचपन के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। १७८० में, जब डोड्डा वीरा राजेंद्र अभी भी युवा थे, उनके पिता और कुर्ग साम्राज्य के शासक लिंग राजा की मृत्यु हो गई। मैसूर के राजा हैदर अली ने इसे एक अवसर के रूप में देखा और कूर्ग साम्राज्य पर कब्जा कर लिया, जब तक कि उन्होंने कहा, "राजकुमार (डोड्डा वीरा राजेंद्र और उनके भाई) उम्र के होंगे"। सितंबर १७८२ में, राजकुमारों को गरुरु भेज दिया गया। अपने राजकुमारों के निर्वासन से क्रोधित होकर, कूर्गों ने विद्रोह कर दिया और स्वतंत्रता की घोषणा की। इसके तुरंत बाद दिसंबर १७८२ में, हैदर अली की पीठ में कैंसर के विकास के कारण मृत्यु हो गई और उसका बेटा टीपू राजा बन गया। टीपू ने कूर्ग शाही परिवार को पेरियापटना भेजा और कूर्ग और अन्य क्षेत्रों पर कब्जा करने के लिए आगे बढ़ा। दिसंबर १७८८ में, डोड्डा वीरा राजेंद्र पेरियापटना से भाग निकले और १७९० तक कूर्ग के लोगों को उनकी स्वतंत्रता के लिए लड़ने के लिए लामबंद किया।[1][2]

मैसूर साम्राज्य के खिलाफ लड़ाई[संपादित करें]

डोड्डा वीरा राजेंद्र ने मैसूर की कब्जे वाली सेना को बिसली घाट से मनंतोडी तक हटा दिया और मैसूर साम्राज्य के क्षेत्रों में लूटपाट अभियान का नेतृत्व किया। प्रतिशोध में, टीपू सुल्तान ने अपने जनरलों गोलम अली और बुरान-उद-दीन के नेतृत्व में उसके खिलाफ दो सेनाए भेजी, लेकिन डोड्डा वीरा राजेंद्र ने दोनों हरा दिया। जून १७८९ में, उसने कुशालनगर के किले को और फिर अगस्त में बेप्पुनाद के किले को नष्ट कर दिया। इसके बाद उन्होंने भागमंडल के किले पर कब्जा किया। इसके बाद, उन्होंने अमारा सुल्या को पकड़ लिया।[1][2]

डोड्डा वीरा राजेंद्र की सफलताओं को देखते हुए, ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की सरकार ने उन्हें अक्टूबर १७९० में टीपू सुल्तान के खिलाफ एक गठबंधन की पेशकश की। मैसूर साम्राज्य में एक शक्तिशाली प्रतिद्वंद्वी का सामना करते हुए, डोड्डा वीरा राजेंद्र ने अंग्रेजों का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया।[1][2]

चिंतित होकर टीपू ने जनरल खादर खान के नेतृत्व में एक और सेना भेजी, जिसे भी डोड्डा वीरा राजेंद्र ने हरा दिया। इसके बाद, मर्कारा भी डोड्डा वीरा राजेंद्र के कब्ज़े में आ गया।[1][2]

डोड्डा वीरा राजेंद्र ने ब्रिटिश बॉम्बे आर्मी को टीपू सुल्तान की राजधानी श्रीरंगपटना के रास्ते में कूर्ग से गुजरने की अनुमति दी। उन्होंने ४ मई १७९९ को टीपू सुल्तान की मृत्यु तक, अंग्रेजों के खिलाफ उनकी लड़ाई में सहायता की।[1][2]

काम[संपादित करें]

डोड्डा वीरा राजेंद्र ने एक साहित्यिक कृति 'राजेंद्रनाम' का संकलन किया, जो १६३३ से १८०७ तक कूर्ग शासकों के इतिहास को दर्ज करता है।[1]

उन्होंने १७९२ में विराजपेट शहर की स्थापना की।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Rice, Benjamin Lewis (1878). Mysore and Coorg, a gazetteer. पृ॰ 100. अभिगमन तिथि 28 June 2018.
  2. Mögling, Herrmann (1855). Coorg Memoirs. पृ॰ 222. अभिगमन तिथि 28 June 2018.
  3. "A melting pot of cultures". Deccan Herald. 19 December 2011. मूल से 24 February 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 February 2017.